भोपाल गैसकांड का आरोपी 4 साल से था फरार, CBI ने गिरफ्तार कर इस हाल में पहुंचाया कोर्ट

मामले के मुख्य आरोपियों में से एक शकील कुरैशी को बुधवार को सीबीआई ने नागपुर से गिरफ्तार करके कोर्ट में पेश किया।

भोपाल/ भोपाल गैस त्रासदी को भले ही 36 साल बीत चुके हैं, लेकिन इस कांड में मरने वालों या उस गैस का दंश आज तक झेलने वालों को अब तक पूरी तरह इंसाफ नहीं मिला। मामले के मुख्य आरोपियों में से एक शकील कुरैशी को बुधवार को सीबीआई ने नागपुर से गिरफ्तार करके कोर्ट में पेश किया। हालांकि, आरोपी का स्वास्थ इतना खराब है कि, वो चल फिर भी नहीं सकता। ऐसी स्थिति में उसे एंबुलेंस की मदद से कोर्ट परिसर में लाया गया। आरोपी की हालत इतनी खराब थी, कि न्यायधीश को अपने कोर्ट रूम से निकलकर एंबुलेंस में ही सुनवाई करनी पड़ी। हालांकि, कोर्ट ने सुनवाई के बाद आरोपी की हालत को देखते हुए उसकी जमानत याचिका को मंजूर कर लिया।

 

पढ़ें ये खास खबर- 15 दिन में आप भी बन सकते हैं उद्योगपति, कई लोगों को दे सकते हैं रोजगार


एंबुलेंस में लगी अदालत

शकील को गिरफ्तार करके सीबीआई को किसी भी स्थिति में आरोपी को आज कोर्ट में पेश करना था। ऐसे में सीबीआई उसे एंबुलेंस की मदद से ही अदालत ले आई। इसके बाद सीबीआई द्वारा आरोपी की स्थिति के बारे में कोर्ट को जानकारी दी गई तो जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार माथुर अपने अधीनस्थाें के साथ कोर्टरूम से उठकर नीचे आए और एंबुलेंस में जाकर आरोपी की शिनाख्त की। आरोपी पक्ष की ओर से न्यायधीश को बताया गय कि, उसका स्वास्थ्य बेहद खराब है, साथ ही वो चल फिर भी नहीं सकता। इसी हवाले से आरोपी के परिजन की ओर से जमानत यािका भी दायर की गई, जिसपर कोर्ट से मंजूरी मिल गई।

news

भोपाल गैसकांड का बड़ा आरोपी है शकील

शकील को भोपाल गैसकांड के पहले काम में अनियमित्ता बरतने वाले मुख्य आरोपियों में से एक माना गया है। निचली अदालत से तो उसे हादसे का बड़ा गुनाहगार करार देते हुए दो साल की सजा भी सुनाई जा चुकी है। बता देंकि, गैस हादसे की रात शकील कार्बाइड फैक्ट्री में एमआईसी प्रोडक्शन यूनिट में ऑपरेटर था। 7 जून 2010 को तत्कालीन सीजेएम मोहन प्रकाश तिवारी ने गैस त्रासदी मामले के आरोपी शकील सहित 7 लोगों को 2 साल जेल और एक-एक लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई थी। इसके बाद भोपाल और इंदौर में रहने वाला शकील अपने 3 बेटों के साथ रातों-रात कहीं गायब हो गया था।

 

पढ़ें ये खास खबर- ऑनलाइन शॉपिंग करने से पहले इन बातों रखें ध्यान, वरना हो सकता है भारी नुकसान


4 साल से फरार था आरोपी

आरोपी के वकील के मुताबिक, भोपाल गैसकांड की रात यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री में गैस रिसाव के दौरान शिफ्ट इंचार्ज और ऑपरेटर रहे कुरैशी पर केस चल रहा था। इसे लेकर निचली अदालत से सजा भी सुनाई जा चुकी है। सजा के खिलाफ आरोपी ने जिला कोर्ट मेंअपील पेश की थी। कोर्ट की फाइल से पता चला कि, 19 फरवरी 2016 से कोर्ट में पेश नहीं हुए। आरोपी के परिवार के मुताबिक, पेशी में न आने कारण उनका स्वास्थ था। यानी बीते चार सालों से ही शकील की हालत इतनी नाजुक बनी हुई है कि, वो चलने फिरन में भी सक्षम नहीं हैंजबकि उनके हालत ऐसे थे ही नहीं कि वह कोर्ट में पेश हो सकें। कोर्ट के आदेश पर सीबीआई भोपाल की टीम ने आरोपी कुरैशी को नागपुर से गिरफ्तार किया है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned