scriptChina claim that he had no given permission to talk in COP 26 by UN | COP-26 Summit में चीन को नहीं मिला बोलने का मौका, गुस्साए जिनपिंग ने भेज दिया हाथ से लिखा भाषण | Patrika News

COP-26 Summit में चीन को नहीं मिला बोलने का मौका, गुस्साए जिनपिंग ने भेज दिया हाथ से लिखा भाषण

चीन की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, राष्ट्रपति शी जिनपिंग को स्कॉटलैंड में COP-26 जलवायु वार्ता के लिए एक वीडियो संबोधन का मौका नहीं दिया गया। इस वजह से चीन को अपनी लिखित प्रतिक्रिया भेजनी पड़ी है। चीन का दावा है कि उसे इस सम्मेलन में बोलने का मौका नहीं दिया गया, जिसके बाद राष्ट्रपति शी जिनपिंग को लिखित भाषण भेजना पड़ा।

 

नई दिल्ली

Published: November 02, 2021 07:04:05 pm

नई दिल्ली।

ब्रिटेन के ग्लासगो शहर में COP-26 Summit चल रहा है। कल यानी सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत दुनियाभर के तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने जलवायु परिवर्तन और इसके उपाय पर अपनी बात रखी।
jinping.jpg
वहीं, चीन का दावा है कि उसे इस सम्मेलन में बोलने का मौका नहीं दिया गया, जिसके बाद राष्ट्रपति शी जिनपिंग को लिखित भाषण भेजना पड़ा।

चीन की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, राष्ट्रपति शी जिनपिंग को स्कॉटलैंड में COP-26 जलवायु वार्ता के लिए एक वीडियो संबोधन का मौका नहीं दिया गया। इस वजह से चीन को अपनी लिखित प्रतिक्रिया भेजनी पड़ी है।
यह भी पढ़ें
-

COP-26 Summit : प्रधानमंत्री ने पेश किया जलवायु कार्रवाई का एजेंडा, कहा- भारत सहित ज्यादातर विकासशील देशों के कृषि क्षेत्र के लिए जलवायु बड़ी चुनौती

बता दें कि जिनपिंग व्यक्तिगत रूप से संयुक्त राष्ट्र की बैठक में शामिल नहीं हो रहे हैं। अपने लिखित बयान में उन्होंने सभी देशों से अपने वादों को निभाने की अपील की है और आपसी भरोसे और सहयोग को मजबूत करने की बात कही है। मामले को लेकर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने मीडिया को बताया कि जहां तक हम इसे समझते हैं सम्मेलन के आयोजकों ने वीडियो लिंक नहीं दिए।
बता दें कि ब्रिटेन ने स्कॉटलैंड के ग्लासगो में COP-26 बैठक का आयोजन किया है। इसका मकसद नेट जीरो कार्बन एमिशन के लक्ष्य को पूरा करना है। इसके साथ ही ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव को रोकने के लिए पेरिस समझौते के लक्ष्य को 1.5 डिग्री सेल्सियस तापमान बढ़ोतरी के दायरे में रखने का है।
यह भी पढ़ें
-

चीन में फिर बढ़े कोरोना केस, लग सकता है लाॅकडाऊन, सरकार ने नागरिकों को जारी किया निर्देश- घबराएं नहीं, जरूरी सामानों का स्टाक कर लें

जलवायु पर नजर रखने वालों एनालिस्ट्स और एक्सपर्ट्स ने चिंता व्यक्त की है कि शी जिनपिंग की ग्लासगो से व्यक्तिगत रूप से अनुपस्थिति का मतलब है कि चीन इस दौर की वार्ता के दौरान और रियायतें देने को तैयार नहीं है। हालांकि चीन का दावा है कि वह आने वाले सालों में कोयले पर अंकुश लगाएगा और अपनी सौर और पवन क्षमता को लगातार आगे बढ़ाएगा।
चीन और अमरीका के बीच तनावपूर्ण संबंधों के कारण अंतर्राष्ट्रीय जलवायु वार्ता पर बुरा असर पड़ रहा है। चीन ने लगातार कहा है कि आप एक चीन पर प्रतिबंध लगाकर चीन को कोयला उत्पादन में कटौती के लिए नहीं कह सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: पीएम मोदी ने किया नेताजी की भव्य होलोग्राम प्रतिमा का अनावरणभारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्र सरकारUP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोहेट स्पीच को लेकर हिन्दू संगठन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, कहा-मुस्लिम नेताओं की भी हो गिरफ्तारीUP Election 2022: बुन्देलखण्ड का सियासी समीकरण, क्या बीजेपी की जड़ों को हिला सकेंगे सपा-बसपा और कांग्रेसकोविड टीकाकरण की पहचान आपके साथ में, अब पहनों ईमूनोबैंड अपने हाथ मेंPriyanka Chopra Surrogacy baby: तस्लीमा ने वेश्यावृत्ति, बुरका से की सरोगेसी की तुलना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.