अंतरिक्ष में भारत-रूस के उपग्रह एक-दूजे के 224 मीटर करीब आए

इसरो का दावा, सुरक्षित थी दूरी

By: Rajeev Mishra

Updated: 28 Nov 2020, 01:22 AM IST

-राजीव मिश्रा
बेंगलूरु. रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमॉस ने दावा किया है कि भारतीय उपग्रह कार्टोसैट-2 एफ उसके उपग्रह कानोपुस-5 के सामने आ गया था। एजेंसी का कहना है कि दोनों उपग्रह एक-दूसरे के इतने करीब आ गए कि उनके बीच की दूरी महज 224 मीटर रह गई थी। हालांकि, इसरो ने कहा है कि ऐसा नियमित रूप से होता है। उपग्रहों के बीच ये दूरियां इतनी निकट नहीं है कि उपग्रह को मैनुवर करना पड़े।


दरअसल, रूसी अंतरिक्ष एजेंसी ने सार्वजनिक रूप से ट्वीट कर कहा है कि 700 किलोग्राम वजनी कार्टोसैट-2 एफ उपग्रह उसके उपग्रह के करीब आ गया था। दोनों भू-अवलोकन उपग्रह हैं। एजेंसी ने दावा किया कि यह घटना 27 नवम्बर को भारतीय समयानुसार सुबह लगभग 7.19 बजे घटी।

एजेंसियां आपस में चर्चा कर सुलझाती हैं ऐसे मसले: शिवन
इसरो अध्यक्ष के.शिवन ने 'पत्रिका' से बात करते हुए कहा कि 'उपग्रह एक-दूसरे के करीब आते रहते हैं। ऐसा नियमित रूप से होता है। जब इनकी नजदीकियां किसी तरह खतरा बनती हैं तो दोनों अंतरिक्ष एजेंसियां इस पर आपस में चर्चा करती हैं और किसी एक उपग्रह के मैनुवर का फैसला किया जाता है। हम अपने उपग्रह के मैनुवर का फैसला तभी करेंगे जब उनके बीच की दूरी 150 मीटर से कम होगी।Ó उन्होंने कहा कि इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। कई उपग्रह एक-दूसरे के करीब आते हैं। लेकिन, दूरियां खतरनाक हो जाती हैं तभी दोनों एजेंसियां एक-दूसरे से बात करती हैं। रूस और भारत के उपग्रहों के बीच की दूरी ऐसी नहीं थी। हाल ही में स्पेन के एक उपग्रह के साथ ऐसा ही हुआ था। अमूमन एजेंसियां इस तरह की समस्याएं आपस में सुलझा लेती हैं। गौरतलब है कि कार्टोसैट-2 एफ का प्रक्षेपण 12 जनवरी 2018 को पीएसएलवी सी-40 से किया गया था।

Rajeev Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned