मंत्री-आइएएस के बंगले, कोलार रोड और शाहजहांनाबाद में कई पक्षियों की मौत

बर्ड फ्लू को लेकर शिकायत पर पहुंच रही टीमें: 8 सैंपल भेजे, एक-दो दिन में आ सकती है रिपोर्ट

By: Pushpam Kumar

Published: 11 Jan 2021, 02:06 PM IST

भोपाल. बर्ड फ्लू की आशंका के मद्देनजर चार दिनों में चार इमली में मंत्री के बंगले, जनगणना भवन से एक आइएएस अधिकारी, ललरिया गांव से किसानों, कोलार रोड के गणपति इन्कलेव, शाहजहांनाबाद से पक्षियों के मरने की सूचना मिली है।
कलेक्टर अविनाश लवानिया द्वारा गठित तीन टीमों ने मौके पर पहुंचकर गौरेया, कबूतर, कौए और कोयल से मिलती-जुलती प्रजाति के विदेशी पक्षी के आठ सैम्पल जांच के लिए भेजे। रिपोर्ट आने के बाद यदि बर्ड फ्लू की पुष्टि होती है, तो एक बार फिर से जिले में पक्षियों को लेकर सख्ती बढ़ सकती है या अन्य गाइडलाइन भी सामने आ सकती हैं।
कोरोना के बाद बर्ड फ्लू की आशंका देखते हुए जिले में सतर्कता बरती जा रही है। कलेक्टर की तरफ से वेटनरी विभाग की तीन टीमें जिले में पदस्थ की गईं हैं। पिछले कुछ दिनों में ही मिलीं शिकायतों में जनगणना भवन से आइएएस अधिकारी ने शिकायत करते हुए बताया था कि उनके परिसर में चार पक्षी मरे पड़े हैं। मौके पर टीम पहुंची तो तो वहां एक एक पक्षी मरा मिला, बाकी तीन नहीं थे। जांच में वो गौरेया निकली। इसका सैम्पल जांच के लिए भेजा है। मंत्री बंगले-बी 12 से भी एक पक्षी के मरने की शिकायत मिली, लेकिन जांच दल को वो जिंदा मिली। स्थिति ठीक न होने पर उसका उपचार और जांच कराई जा रही है। कोलार रोड स्थित गणपति एन्कलेव से शिकायत मिली की बाउंड्रीवॉल पर एक पक्षी मरा पड़ा है। जांच में वह कौआ निकला, इस सैम्पल को विशेष सावधानी से भेजा गया है। इसी प्रकार ललरिया गांव से शिकायत मिली थी कि वहां चार पक्षी मरे पड़े हैं, लेकिन वहां सिर्फ एक गौरेया मिली और एक कोयल प्रजाति की बर्ड, जिसका सैम्पल जांच के लिए भेजा गया है। शाहजहांनाबाद से भी बाजार में एक कबूतर मरने की जानकारी के बाद उसका सैम्पल भेजा गया है।
पॉल्ट्री फॉर्म में सतर्कता, बैठक बुलाई
जिले में पॉल्ट्री फॉर्म में चिकन की सुरक्षा को देखते हुए वेटनरी विभाग ने पॉल्ट्री फॉर्म संचालकों की बैठक भी बुलाई। 20 पॉल्ट्री फॉर्म संचालक बैठक में भाग लेने आए, जिसमें उन्होंने बताया कि अभी तक स्थिति सामान्य है। वे एहतियाद बरत रहे हैं। जिले में पॉल्ट्री फॉर्म की वास्तविक संख्या का पता नहीं चल पा रहा है।

जिले में पिछले चार दिनों में गौरेया, कौओं, कबूतर और एक कोयल से मिलती जुलती प्रजाति के पक्षी की मौत की खबर मिली। इसमें से दो जगह पक्षी जिंदा मिले। आठ सैम्पल जांच के लिए लैब भेजे हैं।
डॉ. अजय रामटेके, डिप्टी डायरेक्टर, वेटनरी

Pushpam Kumar Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned