women's health - ट्यूबलाइट से भी महिलाओं के चेहरे पर पड़ सकती हैं झुरियां

ट्यूबलाइट व सीएफएल आदि से निकलने वाली पराबैंगनी किरणें चेहरे के रोग 'मेलास्मा' यानी झाइयों का कारण बनती हैं

By: युवराज सिंह

Published: 18 Aug 2019, 09:07 AM IST

गैस की आंच, सूरज की रोशनी, कंप्यूटर स्क्रीन, ट्यूबलाइट व सीएफएल आदि से निकलने वाली पराबैंगनी किरणें चेहरे के रोग 'मेलास्मा' यानी झाइयों का कारण बनती हैं। कोमल त्वचा जब इन किरणों के संपर्क में बार-बार आती है तो रंग बनाने वाले मेलोनोसाइट्स रिसेप्टर्स के प्रोजेस्ट्रॉन हार्मोन असंतुलित होकर झाइयों का रूप ले लेते हैं। इससे 20-50 वर्ष तक की महिलाएं व गर्भवती महिलाएं ज्यादा प्रभावित होती हैं। गर्भावस्था अवधि के बाद तकलीफ ठीक हो जाती है।

तनाव व खून की कमी : गर्भावस्था के दौरान तनाव, हार्मोनल बदलाव और खून की कमी भी समस्या का कारण बनती है। इन कारणों से त्वचा को समुचित पोषण नहीं मिल पाता और झाइयां उभरने लगती हैं।

गर्भनिरोधक दवाएं भी कारण : गर्भनिरोधक दवाओं का इस्तेमाल भी बीमार बनाता है। बार-बार या लगातार इन्हें लेने से त्वचा की सेहत प्रभावित होती है। ऐसे में जब भी महिला तेज धूप, गैस की आंच या किसी अन्य तरह से निकलने वाली अल्ट्रावॉयलेट किरणों के संपर्क में आती है तो त्वचा में बदलाव आने लगते हैं। गाल, नाक और माथे पर काले निशान बनने लगते हैं जो किसी में हल्के और किसी में गहरे होते हैं। इसके अलावा मिर्गी के इलाज में ली जाने वाली दवाओं के प्रयोग से भी मेलास्मा की आशंका रहती है।

सनप्रोटेक्शन क्रीम
झाइयों का इलाज आसान है। अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन के दुष्प्रभाव से बचने के लिए धूप से बचाव करने वाली क्रीम लगाई जा सकती है। गैस की आंच के पास कम खड़े हों या दूरी बनाकर रखें। कोशिश करें कि घर से बाहर धूप में कम निकलें। अगर निकलते हैं तो छाता लेकर जाएं और चेहरे को ढककर रखें ताकि किरणें सीधे त्वचा को नुकसान न पहुंचा सके। किन्हीं कारणों से यदि त्वचा पर झाइयां होने लगती हैं तो इलाज के तौर पर प्रभावित हिस्से पर लगाने के लिए क्रीम दी जाती है।

अनार व सेब से लाभ
मेलास्मा से बचने के लिए अनार व सेब खाना फायदेमंद होता है। इनमें आयरन की मात्रा पर्याप्त होती है। इसके लिए विशेषज्ञ आयरन की गोली लेने की सलाह भी देते हैं। यदि चेहरे के ज्यादातर भाग पर झाइयां हैं तो डॉक्टरी सलाह जरूरी है। वर्ना यह समस्या स्थायी बनकर ताउम्र चेहरे की रौनक बिगाड़ सकती है। त्वचा की सूक्ष्म कोशिकाओं को ऊर्जा मिले, इसके लिए योगासन और प्राणायाम कर सकते हैं। शरीर में पानी की कमी न होने दें।

Show More
युवराज सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned