scriptविश्व जनसंख्या दिवस….अभी एक वर्गकिमी में 900 की आबादी, 2031 में 34 लाख होंगे हम | bhopal collecter | Patrika News
भोपाल

विश्व जनसंख्या दिवस….अभी एक वर्गकिमी में 900 की आबादी, 2031 में 34 लाख होंगे हम

शहर में ऐसे बंटी आबादीक्षेत्र एक- 2.05 लाख आबादी। भौरी से बैरागढ़, गांधी नगर तक।स्थिति- एक सिविल अस्पताल, एक मुख्य रोड, गलियों में गंदगी व कीचड़। जलापूर्ति सिस्टम अधूरा। क्षेत्र दो- 3.20 लाख आबादी। कोहेफिजा से इदगाह हिल्स, नारियलखेड़ा, जेपी नगर, रॉयल मार्केट, शाहजहांनाबाद समेत पुराना शहर तक।स्थिति- हमीदिया अस्पताल है। पुरानी बसाहट में 1500 […]

भोपालJul 11, 2024 / 10:55 am

देवेंद्र शर्मा

  • सघन बसाहट में भोपाल, सरकारी से ज्यादा निजी सुविधाओं के भरोसे आबादी
    भोपाल
    इंट्रो…भोपाल की आबादी की तुलना में सरकारी सुविधाएं बेहद कम है। आबादी का राष्ट्रीय औसत 382 व्यक्ति प्रति वर्गकिमी है, लेकिन भोपाल में ये करीब 900 है। 2031 में आबादी 34 लाख पार का दावा है। ऐसे में सड़क से लेकर स्कूल, अस्पताल, पार्क जैसी जरूरी सुविधाओं पर आबादी के अनुसार फोकस करने की जरूरत है।
शहर में ऐसे बंटी आबादी
क्षेत्र एक- 2.05 लाख आबादी। भौरी से बैरागढ़, गांधी नगर तक।
स्थिति- एक सिविल अस्पताल, एक मुख्य रोड, गलियों में गंदगी व कीचड़। जलापूर्ति सिस्टम अधूरा।
क्षेत्र दो- 3.20 लाख आबादी। कोहेफिजा से इदगाह हिल्स, नारियलखेड़ा, जेपी नगर, रॉयल मार्केट, शाहजहांनाबाद समेत पुराना शहर तक।
स्थिति- हमीदिया अस्पताल है। पुरानी बसाहट में 1500 व्यक्ति प्रतिवर्गकिमी में रहते हैं। संकरी गलियों में सुविधाओं की कमी है।
क्षेत्र तीन- 2.21 लाख आबादी। पंचशील नगर, अरेरा कॉलोनी, शाहपुरा, तुलसी टॉवर, वल्लभ भवन क्षेत्र, टीटी नगर से मालवीय नगर।
स्थिति- सबसे अधिक स्लम क्षेत्र व पॉश एरिया यहां है। स्लम में 1200 व्यक्ति प्रति वर्गकिमी तो अरेरा जैसे क्षेत्र में 200 व्यक्ति प्रतिवर्ग किमी आबादी है। निजी अस्पताल व स्कूलों की भरमार है।
क्षेत्र चार- 2.29 लाख आबादी। नेहरू नगर, कोटरा, कोलार तिराहा, चूनाभट्टी, रविशंकर मार्केट तक।
स्थिति- स्लम व सरकारी आवासों का क्षेत्र। सड़क से लेकर अस्पताल और स्कूल तक में निजी के भरोसे।

क्षेत्र चार- 1.93 लाख आबादी। चांदबड़ से सेमरा कलां, अशोका गार्डन, बरखेड़ी, जिंसी।
स्थिति- अवैध कॉलोनी वाला क्षेत्र। 1100 व्यक्ति प्रति वर्गकिमी में निवास। पानी से लेकर जल निकासी और सड़क, स्कूल, अस्पताल तक में सरकारी सुविधाएं नगण्य।
क्षेत्र पांच- 1.79 लाख आबादी। एमपी नगर से सुभाष नगर, कस्तूरबा नगर, गोविंदपुरा, नर्मदापुरम रोड।
स्थिति- शहर के प्रमुख व्यवसायिक क्षेत्र से नव विकसित क्षेत्र शामिल। यहां भी निजी अस्पताल, स्कूल के भरोसे लोग। सड़कें अपेक्षाकृत ठीक है, जलापूर्ति सिस्टम भी ठीक है।
क्षेत्र छह- 2.15 लाख आबादी। खजूरीकला से कोकता हताईखेड़ा, पिपलानी, सोनागिरी, इंद्रपुरी तक।
स्थिति- शहर से लगे ग्रामीण क्षेत्र व भेल से जुड़ी कॉलोनियां। भेल की विकसित सुविधाओं पर निर्भर, निजी स्थापनाओं पर ज्यादा खर्च।
क्षेत्र सात- 2.46 लाख इंडस्ट्रीयल एरिया से अयोध्या बायपास, भानपुर, बडवई, करोद तक।
स्थिति- शहर का औद्योगिक क्षेत्र से लेकर बायपास से शहर से बाहर तक। इसमें सरकारी अस्पताल और स्कूल नहीं है। निजी के भरोसे पूरी आबादी।
क्षेत्र आठ- 1.42 लाख कोलार सर्वधर्म से बैरागढ़ चिचली, रतनपुर सड़क, कटारा, मिसरोद तक।
स्थिति- यहां पूरी आबादी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के भरोसे। शहर के निजी स्कूलों ने इसी क्षेत्र में स्थापना की हुई है। पानी, सीवेज, सड़क अपनेक्षाकृत बेहतर है।
ेऐसे बढ़ी भोपाल की आबादी

  • 1.40 लाख आबादी थी 1921 में भोपाल शहर में
  • 25 लाख पहुंच चुकी है 2024 में
  • 34 लाख आबादी होने का आंकलन किया है 2031 के मास्टर प्लान में
  • 15 गुना बढ़ी है भोपाल की आबादी 100 साल में
  • 2.3 लाख आबादी थी 1951 में भोपाल की
  • 4.66 फीसदी की दर से आबादी बढ़ रही
ऐसे फैल रहा शहर
  • 1975 में 71.23 वर्गकिमी रहा नगर निगम का क्षेत्रफल
  • 1983 में बना नगर निगम, 285 वर्गकिमी दायरा था
  • 2022 में 463 वर्गकिमी तक फैला भोपाल
  • 39 सालों में 178 वर्गकिमी का किया विस्तार

Hindi News/ Bhopal / विश्व जनसंख्या दिवस….अभी एक वर्गकिमी में 900 की आबादी, 2031 में 34 लाख होंगे हम

ट्रेंडिंग वीडियो