बेमिसाल शिक्षक : दृष्टिबाधित शिक्षक रोशन कर रहा विद्यार्थियों की जिन्दगी, दिखा रहा भविष्य की राह

National Teacher's Day 2020 : राष्ट्रीय शिक्षक दिवस विशेष, विभिन्न राज्यों के विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षण

By: Varun Bhatt

Published: 05 Sep 2020, 03:24 PM IST

बांसवाड़ा. वे दृष्टिबाधित हैं, लेकिन फिर भी शिक्षा को लेकर नई तकनीक से जुड़ते हुए सक्रिय हैं। यहीं कारण है कि वे दृष्टिबाधितों को सहजता से शिक्षा देने के साथ ही सामान्य विद्यार्थियों को भी निशुल्क मार्गदर्शन देकर भविष्य संवार रहे हैं। कोरोना संक्रमण के दौर में भी लगातार शैक्षिक नवाचारों के साथ पठन-पाठन सामग्री तैयार कर विद्यार्थियों तक पहुंचा रहे हैं। यहां बात की जा रही है राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय मोटी बस्सी में अंग्रेजी के द्वितीय श्रेणी के शिक्षक की कमल शर्मा की। मुख्य रूप से अंग्रेजी जैसे कठिन माने वाले विषय के कंटेंट को सरलीकृत रूप से तैयार कर विद्यार्थियों तक पहुंचाया जा रहा हैं।

मूसलाधार से नदियों-झरनों और जलाशयों में पानी की आवक, खूबसूरती बिखेर रहा जुआफाल, देखें वीडियो...

ये कर रहे शिक्षा में खास
- वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान लॉकडाउन में विद्यार्थियों के शैक्षिक उन्नयन के लिए पठन-पाठन सामग्री ई कंटेंट के रूप में तैयार की गई। वे इस सामग्री को प्रतिदिन ऑडियो के रूप में तैयार कर सोशल मीडिया प्लेटफॉॅर्म के माध्यम से विद्यार्थियों तक निशुल्क पहुंचा रहे हैं।
- विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों को पिछले 10 वर्षों से निशुल्क मार्गदर्शन प्रदान कर रहे हैं। इससे अब तक करीब 3000 विद्यार्थी लाभान्वित हुए हैं तथा 200 से अधिक अभ्यार्थी विभिन्न परीक्षाओं में चयनित भी हुए हैं
- दृष्टिबाधित के लिए काम करने वाले रिकॉर्डिंग क्लब नामक संस्था के तत्वावधान में राष्ट्रीय स्तर पर जूम एप के माध्यम से अंग्रेजी विषय का शिक्षण विभिन्न राज्यों के विद्यार्थियों को पिछले 1 माह से करा रहे है।
- अंग्रेजी जैसे कठिन विषय को सरलीकृत करके स्वाभाविक तरीके से भाषा को सीखने के लिए विशिष्ट तकनीक का प्रयोग करते हुए ग्राह्य बनाने का प्रयास भी किया जा रहा हैं।

बांसवाड़ा : आठ साल की मासूम बच्ची को कुएं में धकेलकर की हत्या, महिला को उम्रकैद की सजा

शिक्षक हैं तो हमारा कत्र्तव्य
मूलत: बोरी गांव के शिक्षक शर्मा बताते है कि सरकारी सेवा के तय समय के अलावा निशुल्क शिक्षा देने का मकसद यही है कि अपने पास जो ज्ञान हैं वो विद्यार्थियों तक पहुंचे एवं उनका भविष्य संवरे। कई विद्यार्थी ऐसे है, जो फीस दे कर कोचिंग नहीं ले सकते हैं, उनको मदद जरूरी हैं। दृष्टिबाधितों के सामने आने वाली शैक्षिक समस्याओं से मैं वाकिफ हूं। ऐसे में उनके लिए हरदम तैयार रहता हूं।

Show More
Varun Bhatt
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned