script बिना रायल्टी के रेत का परिवहन करने वाले 12 हाइवा पर कार्रवाई | Action against 12 highways transporting sand without royalty | Patrika News

बिना रायल्टी के रेत का परिवहन करने वाले 12 हाइवा पर कार्रवाई

locationबालोदPublished: Jan 15, 2024 05:19:27 pm

illegal sand transportation बिना रायल्टी के रेत परिवहन में लगे 16 वाहनों को धमतरी चौक के पास एसडीएम गुंडरदेही मनोज मरकाम ने रोक लिया। इन गाडिय़ों की दिनभर जांच चलती रही। इसमें से 4 गाडिय़ों के पास पीट पास मिला, जिसे जाने दिया गया।

एसडीएम ने की कार्रवाई

बालोद/गुंडरदेही. बिना रायल्टी के रेत परिवहन में लगे 16 वाहनों को धमतरी चौक के पास एसडीएम गुंडरदेही मनोज मरकाम ने रोक लिया। इन गाडिय़ों की दिनभर जांच चलती रही। इसमें से 4 गाडिय़ों के पास पीट पास मिला, जिसे जाने दिया गया। बाकी 12 वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। इसमें से छह वाहनों को वहीं छोड़कर ड्राइवर फरार हो गए। 4 वाहनों की जब्ती बनाकर तहसील कार्यालय में रखा गया है। यह कार्रवाई बालोद कलेक्टर इंद्रजीत सिंह चंद्रवाल के निर्देश पर की गई है। सभी वाहन महानदी से अवैध रूप से रेत भरकर निकले थे। जिन्हें सुबह 5 बजे एसडीएम ने धमतरी चौक पर रोक लिया गया।

एसडीएम और पुलिस कार्रवाई देखकर ड्राइवर भागे
चौक के पास एसडीएम और पुलिस की कार्रवाई देखकर ड्राइवर वाहन छोड़कर भाग गए। उन्हें एसडीएम ने समझाया, लेकिन वे नहीं माने। इस पर उन्होंने नाराजगी भी जताई। जिन वाहनों को रोका गया था, उसमें से अधिकांश राजनांदगांव रोड पर खड़े हैं।

माफियाओं पर लगाम लगाने पहल
अवैध रेत परिवहन करने वाले माफिया पर लगाम लगाने प्रशास ने यह कार्रवाई की है। कुछ दिन पहले इस संबंध में प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया गया था। इसके बाद कलेक्टर ने कार्रवाई करने के निर्देश दिए। रविवार होने के बाद भी एसडीएम सुबह से मौके पर पहुंच गए थे और कार्रवाई की।

लंबे समय के बाद इतनी बड़ी कार्रवाई
प्रशासन की यह कार्रवाई आज चर्चा का विषय बनी हुई है। लोगों को कहना है कि बहुत लंबे समय के बाद इस तरह का कदम उठाया गया है। इसमें एसडीएम मनोज मरकाम, नायब तहसीलदार, आरआई, पटवारी, कोटवार एवं पुलिस प्रशासन का भी सहयोग रहा।

प्रतिदिन सैकड़ों ट्रिप रेत का होता है परिवहन
महानदी धमतरी से प्रतिदिन सैकड़ों ट्रिप रेत का अवैध परिवहन किया जाता है। इसे राजनांदगांव, दुर्ग, भिलाई आदि प्रमुख शहरों में खपाया जाता है।

मुरुम माफिया पर भी कार्रवाई की जरूरत
अब गुंडरदेही मुख्यालय एवं अर्जुंदा क्षेत्र के आसपास सक्रिय मुरुम माफिया पर भी कार्रवाई करने की जरूरत है। मचौद, टवेरा, हुदा, खलारी, बोरगहन आदि गांवों में माफिया किसानों की निजी जमीन से खेत बनाने के नाम पर मुरुम निकालते हैं। खनिज विभाग से सिर्फ एक हजार घन मीटर की अनुमति लेते हैं और पांच हजार घन मीटर की खुदाई कर परिवहन करते हैं। यह मौत के कुएं के रूप में तब्दील हो रहे हैं।

उच्च अधिकारियों को कार्रवाई के निर्देश मिले हैं

गुंडरदेही एसडीएम मनोज मरकाम ने कहा कि लंबे समय से आम नागरिकों से शिकायत मिल रही थी कि रेत परिवहन करने वाले वाहन तेज रफ्तार चलते हैं। रेत को तिरपाल से भी नहीं ढंकते हैं। इनके पास रायल्टी भी नहीं होती है। इसे ध्यान में रखकर कार्रवाई की गई। उच्च अधिकारियों को कार्रवाई के निर्देश प्राप्त हुए हैं।

action.jpg

ट्रेंडिंग वीडियो