पाकिस्तान सरकार का बड़ा कदम, बैसाखी के लिए 2200 सिख तीर्थयात्रियों को मिला वीजा

  • बैसाखी के लिए पाकिस्तान जाएंगे सिख श्रद्धालु
  • करतारपुर पर समझौते के बाद पाक सरकार का ऐलान
  • पाकिस्तानी उच्चायोग ने जारी किया वीजा

By: Siddharth Priyadarshi

Updated: 11 Apr 2019, 08:55 AM IST

लाहौर। पाकिस्तान सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए 2200 सिख तीर्थयात्रियों को वीजा जारी किया है। नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग ने 12 से 21 अप्रैल तक पाकिस्तान में आयोजित होने वाले बैसाखी के वार्षिक समारोह में भाग लेने के लिए भारत के सिख तीर्थयात्रियों को 2200 वीजा जारी किए हैं। मंगलवार को जारी उच्चायोग की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार भारत से बड़ी संख्या में सिख तीर्थयात्री बैसाखी के लिए पाकिस्तान की यात्रा पर जाएंगे। बता दें कि दोनों देशों के बीच धार्मिक यात्रा के लिए पाकिस्तान-भारत हर साल विभिन्न त्योहारों के मौके पर धार्मिक वीजा जारी करते हैं।

इजरायल में भी गूंजा 'मैं भी चौकीदार' का नारा, नेतन्याहू ने खुद को बताया ‘मिस्टर सिक्योरिटी’

2200 सिख तीर्थयात्रियों को वीजा

भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहेल महमूद के हवाले से कहा गया है कि वीजा जारी करने का पाक सरकार का फैसला बैसाखी से जुड़ी श्रद्धा से प्रेरित है। इसके धार्मिक और सांस्कृतिक दोनों आयाम हैं। बता दें कि बैसाखी फसल का त्योहार है जो नए सौर वर्ष और फसल के मौसम की शुरुआत का प्रतीक है। पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि पाकिस्तान उच्चायोग द्वारा जारी किए गए 2,200 वीजा अन्य देशों से इस आयोजन के लिए पहुंचने वाले सिख तीर्थयात्रियों को दिए गए वीजा के अलावा हैं। च्चायुक्त सोहेल महमूद ने कहा, "हम अपने सभी भाइयों और बहनों को इस शुभ अवसर पर शुभकामनाएं देते हैं और आने वाले तीर्थयात्रियों की बेहतर यात्रा की कामना करते हैं।"

इमरान खान का बड़ा बयान, बोले- 2019 में मोदी प्रधानमंत्री बनेंगे तो पाकिस्तान के लिए अच्छा रहेगा

धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की मुहिम

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान का यह फैसला धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की मुहिम का हिस्सा है। अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान सिख तीर्थयात्री पांजा साहिब, ननकाना साहिब और करतारपुर साहिब के गुरुद्वारों का दौरा करेंगे। बयान में कहा गया है कि तीर्थयात्रा वीजा जारी करना दोनों देशों के बीच धार्मिक स्थलों की यात्रा को आसान बनाने और लोगों के बीच आदान-प्रदान को मजबूत करने के सरकार के प्रयासों के अनुरूप है। बता दें कि पाक सरकार का फैसला इस्लामाबाद में विदेश कार्यालय की घोषणा के एक दिन बाद आया है जिसमें कहा गया था कि 16 अप्रैल को करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण के लिए पाकिस्तान और भारत के विशेषज्ञों के बीच एक तकनीकी बैठक आयोजित की जाएगी।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Siddharth Priyadarshi Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned