scriptCouncilor with dosa:public service in morning and made dosa in evening | पूरा शहर खाता है पार्षद के हाथ का बना डोसा, सुबह जनसेवा तो शाम को बनाती हैं लजीज डोसा | Patrika News

पूरा शहर खाता है पार्षद के हाथ का बना डोसा, सुबह जनसेवा तो शाम को बनाती हैं लजीज डोसा

Councilor with Dosa: बीए के बाद एलएलबी (LLb) तक की पढ़ाई, चुनाव जीतने (Win Election) के बाद भी बंद नहीं किया आजीविका का साधन, बच्चे की परवरिश के साथ पति के कंधे से मिलाकर चल रही कंधा, शहरभर के लोग पसंद करते हैं पार्षद के हाथ का बना डोसा (Dosa)

अंबिकापुर

Updated: May 19, 2022 07:35:15 pm

अंबिकापुर. Councilor with Dosa: एक मां, पत्नी व बहन से लेकर महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपना लोहा मनवाया है। घर, परिवार की जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए महिलाएं जनसेवा, ऑफिस वर्क, बिजनेस समेत अन्य कामकाज भी संभाल रही हैं। दिनभर काम कर थकने के बाद भी अगली सुबह नई ऊर्जा के साथ शुरुआत करती हैं। कई महिलाओं ने संघर्ष के दम पर जहां अलग मुकाम पाया है तो कई अब भी हर दिन संघर्ष कर रही हैं। ऐसी ही संघर्ष की मिसाल शहर की अनिता रविंद्र भारती ने पेश किया है। वे अंबिकापुर निगम में पार्षद (Councilor) हैं। सुबह वे जनसंपर्क करती हैं तो शाम को ग्राहकों के लिए डोसा बनाती हैं। उनके पति रविंद्र गुप्त भारती पूर्व पार्षद हैं, जो ग्राहकों को सर्विस देते हैं। टेस्टी डोसा के साथ पति-पत्नी इतने व्यवहार कुशल हैं कि शहरभर के लोग वहां खिंचे चले आते हैं।
Councilor with Dosa
Councilor Anita Ravindra Bharati made Dosa

शहर के माता राजमोहिनी देवी वार्ड की पार्षद अनिता रविंद्र भारती की पहचान आज ‘डोसे वाली पार्षद’ के रूप में भी है। बीए व एलएलबी कर चुकीं पार्षद के पति रविंद्र गुप्त भारती भी पार्षद रह चुके हैं। पार्षद अनिता रविंद्र भारती ने वर्ष 2015 से पति के दोसे के व्यवसाय में हाथ बंटाना शुरु किया था।
आज वे खुद ग्राहकों के लिए डोसा बनाती हैं, पति कस्टमर्स को सर्विस प्रदान करते हैं। पति-पत्नी की व्यवहार कुशलता ने शहर में एक अलग ही छवि बनाई है, इस कारण शहर के लोगों की भीड़ दोसा का आनंद लेने टूट पड़ती है।

चुनाव जीतीं पर बंद नहीं किया व्यवसाय
वर्ष 2015 में अनिता रविंद्र भारती ने दोसा बनाना शुरु किया था। इस समय उनकी आजीविका का एकमात्र साधन उनका व्यवसाय ही था। वर्ष 2018 में अपने वार्ड से उन्होंने चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। चुनाव जीतने के बाद भी उन्होंने दोसे का व्यवसाय बंद नहीं किया।
इस संबंध में पार्षद अनिता रविंद्र भारती ने बताया कि शुरु में थोड़ी झिझक हुई कि पार्षद बनने के बाद दोसा बनाऊंगी तो लोग क्या कहेंगे, लेकिन मन में ये ठान लिया कि मुझे कुछ अलग कर के दिखाना है। पति का व्यवसाय भी चलाऊंगी और जनता की सेवा भी करूंगी। आज मैं वो काम बखूबी निभा रही हूं, पति के कंधे से कंधा मिलाकर मैं काफी खुश हूं।
सुबह से शाम 4 बजे तक जनसंपर्क करती हूं और शाम 5 बजे से ग्राहकों के लिए दोसा बनाती हूं। पति का भी मुझे पूरा सपोर्ट मिलता है, इनके मोटिवेशन से ही मैं ये सब कर पा रही हूं।
Dosa wali parshad
IMAGE CREDIT: Councilor Anita Ravindra Bharati
लोगों को पसंद आता है टेस्ट
पार्षद अनिता रविंद्र भारती के हाथों का बना दोसा, सांभर व चटनी लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है। अंबिकापुर-बनारस मार्ग पर दोसा जोन के नाम से उनका व्यवसाय संचालित है। वे एक साथ 8 दोसा बना लेती हैं, दुकान में कितनी भी भीड़ हो, कुछ ही मिनटों में ग्राहकों के टेबल पर दोसा पहुंच जाता है। इस संबंध में पार्षद के पति का कहना है कि दोसा बनाने हम कर्मचारी भी रख सकते हैं लेकिन ग्राहकों को इनके हाथ का बना दोसा ही पसंद है।
यह भी पढ़ें
एसपी ने 21 पुलिस ऑफिसरों का किया ट्रांसफर तो नाराज हो गए 2 विधायक, कहा- हमसे पूछा क्यों नहीं


बखूबी निभा रहीं मां का फर्ज
पार्षद अनिता रविंद्र भारती एक पत्नी व जनसेवक के साथ ही मां का फर्ज भी बखूबी निभा रही हैं। उनका पुत्र 8 साल का हो चुका है। घर में परवरिश के साथ ही वे दोसा बनाने के दौरान भी उसका पूरा ध्यान रखती हैं। पार्षद का कहना है कि जब पुत्र छोटा था तो उसे संभालने व साथ-साथ व्यवसाय संचालित करने में परेशानी होती थी लेकिन धीरे-धीरे दोनों के बीच तालमेल बैठा लिया।

करते हैं जनसेवा के अन्य काम
पार्षद अनिता व उनके पति रविंद्र गुप्त भारती जनसेवा के अन्य काम भी करते हैं। उनके द्वारा सेवा प्रकल्प अभियान भी चलाया जा रहा है। इसके तहत वे किसी के भी बुजुर्ग माता-पिता का अपने हाथों से पैर धोते हैं और उन्हें शॉल-श्रीफल भेंट कर उनका आशीर्वाद लेते हैं। इसके अलावा तपती गर्मी के दिनों में चलता प्याऊ चलाकर भी लोगों की प्यास बुझा चुके हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

IND vs ZIM: शिखर धवन और शुभमन गिल की शानदार बल्लेबाजी, भारत ने जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हरायाकौन हैं IAS राजेश वर्मा, जिन्हें किया गया राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का सचिव नियुक्त?पटना मेट्रो रेल के भूमिगत कार्य का CM नीतीश कुमार ने किया उद्घाटन, तेजस्वी यादव भी रहे मौजूदMaharashtra Suspected Boat: रायगढ़ में मिली संदिग्ध नाव और 3 AK-47 किसकी? देवेंद्र फडणवीस ने किया बड़ा खुलासाBihar News: राजधानी पटना में फिर गोलीबारी, लूटपाट का विरोध करने पर फौजी की गोली मारकर हत्यादिल्ली हाईकोर्ट ने फ्लाइट में कृपाण की अनुमति देने पर केंद्र और DGCA को जारी किया नोटिसSSC Scam case: पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी 14 दिन की न्यायिक हिरासत पर भेजे गए, 31 अगस्त को अगली पेशीRohingya Row: अनुराग ठाकुर का AAP पर आरोप, राष्ट्र सुरक्षा से समझौता कर रही दिल्ली सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.