scriptExercise to save children from possible third wave of corona | breath campaign बालकों को कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बचाने की कवायद | Patrika News

breath campaign बालकों को कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बचाने की कवायद

चिकित्सा विभाग ने चलाया सांस अभियान
5 वर्ष तक के बच्चों की करेंगे जांच

भीलवाड़ा

Published: November 29, 2021 09:08:22 pm

भीलवाड़ा।
breath campaign जिले में बालकों को संभावित कोरोना की तीसरी लहर को रोकने व बाल मृत्यु दर को कम करने एवं 5 वर्ष तक के बालकों में निमोनिया की रोकथाम के लिए सांस अभियान चलाया जा रहा है। जिले में 5 वर्ष तक के बच्चों में मृत्यु के कारणों में से निमोनिया एक प्रमुख कारण है। निमोनिया से शिशु मृत्यु दर कम करने के लिए 12 नवंबर से 28 फरवरी तक सांस अभियान संचालित किया जा रहा है। कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका के बीच बच्चों पर इसके दुष्प्रभाव की अधिक संभावना जताई गई है। ऐसे में इस अभियान के प्रति अधिक गंभीरता से कार्य करने एवं अभियान को सफल बनाने के राज्य सरकार ने निर्देश जारी किए गए हैं।
यह रखनी है सावधानी
आरसीएचओ डॉ. संजीव शर्मा ने बताया कि निमोनिया से बच्चों की सुरक्षा के लिए पहले छह माह में शिशु को केवल स्तनपान कराने, छह माह बाद पूरक पोषाहार देने तथा विटामिन ए की खुराक देने, निमोनिया से बचाव के लिए बच्चों का टीकाकरण कराने, साबुन से हाथ धुलाने व घरेलू स्तर पर प्रदूषण को कम करके किया जा सकता है।
अभियान का उद्देश्य
जिले में बाल मृत्यु को कम करने के लिए सरकार ने सांस अभियान शुरू किया है। जिसका मुख्य उद्देश्य लोगों जागरूकता पैदा करना, निमोनिया की पहचान करने में सक्षम करने के लिए देखभाल कर्ता को जागरूक करना, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के माध्यम से निमोनिया के मिथकों व धारणाओं के बारे में व्यवहार परिवर्तन करना है।
मृत्यु दर के प्रमुख कारण
डॉ. शर्मा ने बताया कि निमोनिया फेफड़ों में होने वाला संक्रमण है। इसलिए सर्दी मौसम में बच्चों को विशेष देखभाल की जरूरत होती है। 5 वर्ष तक के बालकों में निमोनिया के कारण होने वाली मृत्यु अन्य संक्रामक रोगों से होने वाली मृत्यु की तुलना में काफी अधिक है। निमोनिया के कारण मृत्यु दर में, गरीबी से जुड़े कारक जैसे कि कुपोषण, सुरक्षित पेयजल की कमी और स्वच्छता एवं स्वास्थ्य देखभाल मुख्य है। निमोनिया से होने वाली लगभग आधी मौतें वायु प्रदूषण से जुड़ी हैं। इसमें इनडोर वायु प्रदूषण भी मुख्य कारक है।
breath campaign बालकों को कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बचाने की कवायद
breath campaign बालकों को कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बचाने की कवायद

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.