कोरोना रिपोर्ट आने से पहले हैदराबाद से लौटी युवती की मौत, परिजनों ने किया अंतिम संस्कार, कलेक्टर ने थमाया BMO को नोटिस

कलेक्टर ने कोविड-19 महामारी के शव परीक्षण में दिए गए दिशा-निर्देश का पालन नहीं करने पर खंड चिकित्सा अधिकारी (बीएमओ) को नोटिस जारी कर दो दिन में जवाब मांगा है।(Coronavirus in Chhattisgarh)

By: Dakshi Sahu

Updated: 25 May 2020, 01:10 PM IST

बालोद/डौंडी. हैदराबाद से 18 मई को लौटी युवती की मौत हो गई। लेकिन कोविड-19 की जांच रिपोर्ट नहीं आई थी, इसके बाद भी घर वालों ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस पर कलेक्टर रानू साहू ने कोविड-19 महामारी के शव परीक्षण में दिए गए दिशा-निर्देश का पालन नहीं करने पर खंड चिकित्सा अधिकारी (बीएमओ) को नोटिस जारी कर दो दिन में जवाब मांगा है।

प्रकरण के मुताबिक युवती अनूपा पिता मघन (20) अपनी सहेली के साथ लौटी थी। दोनों के डौंडी विकासखंड के ग्राम पचेड़ा में क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। 19 मई को सुबह अनूपा की तबीयत बिगडऩे पर जिला अस्पताल बालोद में भर्ती कराया गया था। तबीयत ज्यादा बिगडऩे पर 20 मई को मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव रेफर कर दिया गया। राजनांदगांव से 24 मई को सुबह 6.30 बजे हायर सेंटर रायपुर रेफर किया गया।

रायपुर ले जाते समय उसकी रास्ते में मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने शव को सीधे ग्राम ले जाकर उसका अंतिम संस्कार करा दिया गया। इधर कलेक्टर ने अपने नोटिस में कहा कि संचालनालय चिकित्सा शिक्षा के अनुसार कोविड-19 महामारी के चलते शव परीक्षण के संबंध में स्पष्ट दिशा-निर्देश दिए गए हैं। इस मामले में इसका पालन नहीं किया गया। उन्होंने बीएमओ से पूछा कि किन परिस्थितियों में बिना रिजल्ट आए शव का अंतिम संस्कार किया गया। प्रोटोकॉल का पालन क्यों नहीं किया गया।

बालोद से राजनांदगांव किया गया था रेफर
19 मई को युवती की तबीयत बिगडऩे के कारण सुबह 9.30 बजे जिला अस्पताल बालोद रेफर किया गया। 19 मई को जिला अस्पताल बालोद में आरटीपीसीआर किया गया, जिसकी रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। 20 मई को उसे मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव रेफर कर दिया गया। वहां उसका इलाज 24 मई तक चला। 24 मई को उसे 6.30 बजे हायर सेंटर रायपुर रेफर किया गया था।

हैदराबाद में काम करती थी युवती
इधर खंड चिकित्सा अधिकारी डौंडी ने पंचनामा रिपोर्ट में बताया कि 24 मई को युवती की मौत की सूचना मिली। खंड चिकित्सा अधिकारी और उनकी टीम ने ग्राम पचेड़ा में जाकर घर वालों से पूछताछ की। उन्होंने बताया कि युवती की तबीयत जनवरी से खराब था। जिसका इलाज प्राइवेट डॉक्टर से करा रहे थे। ठीक होने के बाद 20 फरवरी के बाद हैदराबाद काम करने चली गई थी। वहां एक मॉल में काम करती थी। 18 मई को युवती और उसकी सहेली दोनों रात आठ बजे पचेड़ा पहुंचे। दोनों को आंगनबाड़ी में क्वारंटाइन में रखा गया था।

coronavirus Coronavirus Cases in India
Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned