मंगल की सतह पर NASA के रोवर की सफल लैंडिंग, सामने आई पहली तस्वीर

  • मंगल की सतह पर NASA के रोवल ने की सफल लैंडिंग
  • सात महीने पहले इस रोवर को भेजा गया था
  • मंगल पर जीवन की संभावनाओं को खोजने में मिलेगी मदद

By: धीरज शर्मा

Published: 19 Feb 2021, 08:53 AM IST

नई दिल्ली। अमरीकी स्पेस एजेंसी नासा ( NASA ) के Perseverance रोवर ने शुक्रवार को मंगल ग्रह की सतह पर सफलतापूर्वक लैंड कर लिया। अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी ने रात करीब 2.30 बजे अपने मार्स पर्सिवरेंस रोवर को जेजेरो क्रेटर में सफलतापूर्वक लैंड कराया।

आपको बात दें कि 7 महीने पहले इस खास रोवर को नासा ने धरती से भेजा था। जिसकी अब सफल लैंडिंग हुई है। रोवर के लाल ग्रह की सतह पर पहुंचने के तुरंत बाद नासा ने पहली तस्वीर भी जारी कर दी।

पाकिस्तानी आतंकियों की एक और साजिश हुई नाकाम, सेना के जवानों ने बरामद किया बड़ी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद

m1.jpg

जीवन की संभावनाएं खोजेगा
छह पहिए वाला यह रोवर मंगल ग्रह पर उतरकर वहां पर कई तरह की जानकारी जुटाएगा और ऐसी चट्टानें लेकर आएगा, जिनसे इन सवालों का जवाब मिल सकेगा कि क्या कभी लाल ग्रह पर जीवन था।

आसान नहीं थी लैंडिंग
नासा के रोवर के लाल ग्रह की सतह पर पहुंचने की पूरी प्रक्रिया आसान नहीं थी। लैंडिंग से पहले रोवर को उस दौर से भी गुजरना पड़ा, जिसे 7 मिनट का आतंक या टेरर ऑफ सेवन मिनट्स कहा जाता है।

इस दौरान रोवर की गति 12 हजार मील प्रति घंटा थी और वह मंगल के वायुमंडल में प्रवेश कर चुका था। ऐसे समय में घर्षण से बढ़े तापमान के कारण रोवर को नुकसान पहुंचने की संभावना बेहद ज्यादा थी।

दुर्गम इलाका है जेजेरो क्रेटर
जेजेरो क्रेटर मंगल ग्रह का अत्यंत दुर्गम इलाका है। यहां पर गहरी घाटियां, और तीखे पहाड़ हैं। इसके साथ ही यहां पर रेत के टीले और बड़े बड़े पत्थर इसको और भी खतरनाक बना देते हैं। ऐसा माना जाता है कि जेजेरो क्रेटर में पहले नदी बहती थी। जो कि एक झील में जाकर मिलती थी। इसके बाद वहां पर पंखे के आकार का डेल्टा बन गया. वैज्ञानिक इसके जरिए ये पता लगाने की कोशिश करेंगे कि क्‍या मंगल ग्रह पर कभी जीवन था।

महाराष्ट्र समेत देश के 5 से ज्यादा राज्यों में अगले कुछ घंटों में बारिश बढ़ा सकती है मुश्किल, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

दुनिया का पहला देश बना अमरीका
रोवर के मंगल ग्रह पर उरने के साथ ही अमरीका मंगल ग्रह पर सबसे ज्यादा रोवर भेजने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है।

वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि रोवर से दर्शनशास्त्र, धर्मशास्त्र और अंतरिक्ष विज्ञान से जुड़े मुख्य सवालों के जवाब मिल सकते हैं।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned