CBSE बोर्ड में बड़ा बदलाव, अब 10वीं और 12वीं के छात्रों को पास होने के लिए लाना होंगे इतने अंक

10वीं कक्षा के छात्रों को पास होने के लिए हर विषय में थ्योरी और प्रेक्टिकल के मार्क्स जोड़कर कम से कम 33 अंक लाने होंगे। वहीं, 12वीं परीक्षा में 70 अंक वाले विषय में 23 अंक और 80 अंक वाले विषय में 26 अंक लाना अनिवार्य होगा।

By: Faiz

Published: 18 Nov 2019, 01:35 PM IST

भोपाल/ केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, यानी CBSE बोर्ड ने 2019-20 के सत्र में पढ़ने वाले 10वीं और 12वीं कक्षा की आगामी साल में होने वाली परीक्षा में पास होने के नियमों में बदलाव किया है। नई व्यवस्था के तहत जिन विषयों में प्रेक्टिकल परीक्षा नहीं होते, उनमें अब छात्रों के आंतरिक मूल्यांकन (Internal assessment) के अंक भी जोड़े जाएंगे। 12वीं परीक्षा में 70 अंक वाले विषय में 23 अंक और 80 अंक वाले विषय में 26 अंक लाना जरूरी है। इतने अंक प्राप्त करने पर ही परीक्षार्थी पास हो पाएगा। बोर्ड द्वारा जारी नए नियम मध्य प्रदेश के सभी 981 स्कूलों समेत देशभर के स्कूलों पर लागू किये गए हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- 13 लोगों से हुई थी इज्तिमा की शुरुआत, इस बार 15 लाख लोगों के आने की उम्मीद, यहां जानिए सबकुछ


इस तरह जोड़े जाएंगे पासिंग मार्क्स

बोर्ड द्वारा नियमों में बदलाव किये जाने के बाद अब 10वीं कक्षा के छात्रों को उत्तीर्ण होने के लिए हर विषय में थ्योरी और प्रेक्टिकल के मार्क्स भी परीक्षा के साथ जोड़े जाएंगे। छात्र को परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए इन सभी को मिलाकर 33 प्रतिशत अंक लाने होंगे। वहीं, 12वीं के छात्रों को परीक्षा में उत्तीर्ण नंबर लाने के लिए थ्योरी और प्रेक्टिकल के साथ साथ इंटरनल मार्क्स भी जोड़े जाएंगे। इन सब के मूल्यांकन में भी अलग-अलग 33 फीसद अंक लाना जरूरी होगा। बोर्ड छात्रों पर बोझ कम करने के लिए 10वीं कक्षा में मार्च 2020 से गणित में दो स्तरीय परीक्षा भी लेने जा रहा है। वोर्ड के मुताबिक, इस संबंध में मध्य प्रदेश समेत देशभर के सभी स्कूलों के पास पासिंग मार्क्स का क्राइटेरिया उपलब्ध करा दिया गया है। इस बारे में एक सर्कुलर जारी किया गया है, जिसमें सब्जेक्ट अंक और उसके हिसाब से पास करने के अंक का ब्यौरा दिया गया है।

 

पढ़ें ये खास खबर- 97 सालों से इस गांव में नहीं बढ़ी जनसंख्या, पूरे विश्व के लिए बना मिसाल


कक्षा उत्तीर्ण करने के लिए जरूरी हैं नंबर

12वीं परीक्षा में 70 अंक वाले विषय में 23 अंक और 80 अंक वाले विषय में 26 अंक लाना अनिवार्य होगा। इतने अंक लाने के बाद ही परीक्षार्थी पास हो पाएंगे। वहीं, प्रायोगिक परीक्षा में 20 अंक में छह अंक लाना जरूरी हैं। सीबीएसई ने 2020 सत्र से सभी विषयों की अंक व्यवस्था में बदलाव किया है। बोर्ड अधिकारी के मुताबिक, जिन विषयों में प्रायोगिक परीक्षा नहीं होती है उन विषयों में इस बार से आंतरिक मूल्यांकन की व्यवस्था की गई है। अधिकतर विषयों में आंतरिक मूल्याकन के तहत 20 अंक रखे गए हैं। वहीं प्रायोगिक परीक्षा 30 अंकों की होगी।


सीबीएसई इस बार से 10वीं कक्षा में मार्च 2020 को समाप्त हो रहे सत्र से गणित विषय में दो स्तरीय परीक्षा लेने जा रहा है। अधिकारी के मुताबिक, इसके तहत एक परीक्षा स्टैंडर्ड गणित और दूसरी बेसिक गणित की होगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- बड़ा खुलासाः जो प्याज बाजार में बिक रही है 40 उसे 50 रुपये किलो में बेच रही है सरकार, देखें VIDEO


प्री-बोर्ड परीक्षा का टाइम टेबल जारी

सीबीएसई ने सभी विद्यालयों से 10वीं व 12वीं की प्री-बोर्ड परीक्षाएं 16 से 30 दिसंबर तक कराने का निर्देश दिया है। प्री-बोर्ड परीक्षा का टाइम टेबल जारी कर दिया गया है। बोर्ड ने प्री-बोर्ड की परीक्षाएं विद्यालयों को दो पालियों में से किसी एक पाली में अपनी सुविधानुसार कराने का निर्देश दिया है। पहली पाली में सुबह 9.30 से दोपहर 12.30 तक रहेगी। वहीं, दूसरू पाली में दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक प्री-बोर्ड परीक्षाएं कराई जा सकती हैं। सभी विद्यालयों में अपलोड विषयवार सैंपल पेपर भी विद्यार्थियों से हल कराए जा रहे हैं, ताकि उन्हें इस बार होने वाली परीक्षा के अनुरूप तैयार किया जा सके।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned