scriptFarmers of Baran will get input grant of Rs.6800 to Rs.36000 | बारां जिले के किसानों को मिलेगा भूमि के हिसाब से आदान अनुदान | Patrika News

बारां जिले के किसानों को मिलेगा भूमि के हिसाब से आदान अनुदान

राज्य सरकार ने 1253 राजस्व गांवों में 1236 अभावग्रस्त घोषित, दो हैक्टेयर जमीन का सभी किसानों को एसडीआरएफ से मिलेगी मदद

बारां

Updated: October 26, 2021 09:24:08 pm

बारां. राज्य सरकार ने सोमवार को अतिवृष्टि से प्रभावित प्रदेश के 7 जिलों के 3704 गांवों को अभावग्रस्त घोषित किया है। इनमें सबसे अधिक 1236 गांव बारां जिले के हैं। इन गांवों के सभी किसानों को 2 हैक्टेयर भूमि में खराबे का 13600 रुपए आदान अनुदान (मुआवजा) मिलेगा। यह राशि सीधे किसानों के खातों में जमा कराई जाएगी।
राज्य सरकार की ओर से गत अगस्त माह के पहले सप्ताह में विशेष गिरदावरी करने के आदेश जारी किए थे। विशेष गिरदावरी की रिपोर्ट के आधार पर खरीफ की फसलों में 33 प्रतिशत खराबे की प्रमाणिक जानकारी के बाद बारां समेत प्रदेश के सात जिलों के 3704 गांवों को अभावग्रस्त घोषित किया है। बारां जिले में कुल 1253 राजस्व गांव हैं, लेकिन इनमें 17 गांवों में कृषि भूमि नहीं है, शेष 1236 गांवों को अभावग्रस्त घोषित कर दिया गया है। अब इन गांवों के किसानों को राज्य आपदा मोचन निधि के तहत आदान अनुदान दिया जाएगा। खास बात यह है कि इसका लाभ सभी किसानों को मिलेगा। आपदा प्रबंधन विभाग के तय प्रावधानों के तहत आदान अनुदान अधिकतम दो हैक्टेयर कृषि भूमि पर ही देय होगा।
पटवारियों को दिए सर्वे के निर्देश
प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि राज्य सरकार की इस घोषणा के बाद जिले के सभी हल्का पटवारियों को पात्र किसानों के सर्वे के लिए निर्देश जारी कर दिए है। आगामी एक पखवाड़े में सर्वे रिपोर्ट मिलने के बाद प्रभावित किसानों को आदान अनुदान (सरकारी मदद) प्रदान करने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इसके लिए आपदा प्रबंधन विभाग से राशि मिलेगी।
बारां जिले के किसानों को मिलेगा भूमि के हिसाब से आदान अनुदान
बारां जिले के किसानों को मिलेगा भूमि के हिसाब से आदान अनुदान
अभी तक नहीं मिली कोई मदद
गत मानसून सत्र में अति व अनावृष्टि से कोटा संभाग के सर्वाधिक फसल खराबा बारां जिले में हुआ है। इसके बावजूद जिले के किसानों को अब तक न तो मुआवजा मिला है और न ही बीमा कम्पनियों की ओर से प्रभावित किसानों को क्लेम दिया गया है। कृषि विभाग के सूत्रों के अनुसार जिले में खरीफ की सभी फसलों में 33 प्रतिशत से अधिक खराबा हुआ है। ऐसे में किसान सरकारी मदद को ताक रहे हैं।
पटवारियों की बढ़ी जिम्मेदारी
इन दिनों राज्य सरकार के निर्देश पर प्रशासन गांवों संग अभियान चल रहा है, जो आगामी 20 दिसम्बर तक जारी रहेगा। इस अभियान में पटवारियों की उपस्थिति अनिवार्य है, अब उन्हें आदान अनुदान के लिए पहली प्राथमिकता सर्वे भी करना होगा। ऐसे में पटवारियों की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाएगी।

-राज्य सरकार के आदेश की पालना के लिए जिले के सभी पटवारियों को निर्देशित कर दिया गया है। एक पखवाड़े में पटवारियों की सर्वे रिपोर्ट मिलने के बाद प्रभावित किसानों आदान अनुदान (आर्थिक मदद) देना शुरू कर दिया जाएगा। इस कार्य में कोताही बरतने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
-बृजमोहन बैरवा, अतिरिक्त जिला कलक्टर बारां

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.