त्योहार की खुशियों में मिलावट, निरीक्षण बढ़ रहे न नमूने

त्योहारी सीजन में ज्यादा सक्रिय रहते हैं मिलावटखोर
खाद्य पदार्थों में मिलावट ज्यादा

By: Suresh Jain

Published: 28 Oct 2020, 11:06 PM IST

भीलवाड़ा .
त्योहारी सीजन शुरू होते ही मिलावटखोर सक्रिय हो जाते हैं। सरकार ने हर बार की तरह इस बार भी मिलावटखोरों के खिलाफ अभियान छेड़ा लेकिन अब तक के आंकड़े बताते हैं कि मिलावट के जिम्मेदार व्यापारियों पर ठोस कार्रवाई नहीं हो पाती है। कार्रवाई के नाम पर नोटिसबाजी होकर रह जाती है। बीते छह साल के आंकड़ों पर नजर डाले तो वर्ष २०१५ से २०२० तक कुल १९९४ संस्थानों का निरीक्षण किया गया। इनमें १०४३ नमूने लिए। इनमें १४८ सब स्टेंडर्ड , ८९ मिस ब्रांड व २५ अनसेफ पाए गए। २६२ व्यापारियों को नोटिस जारी किए गए। मजेदार बात यह है कि पिछले छह साल में न निरीक्षण बढ़े और न ही नमूने लेने का साइज।
त्योहारी सीजन में सोने से रसोई तक मिलावट शुरू हो जाती है। बाजार में ग्राहकी बढऩे के साथ ही मिलावटी माल आराम से खप जाता है। अधिक मुनाफे के फेर में धड़ल्ले से मिलावटी सामान बेचा जाता हैपहले दूध में पानी और देसी घी में वनस्पति घी की मिलावट सुनने में आती थी लेकिन पिछले कुछ साल से हर तरह की खाद्य सामग्री में मिलावट होने लगी है। यहां तक कि सोना भी शुद्ध नहीं रहा।
बीमारियां का होते है शिकार
खाद्य पदार्थों में मिलावट स्वास्थ्य के साथ सीधा खिलवाड़ है। दूध, मावा, घी, हल्दी, मिर्च, धनिया, अमचूर, सब्जियां, फल आदि मिलावट की चपेट में है। जहरीले कीटनाशकों और रसायन तक मिलाए जाते हैं। बाजार में पपीता, केला, सेव, अनार जैसे फल कैल्शियम कार्बाइड की मदद से पकाए जा रहे हैं, जो सेहत के लिए खतरनाक है। फल चमकाने के लिए पैराफीन वैक्स लगाया जाता है। इनका सेवन कैंसर और डायरिया जैसी बीमारियां की वजह बन सकता है। डेयरी और हरी सब्जियों में ऑक्सिटोसिन का खूब इस्तेमाल हो रहा है।
.......................
वर्ष २०१५ से अब तक अभियान में लिए नमूने
नमूने 2015 2016 2017 2018 2019 2020
घी 5 16 14 14 9 3
बेसन आटा 35 25 19 39 36 38
कन्फेक्शरी 3 9 7 6 7 ०
मावा 56 16 17 5 3 12
मसाले 24 42 18 35 33 16
मिठाई 2 23 16 16 19 ०
साबुदाना 3 1 ० 1 4 ०
ड्राईफ्रूट 4 1 ० 6 13 ०
दूध 39 19 37 28 13 25
चीनी 1 1 1 5 1 ०
चाय 2 1 4 9 5 1
तेल 9 11 25 11 23 19
नमकीन 3 9 3 3 2 5
आइसक्रीम 16 8 2 ० ० ०
अन्य 7 8 16 4 20 24
कुल योग 204 174 165 168 179 140
.....................
वर्ष निरीक्षण नमूने सबस्टेंडर्ड मिसब्रांड अनसेफ नोटिस
2015 460 211 38 17 6 61
2016 380 190 18 30 3 51
2017 399 185 33 10 4 47
2018 290 182 30 13 5 48
2019 295 188 22 17 6 45
2020 170 ०87 ०7 ०2 १ 10
कुल 1994 1043 148 89 25 262
.............
वर्ष वार अभियान
वर्ष दिन नमूने
२०१५ ४० २०९
२०१६ ४५ १९०
२०१७ ५० १७९
२०१८ ४६ १८२
२०१९ ५७ १८८
२०२० ४२ १४३
वर्जन
आम लोगों को शुद्ध खाद्य सामग्री मिले, इसके लिए युद्ध के लिए शुद्ध अभियान चलाया है। इस दौरान खासकर दूध से निर्मित मिठाई व खाद्य सामग्री में मिलावट की जांच की जाएगी। डॉ. मुस्ताक खान, सीएमएचओ

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned