script राममंदिर भूमि पूजन : त्रिवेणीधाम संत क्या बोले.... इन मंदिरों से अयोध्या जाएगी पवित्र मिट्टी | shari Ram Mandir Bhoomi Poojan: what the saint Trivenidham said. | Patrika News

राममंदिर भूमि पूजन : त्रिवेणीधाम संत क्या बोले.... इन मंदिरों से अयोध्या जाएगी पवित्र मिट्टी

locationबस्सीPublished: Jul 23, 2020 11:42:09 pm

Submitted by:

Surendra Singh

Shriram Temple Ayodhya 1989 में प्रत्येक गांव की एक पूजित शिला भी अयोध्या भेजी गई थी

राममंदिर भूमि पूजन : त्रिवेणीधाम संत क्या बोले.... इन मंदिरों से अयोध्या जाएगी पवित्र मिट्टी
राममंदिर भूमि पूजन : त्रिवेणीधाम संत क्या बोले.... इन मंदिरों से अयोध्या जाएगी पवित्र मिट्टी
शाहपुरा. अयोध्या में बनने वाले श्रीराम मंदिर Shriram Temple Ayodhya के निर्माण में शाहपुरा क्षेत्र के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल त्रिवेणीधाम सहित देशभर के प्रमुख धार्मिक स्थलों की पवित्र मिट्टी भी काम में ली जाएगी। धार्मिक स्थलों की पवित्र मिट्टी का मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम में पूजन होगा। भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर भारतवर्ष के प्रमुख हिन्दू मंदिरों, गुरुद्वारों, जैन मंदिरों, बौद्ध मठों व विश्व में हिन्दू धार्मिक स्थलों से मिट्टी भिजवाई जा रही है। विहिप के केदार टांक ने बताया कि विराटनगर के कुन्थुनाथ जैन मंदिर की मिट्टी भी अयोध्या भेजी जाएगी। त्रिवेणी धाम से महंत राम रिछपाल दास , पुजारी रघुनंदन दास व मनीष दास ने गुरुवार को त्रिवेणीधाम की पवित्र मिट्टी विश्व हिंदू परिषद के केदार टांक व अन्य कार्यकर्ताओं को सौंपी।
घरों में दीप जलाएं

त्रिवेणीधाम के महंत रिछपाल दास ने भक्तों को कहा कि 5 अगस्त को अयोध्या में भूमि पूजन के समय अपने घरों में, मंदिरों में आरती, शंखनाद, घंटी- घडिय़ाल बजाएं और शाम को दीपावली की तरह घरों और मंदिरों में दीपक जलाएं।
केदार टांक ने आरती में उपस्थित श्रद्धालुओं को कहा कि यह भूमि पूजन केवल अयोध्या का ही नहीं है, बल्कि पूरे राष्ट्र भारत माता का पूजन है। जगत नियंता भगवान श्रीराम सम्पूर्ण विश्व के आराध्य है। इसलिए हम धरती माता की जय भी बोलते हैं। अत: धरती माता का पूजन भी है। उन्होंने बताया कि नवम्बर 1989 में शिला पूजन कार्यक्रमों के माध्यम से प्रत्येक गांव की एक पूजित शिला भी अयोध्या भेजी गई थी। मंदिर निर्माण में उनका भी उपयोग होगा। इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद के प्रखंड मंत्री कमलेश कश्यप, उपाध्यक्ष बनवारी लाल कुमावत, सुरेंद्र जांगिड़, बाडीजोड़ी के राकेश त्रिवेदी एवं अन्य राम भक्त उपस्थित थे।
जैन मंदिर की मिट्टी का भी उपयोग

विराटनगर. भव्य श्रीराम मंदिर के निर्माण के लिए कस्बे के प्राचीन कुंथुनाथ जैन श्वेताम्बर मंदिर परिसर की मिट्टी भी राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या ले जाई जाएगी। इसके लिए गुरुवार को विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं ने मंदिर की मिट्टी का पूजन कर संग्रह किया। विश्व हिन्दू परिषद के प्रखंड अध्यक्ष रोमेश मिश्रा ने बताया कि पूरे प्रखंड के प्राचीन मंदिरों से मिट्टी इकठ्ठी करके अयोध्या भिजवाया जाएगा। यह मंदिर पूरे जगत के हिन्दू समाज के लिए आस्था, विश्वास एवं चेतना का केंद्र है। कार्यक्रम में प्रांत संगठन मंत्री राजाराम, गोपाल, केदार, विभाग बौद्धिक प्रमुख मुन्नालाल, प्रखण्ड अध्यक्ष विश्व हिन्दू परिषद रोमेश मिश्रा, मंदिर के पुजारी संजय पांडे, सुषमा पांडे उपस्थित रहे। संघ के कार्यकर्ता गिरेंद्र सिंह, ताराचंद सैनी ने राम मंदिर के लिए बाणगंगा धाम की मिट्टी भी भेजी।
शाकंभरी माता मंदिर की पावन मिट्टी

सांभरलेक. अयोध्या में बनने वाले भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए शाकंभरी माता मंदिर साभर, भन्दे का बालाजी, दादु धाम नरैना, भैराणा धाम फुलेरा व देवयानि सरोवर साभर के मंदिर से मिट्टी पूजन कर भेजी गई। बजरंग दल विभाग संयोजक परमजीत यादव ने कहा कि मंदिर हिंदू समाज की भावनाएं आस्था विश्वास शक्ति का जागरण केंद्र है। राम मंदिर के लिए 495 वर्षों के लंबे संघर्ष के बाद 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट द्वारा हिंदुओं की आस्था श्री राममंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ। मंदिर निर्माण के लिए पूरे भारतवर्ष के प्रमुख तीर्थ स्थलों की मिट्टी और पवित्र नदियों का जल भेजा जा रहा है। बैठक की अध्यक्षता विश्व हिंदू परिषद् के जिला उपाध्यक्ष देवेंद्र भार्गव ने की, प्रखंड अध्यक्ष किरण बंजारा, किशन गोपाल शर्मा, अमित सैनी, महेश शर्मा, हेमराज, मनीष संूठवाल, नितेश गोयल, तेजपाल प्रजापत, हनुमानसिंह गुर्जर, राहुल अग्रवाल, अर्पित, उमाशंकर व्यास आदि उपस्थित थे।

ट्रेंडिंग वीडियो