budget 2021-कर छूट के साथ महंगाई से मांगी निजात

कोरोना से आहत महिलाओं को चाहिए राहत
केंद्र व राज्य बजट पर परिचर्चा

By: Suresh Jain

Published: 26 Jan 2021, 02:18 PM IST

भीलवाड़ा।
कोरोना काल में आम आदमी के साथ राज्य व केन्द्र सरकार का बजट भी गड़बड़ा गया। कोरोना संकट के बाद राजस्थान का पहला व केंद्र का दूसरा बजट अगले माह आएगा। बजट को लेकर गृहणी, सीए, शिक्षिका, इंजीनियर समेत महिलाओं ने खुलकर अपनी बात रखी। उम्मीद जताई कि इस बार केंद्र व राज्य सरकार राहत देगी ताकि कोरोना काल में हुआ नुकसान कम किया जा सके।
----
इनकम टैक्स की धारा 80 सी के तहत छूट सीमा 3 लाख रुपए की जाए। 12 अक्टूबर 2020 से शुरू लीव ट्रैवल कन्सेशन स्कीम वर्ष 2022 तक बढ़ाएं। इसकी लिमिट प्रति व्यक्ति 36 हजार रुपए है, जिसे बढ़ाया जाए।
कविता जैन, शिक्षिका
----
केंद्रीय बजट में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन पर टैक्स छूट की सीमा बढ़ाए। अभी एक लाख रुपए है। इसके बाद 10 प्रतिशत टैक्स लगता है। इसकी लिमिट बढ़ाएं। राजस्व जुटाने के लिए टैक्स फ्री बॉन्ड की घोषणा की जाए।
खुशबू बिरला, गृहणी
-------
राजस्थान में घरेल ूबिजली सबसे महंगी है। घर में आठ किलो वॉट कनेक्शन पर दर १५ से १६ रुपए प्रति यूनिट पड़ती है। इससे घर का बजट तक बिगड़ जाता है। ५०० यूनिट तक सामान्य दर तय की जानी चाहिए।
बीना जैन, व्यवसायी
------
कोरोना के दस माह में ही खाद्य तेल ६०० रुपए प्रति टिन तक महंगा हो गया। केंद्र को आयात शुल्क घटाना चाहिए। राज्य में मूंगफली तेल की खपत ज्यादा है। उसके भाव काबू में रखने को मूंगफली निर्यात पर रोक लगाएं।
कमला देवी, गृहणी
------
ऑनलाइन क्लास के नाम से स्कूल फीस मांग रहे हैं जबकि कोरोना ने बजट बिगाड़ दिया। कुछ को वेतन कटौती तो कुछ को नौकरी गंवानी पड़ी। केंद्र व राज्य सरकार एेसे अध्यादेश लाएं कि कोरोना काल की पूरी फीस माफ हो।
मृदुला सेठी, इंजीनियर
-----
कोरोना की स्थिति सामान्य हो रही है। केंद्र सरकार को अब यात्री सुविधा के मद्देनजर सभी ट्रेनों को पुन: शुरू करना चाहिए। बड़े शहरों में सभी ट्रेन व वाहन चल रहे हैं लेकिन भीलवाड़ा में अब भी स्पेशल ट्रेन ही चल रही है।
सीमा बापना, गृहणी
------
केन्द्रीय बजट में जीएसटी को सरलीकरण पर ध्यान देना चाहिए। वर्तमान समय में जीएसटी का कंप्लायंस बहुत ही जटिल प्रक्रिया हो गई है। दोनों ही सरकारों को छोटे एवं मध्यम वर्ग को ध्यान में रखकर बजट बनाना चाहिए।
प्रमिला सोमानी, सीए
------
राज्य बजट में निजी चिकित्सालयों की मनमानी पर अंकुश के ठोस कदम उठाने चाहिए। कोरोना वैक्सीन निशुल्क लगनी चाहिए। केंद्र सरकार को लगातार महंगी हो रही रसोई गैस, पेट्रोल-डीजल के दामों पर नियंत्रण करना चाहिए।
प्रतिभा माईती, गृहणी
------
केन्द्र व राज्य सरकार को महिलाओं के लिए विशेष योजना लानी चाहिए। इससे महिलाएं नया काम शुरू कर घर का बजट सुधार सकेंगी। कोरोना समय में चाय, दलहन तक महंगी हो गई थी। इस पर नियंत्रण करना चाहिए।
कोमल खियानी, गृहणी

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned