scriptBig claim on corona virus ending date | अगले ​दो दिनों में कम हो जाएगा कोरोना का प्रभाव! ये हैं देवीय उपाय | Patrika News

अगले ​दो दिनों में कम हो जाएगा कोरोना का प्रभाव! ये हैं देवीय उपाय

वैज्ञानिकों के संशय के बीच ज्योतिष के जानकारों का दावा...

भोपाल

Published: March 25, 2020 02:13:56 pm

कोरोना के प्रकोप के चलते पूरी दुनिया में इस समय भय का माहौल बना हुआ है। ऐसे में हर किसी के मन में ये सवाल जरूर पैदा हो रहा है कि आखिर इस कोरोना महामारी का कब अंत होगा। वैज्ञानिक चूंकि अब तक इसका एंटीडोज नहीं बना पाए हैं, ऐसे में वे भी इस बीमारी पर कब तक काबू पाया जा सकेगा, इसे लेकर संशय में हैं।

Big claim on corona virus ending date
Big claim on corona virus ending date

वहीं ज्योतिष में इस बीमारी का कारण ग्रहों की चाल को बताया जा रहा है। वहीं जानकार ये भी कह रहे हैं कि ग्रहों की चाल के चलते अगले चंद दिनों में इसकी रफ्तार में कमी आ जाएगी। लेकिन कुछ जगहों पर इससे बचाव की ओर ध्यान नहीं दिए जाने के चलते एक बार फिर ये महामारी कुछ माह बाद सामने आ सकती है।

महामारी: ऐसे समझें ग्रहों की चाल...
ज्योतिष के जानकार पंडित सुनील शर्मा के अनुसार केतु ने 6 मार्च 2019 को धनु राशि में प्रवेश किया था। इसके बाद 4 नवंबर 2019 को बृहस्पति ने धनु राशि में प्रवेश किया था। केतु व गुरु के एक साथ धनु में आने के चलते चीन में पहला केस नवंबर 2019 में सामने आया था।

MUST READ : 2020 में पृथ्वी पर आफत: उल्का पिंड से लेकर कोरोना तक

https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/hurts-on-earth-in-2020-what-world-famous-predictions-say-5914429/वहीं इसके अलावा विशिष्ट संहिता में वर्णन के अनुसार ही इसके बाद 26 दिसंबर 2019 को साल का आखिरी सूर्यग्रहण पड़ा। ऐसे में इस सूर्यग्रहण के दिन ग्रहों का षडाष्टक योग बना था। सूर्य, चंद्र, बृहस्पति, शनि, बुध और केतु के योग से सूर्यग्रहण का नकारात्मक प्रभाव पड़ा। इसने वायरस को महामारी बना दिया।
ऐसे लिया भयानक रूप...
जबकि इसके 14 दिन बाद पड़ा चंद्रग्रहण भी शुभ फल देने वाला नहीं था और राहु, केतु, शनि से पीड़ित रहा था। ज्योतिष के अनुसार सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति के कमजोर होने पर प्रलय की स्थिति निर्मित होती है। वहीं इसके बाद जब केतु मूल नक्षत्र में पहुंचा तो वायरस ने भयानक रूप धारण कर लिया।
27 से 28 मार्च के बीच कोरोना में आएगी कमी!...
ज्योतिष के जानकार वीडी श्रीवास्तव के अनुसार भारतीय नव संवत्सर जिसका नाम प्रमादी संवत्सर है, उसे इस वायरस का दुश्मन माना जा रहा है। उनके अनुसार ऐसे कई जानकार ये मानते हैं कि नव संवत्सर 2078 अर्थात 25 मार्च 2020 से, भारतीय नव संवत्सर जिसका नाम प्रमादी संवत्सर के प्रारम्भ से इसका प्रभाव कम होना शुरू हो जाएगा।
MUST READ : चैत्र नवरात्र 2020-पंचक में होगी शुरुआत, भूलकर भी ना करें ये

https://m.patrika.com/amp-news/religion-and-spirituality/panchak-on-chaitra-navratri-2020-5923288/लेकिन नवसंवत्सर पंचक में शुरू हो रहा है। ऐसे में दो दिन यानि 26 मार्च तक पंचक का रहने से इसके असर में कमी ज्यादा नहीं दिखेगी। वहीं ग्रह योगों को देखते हुए इसके बाद यानि 27 से 28 मार्च के बीच से कोरोना में कमी आनी शुरु हो जाएगी।
लेकिन यहां ये जरूर समझने वाली बात है कि कमी जरूर आएगी, लेकिन ये पूरी तरह से कंट्रोल में नहीं आएगा। चुंकि इसका असर 3 से 7 माह तक रहने की ओर ग्रह भी इशारा करते हैं, अत: ग्रहों की चाल कहती है कि कुछ माह सावधानी रखने के बाद लोगों के पुन: लापरवाह हो जाने से मई 2020 में एक बार फिर कोरोना का असर देखने को मिल सकता है।
जबकि पुन: जागरुक होने की स्थिति के चलते व राहु के नक्षत्र बदलने के साथ ही करीब मई के अंत से इसमे काफी कमी आनी शुरू हो जाएगी। जबकि सितंबर तक यह वायरस पूरी तरह से डिएक्टिवेट अवस्था में चला जा सकता है, इसका कारण ये है कि 20 सितंबर 2020 तक केतु धनु राशि में बना रहेगा।
ग्रहों ने फैलाई महामारी...
राहु इस समय आद्रा नक्षत्र में है, जो प्रलय का नक्षत्र माना जा रहा है। 20 मई 2020 तक वह इसी आद्रा नक्षत्र में रहेगा। वहीं 20 मई 2020 तक बृहस्पति उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में रहेगा, जो परेशानी पैदा करेगा।
ऐसे करें बचाव! ये मंत्र देंगे राहत...
श्री मार्कण्डेय पुराण में श्री दुर्गासप्तशती में किसी भी बीमारी या महामारी का उपाय देवी के स्तुति तथा मंत्र द्वारा बताया गया है जो कि अत्यंत प्रभावकारी माने जाते हैं...
रोग नाश के लिए...
रोगानशेषानपहंसि तुष्टा रुष्टा तु कामान् सकलानभीष्टान्।
त्वामाश्रितानां न विपन्नराणां त्वामाश्रिता ह्याश्रयतां प्रयान्ति॥

महामारी नाश के लिए...
ऊँ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तुते।।

यह दोनों मंत्र अत्यंत प्रभावकारी माने जाते हैं।
इन ग्रहों की चाल लाएगी बीमारी में कमी...
ज्योतिष के जानकारों की मानें तो 29 मार्च को गुरु के मकर राशि में प्रवेश करते ही शनि-मंगल की युति होगी। ऐसे में चूंकि शनि अपने आने से पहले ही अपना असर दिखाना शुरू कर देता है, इसलिए मुमकिन है कि 27—28 मार्च 2020 से ही इस बीमारी का असर कम होने लगे। लेकिन यदि पंचक का असर कम रहा तो बीमारी में कमी की शुरुआत 26 मार्च से भी होने की संभावना है।
इस दौरान वायरस की शक्ति कमजोर पड़ेगी, जिससे उसके असर में कमी आएगी। वहीं 13 अप्रैल को सूर्य के मेष राशि में प्रवेश से राहत बढ़ जाएगी। 4 मई को मंगल कुंभ राशि में प्रवेश करेगा जो काफी राहत भरा रहेगा। 20 मई को राहु नक्षत्र बदलेगा और इसके चलते वायरस का तकरीबन पूरा असर खत्म होता चला जाएगा।
महामारी का अंत...
ज्योतिष के जानकारों के अनुसार इस महामारी का असर 3 से 7 महीने तक रहेगा ! परंतु नव संवत्सर 2078 के प्रारम्भ से इसका प्रभाव कम होना शुरू हो जाएगा अर्थात 25 मार्च 2020 से प्रारंभ हो है, इसी दिन से करोना का प्रभाव कम होना शुरू हो जाएगा ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, रेलवे ने राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलायूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवाजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 7,498 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 10.59%डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हैं ये सब्जियां, रोजाना करें इनका सेवनक्या दुर्घटना होने पर Self-driving Car जाएगी जेल या ड्राइवर को किया जाएगा Blame? कौन होगा जिम्मेदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.