बांसवाड़ा : संदिग्ध हालात में मौत पर मचा बवाल, विद्युत निगम के सामने शव रखकर किया प्रदर्शन

Banswara Crime News : परिजनों ने लाइन का तार टूटने से करंट लगना बताकर मांगी मदद, विद्युत निगम अधिकारियों का तार टूटने की घटना से साफ इनकार

By: Varun Bhatt

Published: 22 Feb 2021, 08:00 PM IST

बांसवाड़ा/आनंदपुरी. जिले में आनंदपुरी इलाके के नानाभूखिया गांव में मेहमान गए एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत पर परिजनों ने दूसरे दिन बवाल कर दिया। परिजनों ने लाइन का तार टूटकर गिरने से करंट से मौत होना बताते हुए शव विद्युत निगम कार्यालय के सामने लाकर रख दिया और निगम को इसका जिम्मेदार बताकर टायर जलाकर प्रदर्शन किया। ताज्जुब यह कि घटना का जो कारण बताया गया, उसकी पुष्टि किसी ने नहीं की। निगम अधिकारियों ने मौके पर लाइन का कोई भी तार न टूटने व पुलिस ने मौका मुआयने से ही इनकार किया। इस बीच, ग्रामीणों के हंगामे पर आनंदपुरी तहसीलदार और पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से समझाइश की। बाद में आश्वासन पर परिजन माने और शव ले गए। दोपहर में मृतक की सेरानगला गांव के श्मशान में अंत्येष्टि की गई।

यह बताया घटनाक्रम
सेरानगला निवासी 70 वर्षीय रुपा पुत्र वागजी डामोर ने पुलिस को दी रिपोर्ट में बताया कि उसका 29 वर्षीय विजयपाल डामोर रविवार सुबह नानाभुखिया गांव में रिश्तेदार मोहन पुत्र शिवलाल सिंघाड़ा के घर गया था। शाम करीब 4 बजे सूचना मिली कि विजयपाल को बिजली लाइन का तार गिरने से आनंदपुरी सीएचसी ले जाया गया। वहां से रैफर करने पर गुजरात ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई, तो शव वापस लाकर आनंदपुरी सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया गया।

सुबह पोस्टमार्टम के बाद उलझा मामला
मामले को लेकर पुलिस ने मर्ग दर्ज कर सोमवार सुबह पोस्टमार्टम करवाया। शव सौंपने पर परिजनों ने उसे ले जाकर विद्युत निगम के सामने रख दिया और टायर जलाकर नारेबाजी करते हुए ग्रामीणों ने मृतक के परिवार को तत्काल आर्थिक सहायता की मांग की। मौके पर पुलिस जाब्ता पहुंचा और ग्रामीणों से समझाइश का प्रयास किया, तो परिजन रोड जाम करने पर आमादा हुए।

पुलिस ने हिदायत, तहसीलदार ने दिलाया भरोसा
मौके पर थानाधिकारी शंकरलाल ने कानून हाथ न लेने की नसीहत दी पर लोग नहीं माने। फिर तहसीलदार सुरेंद्रसिंह खंगारोत मौके पर पहुंचे और मदद का भरोसा दिलाया। उन्होंने परिजनों से जरूरी कागजात लेकर आने को कहा और बताया कि संबंधित अधिकारियों तक पहुंचाकर आर्थिक सहायता के लिए कार्रवाई करवाई जाएगी। इस दौरान राकेश सिंघाड़ा, विनोद डामोर, समाजसेवी रमेशचंद्र डामोर, मोहनलाल पारगी, केशवलाल डामोर आदि मौजूद थे।

मौके पर नहीं मिला लाइन से टूटा तार
ताज्जुब यह कि हादसे की जानकारी पर विद्युत निगम की टीम भेजी गई, तो मौके पर कहीं टूटा तार नहीं मिला। सहायक अभियंता हरीश मीणा ने बताया कि जो घटनास्थल बताया गया है, वहां कोई तार टूटा हुआ नहीं मिला। मौत किसी और वजह से या करंट से मौत हो सकती है, लेकिन निगम की लाइन टूटने या बड़े हादसे की जानकारी नहीं मिली। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मृत्यु के कारणों की पुष्टि होगी।

इनका कहना है...
आनंदपुरी थाना प्रभारी शंकरलाल ने बताया कि देरशाम को रिपोर्ट पर मर्ग दर्ज कर सुबह पोस्टमार्टम करवाने और फिर ग्रामीणों के हंगामे पर कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए जुटे रहे। इसके चलते मौका मुआयना नहीं कर पाए। इससे तार टूटने की रिपोर्ट की वास्तवित स्थिति पता नहीं चल पाई है। जांच हैड कांस्टेबल मोहनलाल को सौंपी है अब वे मंगलवार को वस्तुस्थिति देखेंगे।

Show More
Varun Bhatt
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned