भूकंप और सुनामी के बाद इंडोनेशिया में टूटी जेल की दीवारें, फरार हुए 1200 कैदी

भूकंप और सुनामी से तीन जेलों की दीवारें टूट गई जिसकी वजह से 1200 कैदी फरार हो गए। फरार हुए कैदियों का अभी तक सुराग नहीं लगा है।

By:

Published: 01 Oct 2018, 03:53 PM IST

जकार्ताः इंडोनेशिया में भूकंप के बाद सुनामी से भीषण तबाही हुई है। एक ओर जहां सड़कों पर दरारें आ गई हैं वहीं दूसरी तरफ हजारों घर और बड़ी-बड़ी इमारतें क्षतिग्रस्त हो गई हैं। तेज भूकंप का असर जेलों पर भी पड़ा है। भूकंप और सुनामी से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों में स्थित तीन जेलों से करीब 1200 कैदी फरार हो गए हैं। भूकंप की वजह से तीनों जेलों की दीवारें टूट गई जिसका फायदा कैदियों ने उठाया। बताया जा रहा है कि जब भूकंप आया तो जेल में अफरा-तफरी का मौहाल पैदा हो गया। सुरक्षाकर्मी कैदियों को रोक पाने में असफल रहे। एक न्यायिक अधिकारी ने बताया कि सड़कों पर लोग भाग रहे थे इसी दौरान कैदी भी झुंड में भागकर आम लोगों में शामिल हो गए ऐसे में पहचान करना काफी मुश्किल काम था।

क्षमता से ज्यादा जेल में बंद थे कैदी

बताया जा रहा है कि सर्वाधिक भूकंप प्रभावित क्षेत्र पालू के कई जेलों में क्षमता से अधिक कैदी बंद हैं। जब भूकंप आया तो जेल की दीवारें गिर गई। जिसका फायदा कैदियों ने उठाया। जेल के एक अधिकारी ने बताया कि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि कैदी फरार होने की नीयत से गए हैं या फिर इस प्राकृतिक आपदा से बचने के लिए भागे हैं। फिलहाल जेल प्रशासन फरार हुए कैदियों की पहचान कर रहा है।

सामूहिक कब्र में दफनाए जाएंगे मृतक
बता दें कि इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप पर 28 सिंतबर को भूकंप आया था। 7.5 तीव्रता के भूकंप के बाद आयी सुनामी से अब तक 832 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि भूकंप में ढही इमारतों के मलबे से लोगों की तलाश के लिए खोज अभियान जारी है। विनाशकारी आपदा से 540 लोग घायल हुए जिन्हें जो अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। जबकि 16,732 लोग विस्थापित हुए हैं। भूकंप और सुनामी से मारे गए कुल 832 लोगों में से 821 लोगों की मौत पालू में हुई है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी (बीएनपीबी) के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नुग्रोहो ने कहा कि शवों के सामूहिक दफन की प्रक्रिया पालू के बाहरी इलाके में होगी।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned