मुख्यमंत्री स्वरोजगार और युवा उद्यमी योजना के लक्ष्य पूरे करने में जुटा है विभाग

जिले के 88 बैंकों से स्वीकृत हुए हैं सैकड़ों प्रकरण, युवाओं ने दिए हैं कई आवेदन, बेरोजगार युवा ले रहे हैं योजना का लाभ, उद्योग विभाग का मिल रहा साथ

By: vishal yadav

Published: 19 Dec 2019, 10:55 AM IST

बड़वानी. बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ लेने युवाओं ने सैकड़ों आवेदन दिए हैं। जिला उद्योग केंद्र में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत अब तक 645 और मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना में 39 आवेदन आए हैं, जिन्हें उद्योग केंद्र द्वारा जिले की विभिन्न 88 बैंकों में भेजा गया है। इस वर्ष जिला उद्योग केंद्र में स्वरोजगार योजना के तहत 230 युवाओं को और युवा उद्यमी योजना में 24 बेराजगारों को उद्योग स्थापित कराने का लक्ष्य रखा गया है।
लक्ष्य पूरा करने के लिए उद्योग विभाग का अमला जुटा हुआ है और इन्होंने सैकड़ों युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए ऋण प्रकरणों को स्वीकृत भी करा लिया है। वहीं कई युवाओं को योजना के तहत ऋण मिल भी चुके हैं। जिले में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में अब तक जिले की विभिन्न बैंकों से 147 प्रकरण स्वीकृत हुए हैं और 111 युवाओं को ऋण मिले हैं। वहीं सीएम युवा उद्यमी योजना के 15 प्रकरणों को बैंकों की स्वीकृति मिली है और 9 बेराजगारों को उद्योग स्थापित करने के लिए ऋण मिल चुके हैं। इस साल के अंत तक उद्योग विभाग द्वारा लक्ष्य को पूर्ण करने के प्रयास भी किए जा रहे हैं।
ये हैं योजना की पात्रताएं
युवाओं के लिए चल रही मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के तहत बेरोजगार युवा को 5वीं कक्षा पास होना चाहिए। इस योजना के तहत रोजगार के लिए 50 हजार से लेकर 9 लाख 99 हजार 999 रुपए का लोन दिया जाता है। इसमें 30 प्रतिशत या अधिकतम 2 लाख रुपए तक की सब्सिडी मिलती है। वहीं 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान प्रति वर्ष दिया जाता है। वहीं युवा उद्यमी योजना में बेरोजगारों को 10 लाख से 2 करोड़ रुपए तक का ऋण दिया जाता है। इस योजना के लिए बेराजगार युवा को 10वीं पास होना आवश्यक है। साथ ही 18 वर्ष से लेकर 40 वर्ष आयु सीमा तय की गई है। इस योजना में बेरोजगार उद्योग सेवा रोजगार खोल सकते हैं। योजना के तहत 15 प्रतिशत व अधिकतम 12 लाख रुपए का अनुदान सरकार द्वारा दिया जाता है।
प्रति सप्ताह भेजते हैं आवेदन
योजना में आवेदन करने वाले युवाओं के प्रकरणों का निरीक्षण कर उद्योग विभाग द्वारा प्रति सप्ताह बैंकों को भेजे जाते हैं। इनमें बेराजगार युवा ऑनलाईन अपने उद्योगों को स्थापित करने के लिए आवेदन कर सकते हैं। उद्योग विभाग द्वारा प्रकरणों को बैंकों को भेजे जाने के बाद बैंकों द्वारा इनका निरीक्षण कर लोन दिया जाता है।
वर्जन...
इस वर्ष दोनों योजनाओं के तहत जितने भी आवेदन आए हैं, उन्हें बैंकों को भेजा गया है। 31 दिसंबर तक हम लक्ष्य की प्राप्ति कर ऋण प्रकरण स्वीकृत करा लेंगे। वहीं 31 मार्च तक बेराजगारों को ऋण वितरण भी कर दिया जाएगा। हमारा प्रयास है कि बेरोजगार युवा अपने रोजगार स्थापित कर आगे बढ़ सकें।
केएस सोलंकी, प्रबंधक जिला उद्योग केंद्र बड़वानी
फेक्ट फाईल...
मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना
लक्ष्य - 230
आवेदन आए - 645
स्वीकृत - 147
वितरण - 111
मुख्यमंत्री युवा उद्यमी
लक्ष्य - 24
आवेदन आए - 39
स्वीकृत - 15
वितरण - 9

vishal yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned