script जंगल में वाहन से गुजरना होगा महंगा | In the forest will have to undergo expensive vehicle | Patrika News

जंगल में वाहन से गुजरना होगा महंगा

locationबैंगलोरPublished: Jul 02, 2019 12:22:59 am

बंडीपुर टाइगर रिजर्व और नागरहोले नेशनल पार्क सहित प्रदेश के अन्य नेशनल पार्क और वन क्षेत्र से गुजरने के लिए प्रदेश के बाहर के हर प्रकार के वाहनों को ग्रीन टैक्स का भुगतान करना पड़ सकता है।

जंगल में वाहन से गुजरना होगा महंगा

मैसूरु. बंडीपुर टाइगर रिजर्व और नागरहोले नेशनल पार्क सहित प्रदेश के अन्य नेशनल पार्क और वन क्षेत्र से गुजरने के लिए प्रदेश के बाहर के हर प्रकार के वाहनों को ग्रीन टैक्स का भुगतान करना पड़ सकता है। यह नियम दोपहिया गाडिय़ों पर भी लागू होगा।

बंडीपुर नेशनल पार्क के निदेशक टी. बालचंद्र ने रविवार को बताया कि तमिलनाडु, केरल और आंध्र प्रदेशमें यह नियम पहले से ही लागू है। उन्होंने बताया कि ग्रीन टैक्स वसूलने के लिए वन विभाग विस्तृत प्रस्ताव तैयार कर रहा है। जिसे राजस्व विभाग को भेजा जाएगा।


कर्नाटक के वाहनों को मिलेगी छूट
प्रस्ताव के अनुसार कर्नाटक के वाहनों को छूट मिलेगी। पड़ोसी राज्य भी अपने वाहनों से ग्रीन टैक्स नहीं वसूलते हैं। बालचंद्र ने बताया कि प्रस्ताव स्वीकृत होते ही इसे प्रदेश भर में लागू किया जाएगा। टैक्स राशि २० से १०० रुपए तक हो सकती है। टैक्स वसूलने की जिम्मेदारी राजस्व विभाग की होगी, क्योंकि यह वन विभाग के अधिकार क्षेत्र से बाहर है।
राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) २१२ (नया नाम एनएच-७६६) चामराज नगर के गुंडलपेट से होते हुए कर्नाटक और केरल को जोड़ता है। जबकि एनएच-६७ तमिलनाडु को कर्नाटक से जोड़ता है। दोनों एनएच टाइगर रिजर्व से गुजरते हैं।


दक्षिणी राज्यों में सिर्फ कर्नाटक में नहीं
दिल्ली ने करीब साढ़े तीन वर्ष से ग्रीन टैक्स योजना लागू कर रखी है। तीन वर्ष पहले से तमिलनाडु और करीब डेढ़ वर्ष पहले से केरल और आंध्र प्रदेश ग्रीन टैक्स वसूल रहा है। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने वर्ष २०१६ में राष्ट्रीय वन नीति (एनपीएफ) पर एक मसौदा प्रस्तावित किया था। जिसमें ग्रीन टैक्स की बात कही गई थी, लेकिन गत वर्ष पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की ओर से जारी एनपीएफ में ग्रीन टैक्स का उल्लेख नहीं था।

घायल छात्रा की स्थिति चिंताजनक
बेंगलूरु. दक्षिण कन्नड़ जिले के उल्लाल में युवक हमले में गंभीर रूप से घायल छात्रा दीक्षा (२०) की हालत चिंताजनक बताई गई है। उसे आइसीयू में रखा गया है। दक्षिण कन्नड़ जिले के पुलिस अधीक्षक एमबी लक्ष्मी प्रसाद ने बताया कि दीक्षा की दो बार शल्य चिकित्सा करने के बाद भी खून रिसाव पूरी तरह रुका नहीं है। देरलाकट्टे निवासी दीक्षा एक निजी कॉलेज में एबीए कर रही है। शक्ति नगर निवासी सुशांत (२६) कई दिन से दीक्षा से प्रेम करता था। दीक्षा अपना ध्यान पढ़ाई पर देना चाहती थी।


उसी कारण उसने सुशांत से बात करना बंद कर दिया। सुशांत उसे मानसिक रूप से परेशान करता था। दीक्षा ने उसकी शिकायत पुलिस थाने में दर्ज करवाने की चेतावनी दी थी। इसी बीच दीक्षा गत दिवस कॉलेज से घर लौट रही थी तभी सुशांत ने उस पर चाकू से हमला कर घायल कर दिया। दीक्षा के शोर मचाने पर कुछ लोगों ने पुलिस को सूचित कर दिया। सुशांत ने खुद भी गले में चाकू मार ली। दीक्षा और सुशांत को निजेी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उन्होंने बताया कि सुशांत की हालत खतरे से बाहर है। दीक्षा के बारे में अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है। उल्लाल पुलिस थाने में जानलवा हमला करने का मामला दर्ज किया गया है।

ट्रेंडिंग वीडियो