एसिम्पटोमेटिक मरीजों को किया जाएगा होम आइसोलेट

- मरीज को भरना होगा प्रपत्र
- दो पड़ोसियों सहित एक केयरटेकर देंगे अनुबंध पत्र

By: Suresh Jain

Published: 27 Jul 2020, 02:03 AM IST

भीलवाड़ा।
कोरोना महामारी संक्रमण को रोकने के लिए चिकित्सा प्रशासन ने नई रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। अब केवल गंभीर बीमार संक्रमितों को ही अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। एसिम्पटोमेटिक या हल्के लक्षण वाले पॉजिटिव मरीजों को घर पर ही आइसोलेट या क्वारंटीन किया जाएगा।
प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोड़ा के निर्देशों की पालना में रविवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुस्ताक खान एवं महात्मा गांधी अस्पताल अधीक्षक डॉ. अरुण गौड़ ने आइसोलेशन नीति की तैयारियों पर चर्चा की। डॉ. खान ने बताया कि अब हाई रिस्क श्रेणी दायरे से बाहर तथा एसिम्पटोमेटिक मरीजों को उनकी सुरक्षा पर होम आइसोलेट किया जा सकेगा। इसके तहत मरीज को प्रपत्र भरने होंगे। दो पड़ोसियों सहित एक केयरटेकर की ओर से अनुबंध पत्र भरा जाएगा। ओम आइसोलेट वाले मरीज को थर्मामीटर व पल्स ऑक्सीमीटर की स्वयं के खर्चे पर व्यवस्था करनी होगी। मरीज के लिए अलग कमरे की व्यवस्था करनी होगी। इंफो ऐप डाउनलोड करना होगा। केयरटेकर को प्रतिदिन रोगी की मॉनिटरिंग करनी होगी। समय-समय पर जांच के लिए एएनएम अथवा स्वास्थ्य कार्यकर्ता स्वास्थ्य संबंधी जानकारी लेंगे। होम आइसोलेट व्यक्ति को 14 दिन तक निर्धारित शर्तों के साथ आइसोलेशन में रहना होगा। चर्चा के दौरान डिप्टी सीएमएचओ (परिवार कल्याण) डॉ. संजीव शर्मा, डॉ. एनके शर्मा, डॉ. प्रकाश शर्मा, डॉ. सुरेंद्र मीणा तथा डॉ. दौलत मीणा मौजूद थे।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned