वैक्सीनेशनः शहर में ऑनलाइन तो गांवों में होगी ऑन स्पॉट बुकिंग

अकेले भोपाल में दो दिनों में 75 हजार डोज लगाने का है लक्ष्य

By: Hitendra Sharma

Published: 21 Jul 2021, 09:32 AM IST

भोपाल. वेक्सीन की कमी के चलते शहर में बेक्सीनेशन कार्यक्रम बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। केन्द्र सरकार से वैक्सीन न मिलने से वेक्सीनेशन का आंकड़ा लगातार पिछड़ता जा रहा है। हालांकि, अगले दो दिन में स्वास्थ्य विभाग ने करीब 75 हजार डोज लगाने का लक्ष्य तय किया है। शुक्रवार को 37 हजार डोज लगाए जाएंगे, बाकी के डोज शनिवार को लगेंगे।

Must See: गांव में तीन नवजात कोरोना पॉजिटिव 20 फीसदी लोगों को लक्षण

शहर में अब तक 17 लाख 49 हजार लोगों को वैक्सीन का डोज लगाया जा चुका है। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. उपेन्द्र दुबे के मुताबिक शुक्रवार को जिले में 140 केंद्रों पर टीकाकरण होगा। इनमें से 48 सेंटर ग्रामीण क्षेत्रों में और 56 सेंटर शहरी क्षेत्र में होंगे। शहरी केन्द्रों पर ऑनलाइन बुकिंग के स्‍लॉट दिए जाएंगे, ग्रामीण क्षेत्रों में ऑनस्पॉट बुकिंग की जा सकेगी। कोवीशील्ड के 33 हजार डोज लगाए जाएंगे।

Must See: सांसद, विधायक, मंत्रियों को एक से अधिक पेंशन देने का मामला, हाईकोर्ट ने दिया अहम आदेश

social_distancing_6962595_835x547-m.png

वही दूसरी ओर ग्वालियर में कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए लगाए जा रहे टीकाकरण में अब बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। शहर के सभी सेंटरों पर अधिकांश लोग बिना स्लॉट बुक किए हुए ही पहुंच गए। सुबह 9 बजे तक तो सेंटरों पर हालात यह हो गए कि जिनका नंबर था। वह लोग लाइन में काफी पीछे रह गए, सबसे ज्यादा लोग मुरार और हजीरा सिविल अस्पताल में पहुंचे।

यहां पर जैसे ही टीकाकरण शुरू हुआ तो बिना स्लॉट वाले लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। इन लोगों का कहना था कि हम सुबह से ही लाइन में लगे हुए हैं, ऐसे में हमको पहले वैक्सीन लगेगी। डॉक्टर व अन्य स्टाफ ने लोगों को समझाने का प्रयास किया लेकिन वह मानने को तैयार ही नहीं थे।

इसे देखते हुए मुरार अस्पताल में तो आधे घंटे तक टीकाकरण बंद रहा। वही ऐसे ही हालात हजीरा सिविल अस्पताल में भी बने। इन दोनों ही स्थानों पर पुलिस ने आकर व्यवस्था संभाली और उसके बाद लाइन लगाकर टीव हो सका।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned