शनिवार आज : शनिदेव का दिन है खास, जानें क्या करें और क्या न करें

शनिदेव : न्याय के देवता

वैदिक ज्योतिष में शनि ग्रह का बड़ा महत्व है। हिन्दू ज्योतिष में शनि ग्रह को आयु, दुख, रोग, पीड़ा, विज्ञान, तकनीकी, लोहा, खनिज तेल, कर्मचारी, सेवक, जेल आदि का कारक माना जाता है। शनि ग्रह, कुंडली में स्थित 12 भावों पर अलग-अलग तरह से प्रभाव डालता है।

यह मकर और कुंभ राशि का स्वामी होता है। तुला राशि शनि की उच्च राशि है जबकि मेष इसकी नीच राशि मानी जाती है। शनि का गोचर एक राशि में ढ़ाई वर्ष तक रहता है। ज्योतिषीय भाषा में इसे शनि ढैय्या कहते हैं। नौ ग्रहों में शनि की गति सबसे मंद है। शनि की दशा साढ़े सात वर्ष की होती है जिसे शनि की साढ़े साती कहा जाता है।

ज्योतिष में शनिदेव को न्याय के देवता भी कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार, शनिदेव प्रत्येक व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुसार फल देते हैं। जो जैसे कर्म करता है वैसा फल भोगता है। सभी देवों में सबसे जल्दी क्रोध शनि देव को आता है। कहते हैं, शनि की कृपा हो तो रंक भी राजा बन जाता है और शनि की कुदृष्टि हो तो धनवान भी फ़टे हाल हो जाता है।

MUST READ : लॉकडाउन के बीच ऐसे पाएं इस अमावस्या का पूर्ण फल

https://www.patrika.com/festivals/hindu-calendar-2020-vaishakh-amavasya-mythology-and-timing-6001179/

लेकिन शास्त्रों में इसका उपाय भी दिया गया है, शनि किसी से रुष्ट हो, अशुभ स्थिति में हो, या दुःख दे रहे हो तो शनिवार के दिन कुछ बातों का खास ध्यान रखने को कहा जाता है। माना जाता है, शनिवार के दिन इन नियमों का पालन करने से शनि का क्रोध शांत होता है और ग्रह पीड़ा नहीं देता। आज हम आपको उन्ही नियमों के बारे में बता रहे हैं। की शनिवार के दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए?

शनिवार को ये नहीं करें
शनिदेव के प्रकोप से बचने के लिए कई तरह की मान्यताएं हैं। ऐसे में शनि की कुछ चीजों को शनिवार के दिन घर लाना भी वर्जित माना गया है। मान्यता है कि ऐसा करने से शनि के प्रकोप को झेलना पड़ता है। आइये जानते हैं शनिवार को कौन सी चीजें वर्जित मानी गईं हैं।

MUST READ : अशुभ ग्रहों का प्रभाव - हनुमान जी के आशीर्वाद से ऐसे होगा दूर

https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/inauspicious-planets-are-also-auspicious-after-this-puja-of-hanumanji-5997198/

1. लोहा न खरीदें
शनिवार के दिन भूलकर भी घर में लोहा नहीं लाना चाहिए और न ही खरीदना चाहिए। इस दिन लोहा खरीदना अशुभ होता है। शास्त्रों के अनुसार, ऐसा करने से शनि देव रुष्ट हो जाते हैं और जीवन में दिक्क्तें आने लगती हैं। क्यूंकि लोहा शनि की वस्तु है और शनिवार के दिन इसकी खरीदी करना शुभ नहीं होता। आप इस दिन लोहे का दान कर सकते हैं। लोहे का सामान दान करने से शनि का कोप कम होता है और व्यापार में भी फायदा मिलता है।

2. नमक नहीं लें
शनिवार के दिन नमक खरीदने से भी घर में दरिद्रता आती है। और घर पर कर्ज बढ़ता है। माना जाता है, शनिवार के दिन खरीदे हुए नमक से भोजन बनाने से रोग हो जाते हैं। इसलिए शनिवार को नमक न लें।

3. कैंची लाएं घर
कैंची को काटने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। शनिवार के दिन कैंची खरीदने से रिश्तों में दरार आने लगती है। इस दिन कैंची लेने से रिश्ते टूटने लगते हैं इसलिए कभी भूलकर भी शनिवार को कैंची नहीं खरीदें।

4. तेल न खरीदें
शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा के लिए तेल का प्रयोग किया जाता है। इसलिए इस दिन तेल नहीं खरीदना चाहिए और न ही शरीर या बालों में इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसा करने से शनिदेव क्रोधित हो जाते हैं। इसलिए खास ध्यान रखें।

MUST READ : शनि का सबसे आसान उपाय, जो पॉजीटिविटी बढ़ाने के साथ ही निगेटिविटी करता है कम

https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/easiest-solution-of-saturn-problem-in-astrology-6006912/

5. काले तिल
शनिदेव की पूजा के समय काले तिल पीपल के पेड़ को चढ़ाएं जाते हैं। इसलिए इस दिन काले तिल भी नहीं खरीदने चाहिए। कहते हैं इस दिन काले तिल खरीदने से कार्यों में बढ़ाएं आने लगती हैं।

: ये चीजें भी नहीं खरीदें
बताई गईं चीजों के अलावा लकड़ी, ईंधन, झाड़ू, स्याही या अनाज पीसने की चक्की भी शनिवार के दिन खरीदनी वर्जित मानी गईं हैं। माना जाता है कि इन चीजों को खरीदने से परिवार को कष्ट पहुंचता है और घर में दरिद्रता आती है।

शनिवार को ये करने से मिलेगा आशीर्वाद :-
वहीं शनिवार के दिन कुछ कार्यों को करना अच्छा भी माना गया है। जिससे शनिदेव की कृपा बरसती है, मान्यता है कि इन कार्यों को करने से शनिदेव के प्रकोप से बचाने के अलावा उनका आशीर्वाद भी लिया जा सकता है...

MUST READ : आपका ये छोटा सा काम कर देगा शनिदेव को प्रसन्न, होगी कृपा की बारिश

https://www.patrika.com/dharma-karma/best-way-to-get-shanidev-blessings-5991791/

1. शनिदेव का पूजन
शनिवार के दिन शनिदेव का पूजन करना बहुत अच्छा होता है। इस दिन शनिदेव की पूजा करने से कुदृष्टि का प्रकोप कम होता है और जीवन की परेशानियां भी कम होती है।

2. हनुमान जी की पूजा
हनुमान जी और शनिदेव को परममित्र कहा जाता है। शनिदेव को खुश करने के लिए हनुमान जी की पूजा करें और हनुमान चालीसा व् संकटमोचन का पाठ करें।

3. मां दुर्गा की पूजा
मंगलवार सहित शनिवार का दिन मां दुर्गा का भी माना जाता है, ऐसे में शनिवार को उनकी पूजा आपको शक्ति व सामथ्र्य प्रदान करने के अलावा शनि के प्रकोप से भी बचाती है।

3. पीपल के पेड़ का पूजन
शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए पीपल के पेड़ का पूजन फलदायी माना जाता है। पीपल के पेड़ का पूजन करने से आर्थिक समस्यायों से छुटकारा मिलता है।

4. पीपल पर ये चढ़ाएं
शनिवार को पीपल के पेड़ पर गुड़, काले तिल, सरसों का तेल, काले उड़द चढ़ाना बहुत शुभ होता है। इससे भी शनिदेव प्रसन्न होते हैं।

5. शनिदेव पर तेल चढ़ाएं
शनिवार के दिन संध्याकाल में शनिदेव के मंदिर जाकर उनका सरसों के तेल से स्नान कराना बहुत अच्छा होता है। ऐसा करने से शनिदेव का प्रकोप कम होता है और ग्रह पीड़ा से भी छुटकारा मिलता है।

6. दान करें
शनिवार के दिन काली वस्तुओं का दान करना बहुत शुभ होता है। इसके साथ-साथ किसी जरूरतमंद को भोजन कराना, कंबल दान करना, कपडे दान करना, पानी पिलाना बहुत लाभकारी होता है।

7. जीवों को खाना खिलाएं
शनिवार के दिन चीटियों को शक़्कर मिला आटा और मछलियों को आटे की गोलिया या दाना खिलाने से भाग्य खुल जाता है।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned