एसीबी मुख्यालय पहुंचे रिटायर्ड आइपीएस भैरोसिंह गुर्जर

आरएएस भर्ती परीक्षा -2018 के साक्षात्कार में 23 लाख रुपए रिश्वत लेकर अधिक अंक दिलाने का मामला,
भैरोसिंह बोले : टोल पर आने-जाने के दौरान नरेन्द्र पोषवाल से हुई पहचान हुई, कमरा नंबर 203 में हुई पूछताछ

By: suresh bharti

Updated: 23 Jul 2021, 02:12 AM IST

Ajmer अजमेर. राजस्थान लोक सेवा आयोग (आरपीएससी) सदस्य राजकुमारी गुर्जर के पति रिटायर्ड आइपीएस भैरोंसिंह गुर्जर गुरुवार सुबह 11 बजे वकील के साथ एसीबी मुख्यालय पहुंचे। यहां पर दूसरी मंजिल पर स्थित कमरा नंबर 203 में अनुसंधान अधिकारी बजरंग सिंह शेखावत के समक्ष अकेले ही पेश हुए, जहां उनसे आरपीएससी रिश्वत मामले में पूछताछ हुई। आरएएस साक्षात्कार में नम्बर दिलाने के बहाने रिश्वत लेते कर्मचारी के गिरफ्तार होने के बाद एसीबी ने नोटिस देकर भैरोंसिंह को तलब किया था।

ढाई-तीन घंटे पूछताछ

डीजी बीएल सोनी ने बताया कि गिरफ्तार लेखाकार सज्जन सिंह और खुद को भैरोंसिंह का निजी सचिव बताने वाले नरेन्द्र पोषवाल से पूछताछ में जो तथ्य सामने आए, उनके संबंध में भैरोंसिंह से पूछताछ की गई। ढाई-तीन घंटे पूछताछ चली। इसके बाद उन्हें जरूरत होने पर एसीबी में उपस्थित होने के लिए पाबंद कर जाने दिया।

उससे कोई लेना देना नहीं

सूत्रों के मुताबिक भैरोंसिंह ने रिश्वत प्रकरण को लेकर कहा कि उससे कोई लेना देना नहीं है। एसीबी को बताया कि नरेन्द्र पोषवाल उनका निजी सचिव नहीं रहा। वह सिकंदरा टोल पर रहता था, आने जाने के दौरान उससे मुलाकात होती थी। एसीबी उनके बताए तथ्यों की तस्दीक कर रही है। एसीबी के भैरोंसिंह गुर्जर के जयपुर व अजमेर आवास पर 14 जुलाई को नोटिस चस्पा कर तलब किया था।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned