भारत-किर्गिस्तान बिजनेस फोरम में बोले पीएम मोदी, प्राचीन संबंधों को मजबूत करने के लिए पंचवर्षीय रोडमैप तैयार

भारत-किर्गिस्तान बिजनेस फोरम में बोले पीएम मोदी, प्राचीन संबंधों को मजबूत करने के लिए पंचवर्षीय रोडमैप तैयार

Shweta Singh | Updated: 14 Jun 2019, 06:53:19 PM (IST) एशिया

  • SCO शिखर सम्मेलन के बाद पीएम मोदी और किर्गिस्तान के राष्ट्रपति की बैठक
  • भारत-किर्गिस्तान बिजनेस फोरम को लेकर हुई द्विपक्षीय वार्ता
  • पीएम मोदी ने किर्गिस्तान के राष्ट्रपति को सूरोनबे जीनबेकोव को शुक्रिया अदा किया

बिश्केक। शंघाई सहयोग संगठन ( Shanghai Co-operation Organization ) के 19वें शिखर सम्मेलन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किर्गिस्तान ( Kyrgyzstan ) के राष्ट्रपति सूरोनबे जीनबेकोव के साथ द्विपक्षीय वार्ता की। इस दौरान दोनों नेताओं ने भारत-किर्गिस्तान बिजनेस फोरम ( India-Kyrgyzstan Business Forum ) का संयुक्त रूप से अनावरण किया। इस दौरान उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि यह महत्वपूर्ण बाद है कि मेरी बिश्केक यात्रा के दौरान इस बिजनेस फोरम का अनावरण हुआ। पीएम मोदी ने इस दौरान राष्ट्रपति जीनबेकोव को शुक्रिया कहते हुए भारत-किर्गिस्तान के बीच संबंधों को लेकर काफी चर्चा की।

ऐतिहासिक साझेदारी को आधुनिक रूप से बढ़ाने का सही समय

पीएम ने कहा कि दोनों देशों के बीच प्रचीनकाल से ही नजदीकी सांस्कृतिक और आर्थिक संबंध रहे हैं। उन्होंने कहा,'अब समय आ गया है कि इस ऐतिहासिक साझेदारी को आधुनिक रूप से आगे बढ़ाया जाए। व्यापार और निवेश के संदर्भ में हम इन संबंधों का और विस्तार चाहेंगे।' पीएम मोदी ने दावा किया कि व्यापार को आगे बढ़ाने के लिए पंचवर्षीय रोडमैप तैयार है। मोदी ने इसके लिए तीन कैटलिस्टों का भी जिक्र किया, जिनमें- व्यापारिक माहौल, कनेक्टिविटी और B2B (बिजनेट टू बिजनेस) आदान प्रदान शामिल है।

SCO शिखर सम्मेलन: इमरान खान के सामने ही पीएम मोदी ने पाक को घेरा, उठाया आतंकवाद का मुद्दा

भारत एक विशाल मार्केट: पीएम मोदी

द्विपक्षीय निवेश समझौते पर बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत एक विशाल मार्केट है। यही वजह है कि इसके आर्थिक विकास और प्रौद्योगिकी में बढ़ोतरी दुनियाभर में विकास के प्रमुख कारणों में शामिल हैं। साथ ही भारत के युवा प्रतिभा और इनोवेटर्स देश के 5 ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

Chabahar Port

दोनों देशो के बीच संभावना से कम भागीदारी

अपने भाषण में पीएम मोदी ने कहा कि अभी तक दोनों देशो के बीच संभावना से भी काफी कम भागीदारी है। इसलिए इस बिजनेस फोरम के अनावरण के लिए यह उपयुक्त समय है। इस दौरान पीएम ने चाबहार पोर्ट का जिक्र करते हुए इसे भारत-किर्गिस्तान में कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए मददगार बताया।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned