महिला सांसदों पर टिप्पणी कर बुरे फंसे डोनाल्ड ट्रंप, लगा नफरत फैलाने का आरोप

महिला सांसदों पर टिप्पणी कर बुरे फंसे डोनाल्ड ट्रंप, लगा नफरत फैलाने का आरोप

Mohit Saxena | Updated: 16 Jul 2019, 10:47:22 PM (IST) अमरीका

  • Trump Racist Attack: अमरीकी राष्ट्रपति के आपत्तिजनक बयान पर खफा डेमोक्रेटिक महिला सांसद
  • ट्रंप ने ट्वीट कर सांसदों से अमरीका छोड़कर अपने 'अपराध ग्रस्त ' देशों में लौट जाने के लिए कहा था

वाशिंगटन। तीन डेमोक्रेट महिला सांसदों के ऊपर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कथित नस्लीय टिप्पणी के बाद अमरीका में उठा बवाल शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। डेमोक्रेटिक कांग्रेस की महिला सदस्यों ने मीडिया के समाने आकर आपत्ति जाहिर की है। उन्होंने अमरीका जैसे महान देश में इस तरह के बयान को चौकाने वाला बताया है। उन्होंने कहा कि यहां सदियों से अप्रवासी लोगों का विशेषाधिकार रहा है।

निशाने पर डोनाल्ड ट्रंप

महिला सांसदों का कहना है कि ट्रंप देश में नफरत फैलाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह देश महिलाओं को अवसर प्रदान करने वाला देश है। उन्होंने ट्रंप के "श्वेत राष्ट्रवादियों के एजेंडे" को खारिज कर दिया। गौरतलब है कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अश्वेत महिला सांसदों पर रविवार को बेहद आपत्तिजनक नस्लीय टिप्पणी की थी। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि वे अमरीका छोड़कर अपने उजड़े और अपराध ग्रस्त देशों में लौट जाएं, जहां से वे आई हैं।

विवादों में फंसे अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, महिला कांग्रेस सदस्यों को अपने देश वापस जाने की सलाह

democrate

महिला सांसदों ने खोला मोर्चा

न्यूयॉर्क की एलेक्जेंड्रिया ओकासियो कॉर्टेज, मिनिसोटा की इल्हान उमर , मिशिगन की राशिदा तलिब और मैसाचुसेट्स की अयाना प्रेस्ली ने मीडिया सामने अपनी बात रखी। आरोप है कि ट्रंप ने रविवार को ट्वीट करके महिला डेमोक्रेटिक सांसदों का हवाला देते हुए यह टिप्पणी अश्वेत महिला सांसदों को निशाना बनाकर की थी। राष्ट्रपति की इस टिप्पणी को लेकर विवाद पैदा हो गया है।

उधर डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति उम्मीदवारों और वरिष्ठ सांसदों ने नस्लीय और घृणा से भरे इस टिप्पणी के लिए ट्रंप की आलोचना की।

ईरान-अमरीका परमाणु समझौते पर सवाल, ट्रंप-ओबामा कितने जिम्मेदार?

राष्ट्रपति पर देश को बांटने का आरोप

इस मौके पर ओकासियो कॉर्टेज ने कहा कि वह इस देश के बच्चों को वह सही राह दिखाना चाहतीं हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता कि राष्ट्रपति क्या कहते हैं, यह देश आपका है और यह सभी का है।

ट्रम्प को कमजोर दिमाग का नेता बताते हुए महिला सांसदों ने कहा कि वह बहस करने से बचने के लिए हमारे देश के प्रति वफादारी को चुनौती दे रहे हैं। महिला सांसद इल्हान उमर ने कहा कि अमरीकी राष्ट्रपति के इस बयान से वे दुखी हैं। उनकी यह हरकत नाजी शासन की याद दिलाती है। काले और गोरे का भेद कर राष्ट्रपति देश को बांटना चाहते हैं।


विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned