तेंदुए के आतंक से ग्रामीणों में खौफ का माहौल, आवारा गोवंश को बना रहा अपना शिकार, देखें वीडियो

Rahul Chauhan | Updated: 09 Jun 2019, 07:12:00 PM (IST) Bagpat, Bagpat, Uttar Pradesh, India

-आरोप है कि इसकी सूचना ग्रामीणों ने वन कर्मियों को दी, लेकिन वहां वन कर्मी नहीं पहुंचे

-शुक्रवार की शाम तेंदुआ गांव के पास एक आवारा गोवंश को घसीटकर इलम सिंह पुत्र भरतूसिंह के खेत पर ले गया

-गांव से मात्र डेढ़ सौ मीटर की दूरी पर वन क्षेत्र के पास गोवंश को अपना निवाला बना लिया

बागपत। इन दिनों जनपद के एक गांव के जंगल में घूम रहे तेंदुए ने आवारा गोवंश को अपना शिकार बनाना शुरू कर दिया है। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे वन कर्मी ने गोवंश के बचे अवशेष को जंगल में दबाया। ग्रामीणों में दहशत बनी हुई है। ग्रामीण एकत्र होकर जंगल मे जा रहे है, दो दिन से ग्रामीण जंगलो में तेंदुए की तलाश भी कर रहे है।

यह भी पढ़ें : अलीगढ़ दरिंदगी में इंसाफ के लिए लोग बैठे थे धरने पर, भाजपा सांसद निकाल रहे थे विजय जुलूस, जाम में फंसी रही एंबुलेंस

दरअसल, मामला बागपत के मौहम्मदपुर खूंटी गांव के जंगल का है। जहाँ कई दिनों से तेंदुआ घूमता दिखाई दे रहा है। आरोप है कि इसकी सूचना ग्रामीणों ने वन कर्मियों को दी, लेकिन वहां वन कर्मी नहीं पहुंचे। शुक्रवार की शाम तेंदुआ गांव के पास एक आवारा गोवंश को घसीटकर इलम सिंह पुत्र भरतूसिंह के खेत पर ले गया। तथा गांव से मात्र डेढ़ सौ मीटर की दूरी पर वन क्षेत्र के पास गोवंश को अपना निवाला बना लिया।

शनिवार को खेतों पर गये किसानों ने गोवंश का आधा हिस्सा पड़ा होने की सूचना वन कर्मियों को दी। जिस पर संतनगर नर्सरी से एक कैटिल गार्ड वहां पहुंचा तथा गोवंश के बचे अवशेष जंगल में दबा दिए। ग्रामीणों कूडेसिह, बबलू, इंद्रपाल, राजेंद्र, भोपाल, सचिन आदि ने बताया कि कई दिनों से तेंदुआ यहां घूम रहा है। ग्रामीणों ने खुद जंगल में कॉम्बिंग की।

यह भी पढ़ें : आपसी विवाद में एक पक्ष को बदमाशों को बुलाना पड़ा भारी, ग्रामीणों ने ऐसे सिखाया सबक, देखें वीडियो

ग्रामीणों ने बताया कि गत वर्ष इन्ही दिनों में तेंदुआ अमनसिंह के कटड़े को उसके घर से ही उठा ले गया था। वह विभाग की अधिकारी अभी भी शायद किसी बड़ी घटना की इंतजार कर रहे है। जिससे ग्रामीणों में दहशत बनी हुई खेतो पर जाने के लिए भी झुंड बना जाते है। उधर रहतना गांव के जंगल मे तेंदुए को खेतों में देखने से ग्रामीणों में भय बनी हुई। ग्रामीणों की सूचना के बाद भी वन विभाग का कोई कर्मचारी नही पहुचा है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned