मुलर रिपोर्ट पर अमरीका में चढ़ा सियासी पारा, ट्रंप ने माना- रूस ने की थी मदद, फिर बयान से पलटे

मुलर रिपोर्ट पर अमरीका में चढ़ा सियासी पारा, ट्रंप ने माना- रूस ने की थी मदद, फिर बयान से पलटे

Anil Kumar | Publish: May, 31 2019 01:57:56 AM (IST) | Updated: May, 31 2019 08:15:08 AM (IST) अमरीका

  • अमरीकी चुनाव 2016 में रूसी सरकार के हस्तक्षेप का आरोप है।
  • विशेष वकील रॉबर्ट मुलर ने 22 महीने जांच करने के बाद ट्ंप को दोषी माना है।
  • डोनाल्ड ट्रंप ने सभी आरोपों से इनकार किया है।

वाशिंगटन। अमरीका ( America ) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( Donald Trump ) ने इस बात को स्वीकार किया कि 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूस ने उनकी मदद की थी। हालांकि एक घंटे बाद फौरन अपने बयान से पलटते हुए ट्रंप ने अपने बयान को खारिज कर दिया और कहा कि रूस ( Russia ) ने राष्ट्रपति बनने में उनकी मदद नहीं की थी। ट्रंप ने कहा कि विशेष वकील रॉबर्ट मुलर की रिपोर्ट पर लोगों के हजारों ट्वीट और उस अवधारणा के आधार पर उन्होंने कहा कि 2016 में रूस ने उनके राष्ट्रपति बनने पर मदद की थी। गरुवार को ट्रंप ने ट्वीट करते हुए लिखा 'रूस, रूस, रूस!’ उन्होंने आगे कहा कि आप सभी ने अभी सुना है और अब रूस ने इसमें नहीं है, क्योंकि मैंने पहले भी कहा था कि रूस ने मुझे चुनाव जीताने में कोई मदद नहीं की है। व्हाइट हाउस में एक प्रेस वार्ता में बोलते हुए ट्रंप ने कहा कि एक राष्ट्रपति के तौर पर मैंने पहले भी कहा है कि रूस ने 2016 के चुनाव में हस्तक्षेप नहीं किया था। रूस ने मुझे चुनाव जिताने में मदद नहीं की। आप सभी को पता है मुझे किसने जिताया है। मुझे चुना गया है, रूस ने कोई मदद नहीं की है। ट्रंप ने मुलर रिपोर्ट को पूरी तरह से विवादित बताया है।

ट्रेड वॉर को लेकर हमलावर हुआ चीन, कहा- खुले आर्थिक आतंकवाद पर उतरा अमरीका

म्यूलर रिपोर्ट पर छिड़ा है विवाद

बता दें कि बुधवार को विशेष वकील रॉबर्ट म्यूलर ( Robert Mueller ) ने अपने एक बयान में कहा कि दो साल की जांच के बाद उन्होंने पाया कि रूसी सरकार ने माना ट्रंप के राष्ट्रपति बनने से उन्हें फायदा मिलेगा, इसलिए ट्रंप को जिताने के लिए काम किया गया। म्यूलर की रिपोर्ट भी बताती है कि रूसी सरकार ने 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में व्यापक और व्यवस्थित फैशन के तहत हस्तक्षेप किया था। रिपोर्ट में ट्रम्प और उनके चुनावी अभियान द्वारा न्याय की संभावित रुकावट के 11 उदाहरण भी दिए गए हैं। म्यूलर ने कहा कि न्याय विभाग की नीति के कारण ट्रम्प को एक अपराध के साथ चार्ज करना 'एक विकल्प नहीं था जिस पर हम विचार कर सकते हैं’। म्यूलर ने यह भी कहा कि अगर हमें विश्वास था कि राष्ट्रपति ने स्पष्ट रूप से कोई अपराध नहीं किया है, तो हमने पहले कहा होता।

 

 

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned