तालिबान के ये दो बड़े नेता हुए लापता, कई दिनों से नहीं आए सामने, मरने की अफवाह

तालिबान के जिन दो नेताओं के गुम होने की खबरें सामने आ रही हैं, उनमें इस चरमपंथी समूह का सुप्रीम लीडर हैबतुल्लाह अखुंदजादा और मौजूदा सरकार में उप प्रधानमंत्री मुल्लाह अब्दुल गनी बरादर शामिल है।

 

By: Ashutosh Pathak

Published: 15 Sep 2021, 10:53 AM IST

नई दिल्ली।

अफगानिस्तान पर कब्जा किए हुए तालिबान को एक महीने का वक्त बीत चुका है। करीब एक हफ्ते पहले नई अंतरिम सरकार का गठन भी हो चुका है। सरकार गठन के साथ ही विवादों का दौर भी शुरू हो चुका है। इसके साथ ही तालिबान के दो शीर्ष नेताओं की गुमशुदगी इन दिनों अंतरराष्ट्रीय जगत में चर्चा का विषय बनी हुई है।

दरअसल, ताबिलानी सरकार गठन की कोशिश दो बार पहले भी हुई, लेकिन आपासी मतभेदों, पद की लड़ाई और तालिबान व हक्कानी नेटवर्क के बीच विवाद के कारण यह प्रक्रिया सफल नहीं हो पाई। पाकिस्तान ने तमाम कोशिशों के बाद हक्कानी नेटवर्क से जुड़े लोगों को भी सरकार में शीर्ष पद दिला ही दिया। यह बात तालिबान के शीर्ष नेताओं को नागवार गुजरी है और तब से ही तालिबान और हक्कानी के बीच मनमुटाव तेज हो गया है।

यह भी पढ़ें:-तालिबान को समर्थन देने के बावजूद खुश नहीं है सऊदी अरब, इन मुस्लिम देशों को अफगानिस्तान में देखना भी नहीं चाहता

तालिबान के जिन दो नेताओं के गुम होने की खबरें सामने आ रही हैं, उनमें इस चरमपंथी समूह का सुप्रीम लीडर हैबतुल्लाह अखुंदजादा और मौजूदा सरकार में उप प्रधानमंत्री मुल्लाह अब्दुल गनी बरादर शामिल है। दावा किया जा रहा है कि ये दोनों कई दिनों से सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आए हैं। लिहाजा, इनके लापता होने के बाद से कयासबाजियों और अफवाहों का सिलसिला जारी है।

दावा तो यहां तक किया जा रहा है कि तालिबान का सुप्रीम लीडर हैबतुल्लाह अखुंदजादा तब से लापता है, जब से इस चरमपंथी आतंकी समूह ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया है। वैसे, नई सरकार के गठन के बाद हैबतुल्लाह की तरफ से सिर्फ एक बयान जारी किया गया था, वह भी वीडियो संदेश या प्रेस कांफ्रेंस के जरिए नहीं। तालिबान बार-बार यह कह रहा है कि अखुंदजादा जल्द ही सामने आएगा, लेकिन अभी तक ऐसा हुआ नहीं है।

तालिबान का प्रवक्ता और मौजूदा सरकार में उप सूचना मंत्री जबिउल्लाह मुजाहिद ने एक प्रेस कांफ्रेंस में यह बात कही थी कि वह ठीक है और जल्द ही सार्वजनिक तौर पर पेश होगा। हालांकि, देखा जाए तो अखुंदजादा आज तक सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आया है। उसकी सिर्फ तस्वीर सामने आई है।

इसके अलावा, तालिबान सरकार में उप प्रधानमंत्री मुल्लाह अब्दुल गनी बरादर के बारे में भी बीते एक हफ्ते से चर्चा है कि उसका हक्कानी नेटवर्क के साथ किसी बात को लेकर विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों गुटों के बीच फायरिंग हुई, जिसमें बरादर या तो गंभीर रूप से घायल हुआ है या फिर उसकी मौत हो गई है।

यह भी पढ़ें:-अमरीका की पाक को चेतावनी- आपको चुकानी होगी दोहरे चरित्र की कीमत, भारत की हुई तारीफ

हालांकि, अफवाहों का बाजार गर्म हुआ तो तालिबान ने इस पर सफाई पेश की है। तालिबान ने एक आडियो संदेश जारी किया और कहा कि बरादर बिल्कुल ठीक है और यह उसका ताजा संदेश है। लेकिन लोग अब भी सवाल यह खड़े कर रहे हैं कि बरादर यदि ठीक है, तो सार्वजनिक रूप से सामने क्यों नहीं आ रहा या फिर उसने वीडियो संदेश क्यों नहीं दिया।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned