अमेजन के खिलाफ महिला कर्मियों ने भेदभाव का लगाया आरोप, कहा- गर्भवती होने पर नौकरी से निकाला

  • महिलाओं ने अमेजन के खिलाफ मुकदमा दायर किया
  • कहा, अमेजन ने जानबूझकर नौकरी से निकाला
  • पहले भी कर्मियों से खराब व्यवहार की शिकायत आ चुकी है

By: Mohit Saxena

Updated: 08 May 2019, 09:54 AM IST

वाशिंगटन। अमेज़न में कर्मचारी रहीं कुछ महिलाओं ने कंपनी के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। उनका आरोप है कि बीते आठ सालों में कंपनी ने काम करने वाली गर्भवती महिला कर्मचारियों के खिलाफ भेदभाव किया है। महिलाओं का कहना है कि गर्भवती होने के कारण उनके साथ भेदभाव किया गया। गर्भवती होने के कारण उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया।

दुनिया के मध्य पूर्व में हिंसा का नया दौर, इजरायल के आगे कब तक टिका रहेगा गाजा

काम करने की गति धीमी हो गई

एक महिला बेवर्ली रोसेल्स ने आरोप लगाया कि जनवरी में उनके बॉस ने उसे टोकना शुरू कर दिया कि वह बाथरूम मेंं ज्यादा टाइम लेती है, उसके काम करने की गति धीमी हो गई है। रिपोर्ट के अनुसार उसने बताया कि अमेजन चाहता है कि कर्मचारियों से ज्यादा से ज्यादा काम लिया जाए। उनको नंबर्स से ज्यादा मतलब है। उसे कर्मचारियों से कोई मतलब नहीं है। हालांकि प्रबंधन और कुछ महिला कर्मियों को कहना कि उसे कोई भेदभाव नहीं हुआ। सभी के साथ समानता का व्यवहार किया जाता है। यहां सभी कर्मचारियों की मेडिकल ज़रूरतों का ख्याल रखा जाता है और सभी कर्मचारियों की मैटरनिटी और पैटरनल जरूरतों को ध्यान रखते हैं। गौरतलब है कि इससे पहले भी अमेज़न पर अपने कर्मचारियों पर खराब व्यवहार का आरोप लगता रहा है। कंपनी ने उस वक्त अपनी बेहतर छवि बनाने की कोशिश की थी, कई तरह की सुविधाएं मुहैया कराने की बात कही थी।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned