अब बदलेगा आपका भाग्य! इस नए परिवर्तन से खुलने जा रही है इनकी सोई किस्मत...

अब बदलेगा आपका भाग्य! इस नए परिवर्तन से खुलने जा रही है इनकी सोई किस्मत...

Deepesh Tiwari | Publish: Jun, 05 2019 06:21:57 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

शुक्र को भाग्य का कारक...

भोपाल। ग्रहों की चाल से लेकर उसकी दृष्टि तक का मानव जीवन पर भारी असर होता है। ज्योतिष के अनुसार ग्रहों की ये चाल ही हमारे जीवन में सुख और दुख लाने के साथ ही मृत्यु पर तक अपना प्रभाव दिखाती हैै। तभी तो कुंडली में एक भाव आयु का भी होता है, जिसे अष्टम भाव कहा जाता है।

ग्रहों की चालों में आए बदलाव या किसी दूसरे ग्रह के साथ एक ही राशि में आने का प्रभाव तक हमें समय समय पर प्रभावित करता है। लेकिन ये बात भी है कि ग्रहों का परिवर्तन एक साथ ही आप पर प्रभाव नहीं दिखाता है, कुछ ग्रह ऐसे भी होते हैं जो परिवर्तन से पहले से ही असर दिखाना शुरू कर देते हैं।

वहीं कुछ ग्रह परिवर्तन होेने के कुछ दिनों बाद से असर दिखाते हैं। जैसे शनि अपने परिवर्तन से पहले ही आपको असर दिखाना शुरू कर देता है। वहीं शुक्र परिवर्तन के कुछ दिनों बाद से असर दिखाना शुरू करता है।

shukra dev

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार आकाश में लगातार हो रहे इन सब परिवर्तनों के बीच 4 जून 2019, मंगलवार को शुक्र ग्रह ने सुबह 11:11 बजे वृषभ राशि में गोचर कर लिया है। वहीं ये अपना असर तकरीबन 6 या 7 जून से दिखाना शुरू कर देगा।

वृषभ राशि में शुक्र 29 जून 2019, शनिवार की प्रातः 01:21 बजे तक स्थित रहेंगे। इस दौरान शुक्र के संचरण से सभी राशियां प्रभावित होंगी।

दरअसल राशियों में शुक्र वृषभ व तुला राशि का स्वामी माना गया है। ऐसे में गोचर काल में शुक्र अपने ही घर पर हैं। इसके अलावा शुक्र को भाग्य का कारक माना गया है, यानि कुंडली के नवम भाव का भी ये स्वामी होता है।

venus transit

माना जाता है कि शुक्र के शुभ प्रभाव से मनुष्य को समस्त भौतिक सुखों की प्राप्ति होती है। शुक्र को वैवाहिक जीवन का कारक भी माना गया है।

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, ग्रहों में बुध और शनि ग्रह शुक्र के मित्र ग्रह हैं और सूर्य और चंद्रमा इसके शत्रु ग्रह माने जाते हैं। शुक्र का यह राशि परिवर्तन प्रेम, लाभ, बिजनस, नौकरी एवं भौतिक सुख सहित कई मामलों में सभी राशियों को प्रभावित करेगा।

effect on your rashifal

अब ये होगा आप पर असर! जानिये उपाय

1. मेष राशि : aries horoscope :

आपकी राशि से द्वितीय भाव में शुक्र गोचर में आएं हैं। ज्योतिष में दूसरे भाव को कुटुंब भाव और धन भाव भी कहा जाता है। गोचर के दौरान आप एक प्रभावी वक्ता के रूप में उभर सकते हैं, अपनी संवाद शैली से आप दूसरों पर अपना प्रभाव छोड़ने में कामयाब होंगे।

परिवार में कोई नया सदस्य जुड़ सकता है। गोचर के दौरान आपको आर्थिक लाभ होगा। आप धन संचय करने में सफल हो सकते हैं। वहीं बिजनेस में पार्टनरशिप के द्वारा आपको लाभ मिलने की प्रबल संभावना दिखाई दे रही है।

उपाय: शुक्रवार के दिन शिव मंदिर में चावल एवं दही चढ़ाएं।


2. वृषभ राशि : Tauras horoscope :

आपकी राशि में शुक्र गोचर करेगा जो प्रथम भाव में स्थित हैं। ज्योतिष में लग्न भाव को स्वयं भी माना जाता है। गोचर के प्रभाव से आपके व्यक्तित्व का विकास हो सकता है।

आपकी पर्सनैलिटी से विपरीत-लिंग के जातक ज्यादा प्रभावित हो सकते हैं। वहीं निजी जीवन में सुधार देखने को मिल सकता है।

इस दौरान आपके मन में कामुक विचार हिलौरे ले सकता हैं। वैवाहिक जीवन में जीवनसाथी और आपके बीच प्रेम और सामंजस्य बढ़ेगा। कुछ छोटी-मोटी तक़रार भी संभव है, लेकिन उन्हें नज़र अंदाज़ किया जा सकता है।

उपाय: उत्तम कोटि के दूधिया पत्थर की अंगूठी अपनी उंगली में धारण करें।

 

3. मिथुन राशि: Gemini Horoscope :

शुक्र आपकी राशि से द्वादश भाव में आएं हैं। ज्योतिष में यह भाव यानि द्वादश भाव व्यय भाव कहलाता है। आपकी कुंडली का यह भाव विदेश यात्रा को भी दर्शाता है इसलिए गोचर के दौरान आप विदेश यात्रा भी कर सकते हैं।

इस दौरान आपको आर्थिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। आपके व्यय भाव में शुक्र का गोचर आपके ख़र्चों में वृद्धि करेगा। आप अपनी भौतिक और शारीरिक ज़रूरतों में अधिक धन ख़र्च कर सकते हैं।

इसके अलावा क़ीमती वस्तु एवं सुविधाओं पर आपका धन अधिक ख़र्च होने की संभावना है। निजी तौर पर भी समस्याओं का सामना करना पड़ है। इसलिए विपरीत परिस्थितियों से लड़ने के लिए ख़ुद को मानसिक रूप से तैयार रखें। गोचर के दौरान वासनात्मक क्रियाओं में आपका ध्यान अधिक रहेगा।

उपाय: भगवान नारायण एवं मां लक्ष्मी जी की आराधना करें।

 

 

 

4. कर्क राशि : Cancer Horoscope :

शुक्र आपकी राशि से एकादश भाव में स्थित हैं।। कुंडली में एकादश भाव को आमदनी का भाव कहा जाता है।

इस के जातकों को गोचर के दौरान आर्थिक रूप से फायदा हो सकता है। यह फायदा आय में वृद्धि, रुके हुए धन की प्राप्ति, आमदनी के स्रोतों में बढ़ोतरी आदि के रूप में हो सकता है। अगर आप इस दौरान शेयर बाज़ार में निवेश करते हैं तो उसमें भी आपको लाभ मिलने की संभावना है। लंबे समय से रुकी हुई आपकी कोई इच्छा पूरी हो सकती है।

लेकिन इस बात का हमेशा ध्यान रखें, परिस्थितियां कितनी भी अनुकूल क्यों न हों, फिर भी आपको आर्थिक फैसले बेहद सोच समझकर लेने चाहिए। किसी महिला के द्वारा आपको मदद मिलेगी।

उपाय: शुक्रवार के दिन कन्याओं को खीर खिलाएं।

 

Venus effect

5. सिंह राशि : Leo Horoscope :

आपकी राशि से दशम भाव में शुक्र गोचर पर हैं। ज्योतिष में दशम भाव करियर, पिता की स्थिति, रुतबा, राजनीति आदि का कारक माना गया है। इसे कर्म भाव भी कहा जाता है।

इस अवधि में कार्य क्षेत्र से आपको शुभ समाचार मिलने के संकेत हैं। आपके कार्य की प्रशंसा होगी और आपके नए विचारों को सराहा जाएगा। यह भी संभव है कि इस दौरान बॉस आपके उत्तम कार्यों से ख़ुश होकर आपको कोई अप्रत्याशित तोहफ़ा दे।

कार्य स्थल पर आप अपना कार्य पूरी ईमानदारी के साथ करेंगे। दूसरी ओर, शुक्र ग्रह के प्रभाव से आपको महिलाओं का समर्थन मिल सकता है। अगर आप में कोई प्रतिभा है तो आप उसे अपना प्रोफेशन बना सकते हैं और इसमें आपको ज्यादा अच्छे परिणाम मिलने की संभावना है।

उपाय: कुत्तों को खाना खिलाएं।

 

 

6. कन्या राशि : virgo Horoscope :

शुक्र का गोचर आपकी राशि से नवम भाव में है। ज्योतिष में नवम भाव को भाग्य भाव कहते हैं। और शुक्र भाग्य के कारक माने गए हैं।

इस गोचर के दौरान आप किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं और यह यात्रा आपके लिए लाभकारी सिद्ध होगी। समाज में आपकी जान-पहचान का दायरा और मान-सम्मान बढ़ेगा।

गोचर के दौरान आप अपने सिद्धांतों और उसूलों को प्राथमिकता देंगे। आपकी धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में सक्रियता बढ़ सकती है और इससे आपको मानसिक शांति का अनुभव होगा।

गोचर के कारण आर्थिक लाभ मिलने की प्रबल संभावना भी दिखाई दे रही है। प्रेम संबंध के लिए समय अनुकूल है परंतु किसी प्रकार की ग़लतफहमी रिश्ते में दरार पैदा कर सकती है।

उपाय: शनि देव की पूजा करें।

 

7. तुला राशि: libra Horoscope :

आपकी राशि से शुक्र अष्टम भाव में स्थित है। वैदिक ज्योतिष में कुंडली के अष्टम भाव को आयुर्भाव कहा जाता है।

गोचर के दौरान आपको अप्रत्याशित लाभ मिलने की संभावना है। आपके जीवन में अचानक से कुछ घटनाएं घट सकती हैं। ये घटनाएं सकारात्मक भी हो सकती हैं और नकारात्मक भी।

ऐसे में वाहन चलाते समय विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। अन्यथा आप दुर्घटना के कारण चोटिल भी हो सकते हैं। इसके अलावा छोटी-मोटी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी को भी हल्के में न लें।

गोचर के दौरान किसी रहस्य को जानने में आपकी दिलचस्पी होगी। धर्म, अध्यात्म एवं शोध जैसे विषयों में आपकी रुचि बढ़ सकती है। इस अवधि में वासना के प्रति आपका झुकाव अधिक रह सकता है।

उपाय: छोटी कन्याओं की पूजा करें और उन्हें खीर खिलाएं।

 

 

8. वृश्चिक राशि : Scorpio Horoscope :

शुक्र आपकी राशि से सप्तम भाव में हैं। ज्योतिष में कुंडली के सातवें भाव को विवाह से जोड़ा जाता है।

यह गोचर आपके लिए उत्तम होने के संकेत दे रहा है। ज्योतिषफल के अनुसार, गोचर के दौरान आपका वैवाहिक जीवन सुखद रह सकता है। जीवनसाथी के क़रीब रहने से आपका रिश्ता और भी मजबूत होगा।

वहीं प्रोफ़ेशनल लाइफ में आपको कोई शुभ समाचार मिल सकता है और यदि आप साझेदारी में व्यापार कर रहे हैं तो आपको उसमें लाभ होने की प्रबल संभावना है।

आप विदेश में अपना निवास स्थान बना सकते हैं। विवाह समारोह में ख़र्चा संभव है। यदि आप अविवाहित हैं तो गोचर के दौरान आप शादी करने का विचार कर सकते हैं।

उपाय: गाय को गेहूं के आटे की रोटी खिलाएं।

 

9. धनु राशि : Sagittarius Horoscope :

गोचर के चलते आपकी राशि से शुक्र षष्टम भाव में हैं। ज्योतिष में इस भाव को शत्रु व रोग भाव कहा जाता है।

इस दौरान आपको प्रेम जीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। आप विरोधियों पर हावी रहेंगे। हालांकि फिर भी अपने शत्रुओं को कमतर समझने की ग़लती बिल्कुल न करें और उनके षडयंत्रों में न फंसें।

अगर आप किसी सरकारी नौकरी या फिर किसी ख़ास परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो सफलता आपको मिल सकती है। बस अपनी तैयारी जारी रखें।
इस दौरान आर्थिक स्थिति कमजोर रहने पर आप बैंक अथवा किसी अन्य माध्यम से लोन ले सकते हैं। क़ीमती वस्तुओं को ख़रीदने में आपका ख़र्च बढ़ सकता है।

उपाय: शुक्रवार के दिन कन्याओं को मिश्री बांटें।

 

 

10. मकर राशि: capricorn Horoscope :

शुक्र गोचर में आपकी राशि से पंचम भाव में है। कुंडली में इस भाव को संतान व बुद्धि भाव से भी जाना जाता है।

ऐसे में प्रेम जीवन में आपको मजा आएगा। प्रिय के साथ रिश्ते और भी गहरे और मजबूत होंगे। गोचर के दौरान प्रिय के साथ रहने का जी कर सकता है। इस दौरान आप उनके साथ अपना क़ीमती समय भी व्यतीत कर सकते हैं। लेकिन गलतफहमी से सावधान रहें।

गोचर के दौरान आप अपनी जॉब में परिवर्तन कर सकते हैं। आय में भी वृद्धि होने की संभावना है। वैवाहिक जीवन में भी जीवनसाथी के प्रति रोमांस अधिक बढ़ सकता है।

उपाय: शुक्रवार के दिन उत्तम कोटि के हीरे की अंगूठी अपने उंगली में धारण करें।

 

Maa Lakshmi

11. कुंभ राशि: Aquarius Horoscope :

आपकी राशि से चतुर्थ भाव में शुक्र गोचर पर हैं। कुंडली के चौथे भाव को सुख व माता का भाव कहा जाता है।

शुक्र का गोचर आपके सुखों में वृद्धि कर सकता है। इस दौरान आपका मन प्रसन्न रहेगा। वहीं घर का वातावरण सामान्य रह सकता है। गोचर के दौरान कार्य क्षेत्र में आपके द्वारा अच्छा प्रदर्शन रहेगा। प्रगति व उन्नति के लिए गोचर आपको शुभ संकेत दे रहा है।

वहीं इस दौरान आप नया घर, प्रॉपर्टी या नया वाहन ख़रीद सकते हैं। इसके अलावा आभूषण आदि भी ख़रीदने की संभावना है। कुल मिलाकर शुक्र का गोचर आपके लिए शुभ रहने वाला है।

उपाय: शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी को लाल पुष्प चढ़ाएं।

 

 

12. मीन राशि : Pisces Horoscope :

शुक्र गोचर के दौरान आपकी राशि से तृतीय भाव में है। कुंडली में तीसरे घर को पराक्रम का भाव व भाई बहनों का घर कहा जाता है।

इस दौरान आपके साहस में वृद्धि होगी और आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। आप दूसरों के सामने अपनी बातों को बेबाकी से कहेंगे। अपनी संवाद शैली से लोगों को प्रभावित करेंगे।

मीडिया, कला, ग्लैमर, अभिनय से जुड़े जातकों के करियर में शुक्र का गोचर फ़ायदेमंद साबित होगा।

कार्य क्षेत्र में अपनी मेहनत के बलबूते आप आय प्राप्त करेंगे। गोचर के दौरान आप अपनी नौकरी में परिवर्तन कर सकते हैं। जीवन साथी को समाज में प्रसिद्धि मिल सकती है। उनकी इस प्रसिद्धि से आपका सीना गर्व से चौड़ा होगा।

उपाय: शुक्रवार के दिन घोड़े को चना दाल खिलाएं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned