script अयोध्या राम मंदिर को लेकर क्या बोल गए मौलाना तौकीर रजा, प्रधानमंत्री मोदी और शंकराचार्य को लेकर भी कही बड़ी बात | What did Maulana Taukir Raza say about Ayodhya Ram temple, he also sai | Patrika News

अयोध्या राम मंदिर को लेकर क्या बोल गए मौलाना तौकीर रजा, प्रधानमंत्री मोदी और शंकराचार्य को लेकर भी कही बड़ी बात

locationबरेलीPublished: Jan 05, 2024 09:43:44 pm

Submitted by:

Avanish Pandey

बरेली। सालों बाद अयोध्या में भगवान श्री राम के मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है। रामभक्त इस दिन का काफी समय से इंतजार कर रहे थे। राम मंदिर के लिए लाखों हिंदूओं ने जान गवाई, घायल हुए। अयोध्या में 22 जनवरी को शुभ मुहूर्त में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम लला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा करेंगे और दुनियाभर से करोड़ों राम भक्त राम लला के दर्शन के लिए पहुचेंगे। इसी मौके पर मौलाना तौकीर रज़ा ने श्री राम मंदिर को लेकर बयान दिया है।

 

tauqeer_raza_1.jpg

राम मंदिर को लेकर कही ये बात

तौकीर रजा ने कहा कि राम मंदिर का हम भी स्वागत कर रहे है और स्वागत करना चाहिए क्योंकि ये हिंदुओ की आस्था का केन्द्र है। पूरी दुनिया में जो हिन्दू बसते हैं उन सबकी आस्था का केन्द्र है राम मंदिर। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के शिलान्यास होने से आज तक हिंदुस्तान किन किन परेशानियों गुजरा। इन तमाम चीज़ों को देखते हुए मैं ये कहता हूं। हिंदू समाज ने जो कुर्बानियां दी है सियासत अपनी जगह है। लोगों ने सियासत के लिए तमाम खेल, खेले हैं लेकिन वो एक आम हिंदू जो तमाम तकलीफें और परेशानी उठाता था। आंसू गैस भी चल रहा है गोली भी चल रही है। लाठी भी चल रही है लेकिन इसके बावजूद वो राम के नाम पर निकल कर आता था। उस राम भक्त को मैं सलाम करता हूँ, और उसकी खुशी में मैं बराबर का शरीक हूं। तौकीर रज़ा ने कहा कि राम मंदिर की आस्था जिन लोगों के दिलो में थी उन लोगों की आस्थाओ का हम सम्मान करते है। ऐसे ही हमारी आस्थाओं का उन लोगों को भी सम्मान करना चाहिए। रामलला से मोहब्बत की बुनियाद पर हमने बाबरी मस्जिद को सब्र किया और अपने मुल्क को फसाद से बचाने के लिए कुर्बानी दी। नतीजा ये है कि आज हिदुस्तान में अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन का वक़्त आया है।
नरेंद्र मोदी को लेकर दिया बयान

तौकीर रज़ा ने कहा कि शंकराचार्य के दिलों में काफी पीड़ा है। क्योंकि मज़हब के मुताबिक प्राण प्रतिष्ठा का जो मामला है वो शंकराचार्य की जिम्मेदारी है। उनके द्वारा ही राम लला की प्राण प्रतिष्ठा किया जाना चाहिए। मर्यादाओं का उल्लंघन करना ये नरेंद्र मोदी की पुरानी आदत है और इस वक़्त भी सियासत तुम्हारे हाथ में है। सियासी फैसले तुम्हें करने चाहिए। सियासी उद्घाटन तुम्हें करने चाहिए। ठीक है लेकिन ये मज़हबी मामला है। मज़हबी मामलात जो मज़हबी लोग हैं जो धर्मगुरु हैं। उनके जरिए शिलान्यास हुआ है और उन्हीं के जरिए इसका उद्घाटन भी किया जाना चाहिए। मैं पुरी के शंकराचार्य के समर्थन में खड़ा हूँ जो उन्होंने कहा है। मर्यादा पुरुषोत्तम मंदिर का उद्घाटन होने जा रहा है और मर्यादाओ को पालन नहीं किया जा रहा है। ये बहुत अफसोस की बात है। अपने हिदू भाइयों की खुशी में हम बराबर के शरीक है।

मोदी सरकार पर साधा निशाना

मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए तौकीर रज़ा ने कहा कि इतना जरूर कहना चाहता हूं कि आपकी खुशी में बराबर शरीक हैं। हमने अपने मुल्क में अमनोअमान बनाने के लिए बाबरी मस्जिद को सब्र किया और अपने भाइयों को खुश होने का मौका दिया है। खुशी में हम बराबर के शरीक हैं। ये फिरकापरस्त ताकते जो हिन्दू मुस्लिम दंगे करना चाहती हैं। एक हज़ार मस्ज़िदों की लिस्ट लेकर बैठी हुई है। मैं ये कह देना चाहता हूं कि आगे किसी भी मस्जिद पर दावेदारी या तोड़ने की कोशिश की जाती है तो मुँह तोड़ जवाब दिया जाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो