मुख्तार अंसारी को कभी भी यूपी लाया जा सकता है, प्रयागराज कोर्ट पहुंचा शिफ्ट करने का आदेश

  • मुख्तार अंसारी पर योगी के मंत्री का हमला, कहा-बकरे की अम्मा बहुत दिनों तक खैर नहीं मना पाएगी

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
प्रयागराज/गाजीपुर. पिछले दो साल से अधिक समय से पंजाब की रोपण जेल में बंद बाहुबली मुख्तार अंसारी को कभी भी यूपी लाया जा सकता है। उन्हें बांदा जेल में रखा जाएगा या किसी और जेल में इसपर फैसला एमपी एमएलए कोर्ट को फैसला लेना है। हालांकि पंजाब जाने से पहले वह बांदा जेल में ही बंद थे। मुख्तार को पंजाब से यूपी शिफ्ट किये जाने की काॅपी प्रयागराज कोर्ट पहुंच गई है। मुख्तार को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पंजाब की जेल से यूपी को सौंपा जा रहा है। इसके पहले पंजाब जेल प्रशासन खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर मुख्तार को यूपी की भेजने से इनकार करता रहा है। अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुख्तार की मुश्किलें और बढ़ गई हैं।

इसे भी पढ़ें- 24 थानों में मुख्तार अंसारी पर दर्ज हैं 52 मुकदमे

उम्मीद है कि एक दो दिन में शायद कोर्ट इसपर फैसला ले ले कि मुख्तार को किस जेल में रखा जाए। कोर्ट इस बारे में सरकारी अधिवक्ता और मुख्तार के वकील से राय भी ले सकती है। हालांकि उनके नैनी जेल में रखे जाने की भी उम्मीद जतायी जा रही है। बताते चलें कि मुख्तार के नैनी जेल में शिफ्ट किये जाने की आशंका को लेकर कभी उनके खास रहे मऊ से बसपा सांसद अतुल राय ने अपनी जान को खतरा बताते हुए मुख्तार को नैनी सेंट्रल जेल के बजाय कहीं और शिफ्ट करने की गुहार सरकार और यूपी पुलिस से लगाई है। अतुल राय पर बलात्कार का आरोप है और वह नैनी में बंद हैं। अतुल ने अपने पत्र में कहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बसपा ने मुख्तार के बेटे की जगह उन्हें टिकट दिया और वह सांसद बने। इसके बाद मुख्तार और उनके करीबी ने साजिश के तहत उन्हें रेप के झूठे मुकदमे में फंसा दिया।

 

उधर योगी सरकार के मंत्री और भाजपा नेता मुख्तार अंसारी को यूपी लाकर कठोर दंड दिलाने की बात कह रहे हैं तो दूसरी ओर अंसारी परिवार को डर है कि सरकार मुख्तार अंसारी को जेल शिफ्ट करने के दौरान इनकाउंटर करवा सकती है। मुख्तार की पत्नी अफशां अंसारी ने पति की जान को खतरा जताते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर उनकी सुरक्षा सुनिश्चित कराने की मांग की है। भाई सांसद अफजाल अंसारी ने भी योगी सरकार की मंशा पर शक जताया है। दूसरी ओर योगी सरकार के मंत्री और गाजीपुर के प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा है कि बकरे की अम्मा कबतक खैर मनाएगी।

 

बताते चलें कि योगी सरकार की लगातार ताबड़तोड़ कार्रवाई में पूर्वंचल से लेकर लखनऊ तक मुख्तार अंसारी के साम्राज्य को करीब 192 करोड़ की चोट पहुंचा चुकी है। लखनऊ में मुख्तार का करोड़ों की जमीन पर बना घर, गाजीपुर में करोड़ों का होटल ध्वस्त कर दिया तो मऊ व गाजीपुर, जौनपुर, वाराणसी आदि जिलों में मुख्तार परिवार, उनके करीबियों, गैंग के सदस्यों के जमीन और मछली कारोबार की कमर तोड़ दी है। मछली कारोबार से करीब 33 करोड़ की आमदनी होती थी। इसके अलावा परिवार, करीबियों और गैंग के लोगों के 94 असलहा लाइसेंस निरस्त कर 71 जमा कराए गए हैं। उनके शूटरों व ठेकेदारों पर भी कार्रवाई की जा रही है। 11 सहयोगियों को जिला बदर किया जा चुका है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned