scriptMaruti Alto To Eeco Zero Safety Rating Company opposed Bharat NCAP | Alto से लेकर Eeco तक Maruti की ये कारें सेफ़्टी में फिसड्डी! जानिए कंपनी को क्यों हो रही है Bharat NCAP से चिंता | Patrika News

Alto से लेकर Eeco तक Maruti की ये कारें सेफ़्टी में फिसड्डी! जानिए कंपनी को क्यों हो रही है Bharat NCAP से चिंता

Maruti Suzuki के चेयरमैन आरसी भार्गव का कहना है कि, भारत पश्चिमी देशों की तुलना में पूरी तरह से अलग बाजार है, पश्चिमी देशों में इस तरह के कार सेफ़्टी टेस्ट एक बेंचमार्क जैसे हैं। Bharat NCAP सेफ़्टी रेटिंग प्रोग्राम को भारत में सभी वाहनों के लिए अनिवार्य नहीं करना चाहिएं।

नई दिल्ली

Published: June 26, 2022 01:45:32 pm

देश का ऑटो सेक्टर एक बड़े बदलाव के दौर से गुजर रहा है। कोरोना महामारी के बाद पटरी पर लौटा कारोबार अब सेफ़्टी फीचर्स और सरकार के नियमों को आजमाने की तैयारी कर रही है। बीते दिनों सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री (MoRTH) नितिन गडकरी ने घोषणा की है कि उन्होंने भारत NCAP या न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम के लिए GSR (सामान्य वैधानिक नियम) अधिसूचना के मसौदे को मंजूरी दे दी है। दुनिया भर में अन्य कार क्रैश रिपोर्ट की ही तरह Bharat NCAP क्रैश टेस्ट में उनके प्रदर्शन के आधार पर कारों को स्टार रेटिंग देगा। लेकिन सरकार के इस फैसले से देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki) नाखुश दिख रही है।

maruti_suzuki_bharat_ncap-amp.jpg
Maruti Suzuki Says Bharat-NCAP should not be mandatory

मारुति सुजुकी ने देश में बिकने वाली सभी कारों के लिए Bharat NCAP मानदंडों को अनिवार्य बनाने का विरोध किया है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा भारत एनसीएपी (या न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम) रेफ़्टी रेटिंग कार्यक्रम को मंजूरी देने के कुछ घंटों बाद ही - मारुति सुजुकी के अध्यक्ष आरसी भार्गव ने बिजनेस टुडे को बताया कि उनका इस विषय पर एक अलग दृष्टिकोण था।

भार्गव ने मीडिया को दिए अपने बयान में कहा कि, भारत पश्चिमी देशों की तुलना में पूरी तरह से अलग बाजार है, पश्चिमी देशों में इस तरह के कार सेफ़्टी टेस्ट एक बेंचमार्क जैसे हैं। आर.सी. भार्गव ने साफ तौर पर कहा कि, "Bharat NCAP देश में बेचे जाने वाले सभी कारों के लिए अनिवार्य नहीं होना चाहिए, भारत यूरोपीय बाजार से अलग है। हम यूरोप के रोड सेफ़्टी गाइडलाइंस का पालन नहीं कर सकते हैं, हमें यह देखना चाहिए कि दोपहिया चालकों के लिए बेहतर परिवहन प्रदान करने के लिए क्या किया जा सकता है।"


उन्होंने कहा, "हम भारत में अपने सभी वाहनों में सुरक्षा के यूरोपीय मानकों का पालन नहीं कर सकते हैं क्योंकि हम इसे दोपहिया वाहनों पर लागू नहीं कर सकते हैं। भार्गव का कहना है कि, क्या हम दोपहिया वाहन मालिकों को सुरक्षा के दायरे से बाहर करके इसे केवल उन लोगों के लिए लागू कर रहे हैं जो कि अमीर हैं। निश्चित रूप से, हमें यह देखना चाहिए कि दोपहिया वाहनों का उपयोग करने वाले लोगों के लिए बेहतर परिवहन प्रदान करने के लिए क्या किया जा सकता है।"

यह भी पढें: आ गई Tata Safari Electric, स्पॉट हुई आपकी फेवरेट SUV

याद दिला दें कि, बीते 24 जून को नितिन गडकरी ने ट्वीटर के माध्यम से घोषणा की थी कि, "भारत एनसीएपी (NCAP) के परीक्षण प्रोटोकॉल को मौजूदा भारतीय नियमों को वैश्विक क्रैश टेस्ट प्रोटोकॉल के साथ जोड़ा जाएगा, जिससे कार निर्माता कंपनियां अपने वाहनों को भारत की अपनी इन-हाउस परीक्षण सुविधाओं में टेस्ट कर सकेंगे।" उन्होंने कहा, "मैंने अब भारत एनसीएपी (नई कार आकलन कार्यक्रम) शुरू करने के लिए ड्राफ्ट (GSR) अधिसूचना को मंजूरी दे दी है, जिसमें भारत में ऑटोमोबाइल को क्रैश टेस्ट में उनके प्रदर्शन के आधार पर स्टार रेटिंग दी जाएगी।"


ऐसा नहीं है कि, Maruti Suzuki को सरकार के किसी फैसले पर पहली बार आपत्ती है। इससे पूर्व जब केंद्र सरकार देश में सभी वाहनों में दिए जाने वाले कारों 6 एयरबैग के इस्तेमाल की बात कही थी, उस वक्त भी मारुति सुजुकी ने चिंता जताई थी। दरअसल, उस वक्त कंपनी का कहना था कि, कारों में 6 एयरबैग को अनिवार्य करने से छोटी और सस्ती कारों का भविष्य खतरे में पड़ सकता है। जाहिर है कि, नए सेफ़्टी फीचर को शामिल किए जाने के बाद कारों की कीमत में इजाफा होना लाजमी है।

Maruti की ये कारें सेफ़्टी में फिसड्डी:

फिलहाल, भारत में बेची जाने वाली कारों को वैश्विक संस्था ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट के आधार पर स्टार रेटिंग दी जा रही थी। जिसमें देश की बहुत सी मशहूर कारों जैसे Maruti Alto और यहां तक कि महिंद्रा की बेस्ट सेलिंग एसयूवी में से एक Mahindra Scorpio को जीरो रेटिंग मिली थी। मारुति सुजुकी के कुछ अन्य मॉडलों की बात करें तो S-Presso और सबसे सस्ती 7-सीटर कार Eeco को भी सुरक्षा के मामले में जीरो रेटिंग मिली है। मारुति सुजुकी के के मॉडलों में सबसे बेहतर रेटिंग मौजूदा Brezza को मिली है, जो कि 4 स्टार रेटिंग के साथ आती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

रोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियागुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानलालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाMaharashtra Monsoon Session: व्हिप को लेकर आमने-सामने हुए शिंदे गुट और ठाकरे खेमा, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष का जमकर हंगामाBJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलजिम्बाब्वे दौरे पर गई भारतीय टीम को BCCI ने दी सख्त हिदायत, पूल में जाने से रोका, ज्यादा देर नहाने से भी किया मानाकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.