अलवर: नाबालिग से बलात्कार और फिर उसके पिता की मौत, पीड़िता के भाई ने IG के सामने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

अलवर जिले के एक क्षेत्र में नाबालिक से बलात्कार के मामले में पीड़िता के भाई ने पुलिस पर आरोप लगाए हैं

By: Lubhavan

Updated: 26 Jun 2020, 12:57 PM IST

अलवर. जिले के ग्रामीण क्षेत्र में छेड़छाड़ और बलात्कार पीडि़ता के पिता की संदिग्ध परिस्थतियों में मौत मामले में गुरुवार को जयपुर रेंज आईजी एस सेंगाथिर पीडि़त परिवार के घर पहुंचे। इस दौरान पीडि़ता की मां बोली कि उसकी बेटी और पति के साथ जो अन्याय हुआ है, उसके लिए उसे न्याय चाहिए। वहीं, पीडि़ता के भाई ने थाने के कुछ पुलिसकर्मी बिके होने का आरोप लगाया। इस पर आईजी सेंगाथिर ने पीडि़त परिवार को सांत्वना देते हुए उचित कार्रवाई और परिवार की सुरक्षा का भरोसा दिलाया।

जिले के ग्रामीण क्षेत्र के एक गांव में गत दिनों एक नाबालिग लडक़ी ने कुछ युवकों द्वारा छेड़छाड़ और बलात्कार करने से परेशान होकर कुएं में कूदकर आत्महत्या का प्रयास किया। मामले में पीडि़ता के भाई ने थाने में 18 जून को रिपोर्ट दी, लेकिन पुलिस ने लापरवाही करते हुए दो दिन देरी से 20 जून को घटना की एफआइआर दर्ज की। मामले में पुलिस ने पहले आरोपी युवकों को शांतिभंग में गिरफ्तार किया तथा बाद में एक युवक को मामले में गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। इस मामले ने बुधवार को नया मोड़ ले लिया। नाबालिग पीडि़ता के पिता का शव संदिग्ध परिस्थितियों में जंगल में पेड़ से लटका मिला। इस मामले में मृतक के पुत्र ने थाने में मामला दर्ज कराया कि उसकी बहन से छेड़छाड़ और बलात्कार करने के आरोपी उसके परिवार पर राजीनामे के लिए दबाव बना रहे थे और धमकी दे रहे थे। राजनीतिक दबाव के कारण पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। जिसके कारण उनके हौंसले बुलंद हो गए। इन्हीं आरोपियों ने गला दबाकर उसके पिता की हत्या कर शव पेड़ से लटका दिया।

मामला गरमाने पर गुरुवार को जयपुर रेंज आईजी एस सेंगाथिर क्षेत्र में पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया और फिर पीडि़ता के घर पहुंचकर परिजनों से घटना के बारे में जानकारी ली। पीडि़ता की मां ने आईजी के सामने न्याय की गुहार की। वहीं, पीडि़ता के भाई ने आईजी के सामने कहा कि गत दिनों उसकी बहन के साथ बलात्कार हुआ। पुलिस प्रशासन अगर समय पर कार्रवाई करता तो आज उसके पिता की हत्या नहीं होती। पुलिस प्रशासन की लापरवाही के कारण ऐसा हुआ है। पीडि़ता के भाई ने पुलिस थाने के कुछ पुलिसकर्मियों पर बिके होने का आरोप भी लगाया। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) शिवलाल बैरवा, डीएसपी (दक्षिण) दीपक शर्मा सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

आरोपियों की दूसरे दिन भी नहीं हुई गिरफ्तारी

छेड़छाड़ व बलात्कार पीडि़ता के पिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत मामले में परिजनों की रिपोर्ट पर स्थानीय थाना पुलिस ने कुछ लोगों के खिलाफ हत्या का मामला तो दर्ज कर लिया, लेकिन मामले में दूसरे दिन गुरुवार को भी किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई।

पीडि़त परिवार पर राजनीतिक दबाव : आहूजा

इधर, इस मामले में रामगढ़ के पूर्व विधायक एवं भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष ज्ञानदेव आहूजा ने पीडि़त परिवार को फोन पर सांत्वना दी। इसके बाद आहूजा ने कहा कि मामले में पीडि़त परिवार पर राजनीतिक दवाब बनाया जा रहा है और मामले में राजनीति की जा रही है। आहूजा ने कहा कि पुलिस प्रशासन मामले में उचित कार्रवाई करे, जिससे पीडि़त परिवार को इंसाफ मिल सके। कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन किया जाएगा।

पोस्टमार्टम और एफएसएल रिपोर्ट का इंतजार

मामले में गुरुवार को पुलिस महानिरीक्षक एस सेंगाथिर ने घटनास्थल का जायजा लिया और पीडि़त परिवार को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। मामले में जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम और एफएसएल रिपोर्ट आने का इंतजार है। जिसके आधार पर मामले की गहनता से जांच की जाएगी और आरोपियों के खिलाफ उचित कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
- दीपक शर्मा, डीएसपी (दक्षिण), अलवर।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned