रास्ता सरकारी और वसूली खननमाफिया कर रहा रहा, 250 रुपए नहीं देने पर दिखाते हैं कार्रवाई का डर

-पहाड़ी थाने में हाईवा चालक ने दर्ज कराया मामला
-पुलिस, खनिज विभाग, परिवहन व प्रशासनिक तंत्र पर भारी रसूखदार खननमाफिया गिरोह का दबाव

By: Meghshyam Parashar

Published: 24 Jul 2020, 03:39 PM IST

भरतपुर/पहाड़ी. नांगल क्रशर जोन में भले ही रास्ता राजस्व रिकॉर्ड में सरकारी है, लेकिन यहां सारे नियम खननमाफिया गिरोह के ही चलते हैं। अब सरकारी रास्ते से वाहनों को निकलने के लिए 250 रुपए की अवैध वसूली का मामला पुलिस तक जा पहुंचा है। हालांकि कार्रवाई के नाम पर अब भी कुछ नहीं हो सका है। उल्लेखनीय है कि राजस्थान पत्रिका ने 21 जुलाई के अंक में रास्ते के नाम पर माफिया कर वाहनों से अवैध वसूली शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर मामले का खुलासा किया था। इसके बाद रसूखदारों व संबंधित एसोसिएशन के रसूखदार एवं संबंधित विभागों के लिप्त अधिकारी-कर्मचारियों में हड़कंप मच गया है।एक पीडि़त ने मिट्टी-धूल से आमजन को परेशानी व 200-250 रुपए अवैध वसूली के बाद भी रास्ते में छिड़काव व मरम्मत नहीं करने की रिपोर्ट दर्ज कराई है।
जानकारी के अनुसार पहाड़ी के नांगल क्रशर जोन में खननमाफिया व क्रशर एसोसिएशन की ओर से रास्ता मरम्मत व पानी का छिड़काव कराने के नाम पर प्रति वाहन 250 रुपए वसूल किए जा रहे हैं। जबकि कुछ क्रशर संचालकों का आरोप है कि रास्ता मरम्मत के नाम पर पूर्व में ही प्रति क्रशर राशि वसूल की गई थी। इसके बाद भी निर्माण नहीं कराया गया। हालांकि स्थानीय प्रशासन जानते हुए भी अनजान बना बैठा है। इसका मुख्य कारण राजनीतिक दबाव माना जा रहा है। क्रशर संचालकों का आरोप है यदि किसी ने खिलाफत की तो उसके खिलाफ खनिज विभाग, पुलिस कार्रवाई कर परेशान करते हैं। इसलिए कोई भी बोलने को तैयार नहीं है। क्रशर संचालकों के साथ एसोसिएशन की ओर से वाट्सअप पर सूचनाओं का आदान-प्रदान होता है। इससे साफ हो रहा है कि क्रशर संचालकों से रास्ते के नाम से लाखों की अवैध वसूली की जा रही है। इतना ही नहीं खुद खनिज विभाग के अधिकारी इस मामले से पल्ला झाड़ते नजर आ रहे हैं। जब खनिज विभाग के एमई तेजपाल गुप्ता से इस बारे में बात की तो उन्होंने बैठक में व्यस्त होने की बात कहकर इतिश्री कर दी।

पीडि़त ने रिपोर्ट में बताया...जबरन असामाजिक तत्वों ने वसूले 250 रुपए

थाने के गांव घीसेड़ा निवासी मुवीन पुत्र कबीरा ने बताया है कि वह एक क्रशर संचालक के हाईवा पर चालक है। दूसरा घीसेड़ा का निवासी मंगलवार को हाईवा लेकर आ रहा था। रास्ते में कुछ लोगों ने गाड़ी रुकवा कर जबरदस्ती रास्ते के नाम पर 250 रुपए वसूल किए। नांगल क्रशर जोन से गाडिय़ां माल लेकर आती जाती है। उससे आसपास रहने वाले घरों में धूल जाने से परेशानी हो रही है। नांगल क्रशर जोन में रास्ते के नाम पर 200-250 रुपए प्रत्येक गाड़ी से पानी के छिड़काव व मरम्मत के नाम पर अवैध वसूली की जा रही है। रास्ते में कोई छिड़काव कराया जा रहा है मरम्मत। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि यह मामला राजस्व रिकॉर्ड से जुड़ा हुआ है। इसमें एसडीएम अथवा जिला कलक्टर के स्तर पर ही रिपोर्ट दर्ज कराई जा सकती है।

-इस रकम में से हर माह के सुविधा शुल्क के रूप में लाखों रुपए पुलिस विभाग सहित अन्य विभागों को दिया जाता है। इसका जिम्मा एसोसिएशन के एक सदस्य ने बैठक में खुलेआम दावा किया था।जो पूर्व में रॉयल्टी के कारोबार में शामिल रहा है। जो क्रशर संचालकों को धमकाने व पुलिस को चौथ वसूली देने का दावा करता है।
जेपी गुप्ता
क्रशर संचालक

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned