अब बाज़ार में नहीं दिखेगी E-Cigarette, मोदी सरकार ने लगाया Ban

अब बाज़ार में नहीं दिखेगी E-Cigarette, मोदी सरकार ने लगाया Ban
अब बाज़ार में नहीं दिखेगी E-Cigarette, मोदी सरकार ने लगाया Ban

Faiz Mubarak | Updated: 18 Sep 2019, 05:58:44 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

हालही में ई-सिगरेट को लेकर हुई जांच में इसे सेहत के लिए हानिकारक पाया गया, इसके बाद मध्य प्रदेश में इसपर प्रतिबंध लगाने की कवायद भी जोरों पर रही थी। अब केन्द्र सरकार ने ई-सिगरेट के उत्पादन, बेचने, इंपोर्ट, एक्सपोर्ट, ट्रांसपोर्ट, बिक्री, डिस्ट्रीब्यूशन, स्टोरेज समेत विज्ञापन पर पूरी तरह बैन लगा दिया गया है।

भोपाल/ मध्य प्रदेश समेत देश के सभी केन्द्र शासित राज्यों में अब ई-सिगरेट नहीं मिल सकेगी, क्योंकि इसपर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को अहम कैबिनेट बैठक में ई-सिगरेट पर पाबंदी लगा दी गई है। कैबिनेट ने भारत में ई-सिगरेट के उत्पादन, बेचने, इंपोर्ट, एक्सपोर्ट, ट्रांसपोर्ट, बिक्री, डिस्ट्रीब्यूशन, स्टोरेज समेत विज्ञापन पर बैन लगा दिया गया है। हालही में ई-सिगरेट को लेकर हुई जांच में इसे सेहत के लिए हानिकारक पाया गया, इसके बाद मध्य प्रदेश में इसपर प्रतिबंध लगाने की कवायद भी जोरों पर रही थी।

 

पढ़ें ये खास खबर- अब बच्चों के फेफड़ों पर मंडरा रहा है ये खतरा, कहीं आपका बच्चा भी तो नहीं करता इस जानलेवा चीज का इस्तेमाल


ये राज्य पहले ही लगा चुके हैं ई-सिगरेट पर रोक

हालांकि, मोदी सरकार के इस फैसले से पहले ही देश के आठ राज्यों ने ई सिगरेट पर प्रतिबंध लगा दिया था, जिनमें राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र, बिहार, केरल, कर्नाटक, मिजोरम और उत्तर प्रदेश शामिल हैं। अब केन्द्र सरकार द्वारा इसपर अध्यादेश लाए जाने के बाद सभी केन्द्र शासित राज्यों को इसका पालन करना होगा। प्रदेश के समाज सेवी और स्वास्थ विशेषज्ञ केन्दर सरकार द्वारा लिये गए इस फैसले को देश के युवाओं के हित में सराहनीय कदम बता रहे हैं। समाज सुधारकों का मानना है कि, सरकार का इस ओर चिंतन युवाओं में नशे की लत पर रोक लगाने और उनको गंभीर बीमारियों से बचाने की दिशा में कारगर कदम है।

 

पढ़ें ये खास खबर- साइलेंट हार्ट अटैक आने से पहले शरीर में दिखने लगते हैं ये खास लक्षण, बेहद खास है ये जानकारी


युवाओं में ही नहीं स्कूली छात्रों में भी बढ़ा था इसका चलन

राजधानी भोपाल के एक बड़े स्कूल की टीचर ने स्कूल और उनका नाम ना बताने की शर्त पर बताया कि, वैसे तो शुरुआत में ई-सिगरेट का प्रचार किसी आम सिगरेट से छुटकारा दिलाने में कारगर के नाम से किया गया था, लेकिन बाद में पता लगा कि, युवाओं में इसी की लत लगने लगी और तो और स्कूल में पढ़ने वाले कई छात्र भी ई सिगरेट के नशे के शिकार होने लगे थे। स्कूल में की जाने वाली इंस्टेंट चैकिंग में कई छात्रों के पास ई सिगरेट पकड़ी गई। पकड़ी गई ई-सिगरेट्स में कई का आकार तो किसी पैन की तरह होता है कि, आमतौर पर देखने में मालूम होता है कि, बच्चे के पास पैन रखा है। यही कारण है की कई बार अभिभावकों को भी पता नहीं लग पाता कि, उनका बच्चा किस खतरनाक नशे का शिकार हो गया है। फिलहाल, सरकार का ये फैसलासराहनीय है। अब जब ये नशे की चीज़ बाज़ार में उपलब्ध ही नहीं होगी तो, बच्चों को इसकी लत से छुटकारा मिल सकेगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाना कैंसर को देता है न्योता, ये गलतियां कर सकती है गंभीर बीमार


ई सिगरेट से हैं ये नुकसान

शहर के प्रसिद्ध मनोचिकित्सक और हेल्थ एक्सपर्ट डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी ने बताया कि, धूम्रपान की लत छुड़वाने के लिए ई-सिगरेट को विकल्प के रूप में प्रचारित किया गया, लेकिन ऐसा करके युवाओं को सिर्फ भ्रमित किया गया है। उन्होंने कहा कि, हालही में केन्द्र सरकार द्वारा इसपर समिति गठित करके अध्यन भी कराया गया, जिसमें सामने आया कि, ई-सिगरेट का सेवन आमजन के स्वास्थ्य के लिए बहुत खतरनाक होता है। रिपोर्ट के मुताबिक, ई-सिगरेट के अधिक सेवन से हृदय और फेफड़ों को काफी तेज़ी से नुकसान पहुंचता है। क्योंकि इसमें अल्ट्राफाइन पार्टिकल, विषैले पदार्थ और पीएम 2.5 (पार्टिकुलेट मैटर) की मात्रा काफी अधिक होती है। इसमें ग्लिसरीन होने की वजह से एक्यूट लंग इंजरी होने का खतरा भी काफी बढ़ जाता है। ई-सिगरेट में ग्लाइकोल प्रोपाईलीन, निकोटिन, ग्लिसरॉल आदि पदार्थ पाए जाते हैं, जो दिमाग के लिए बेहद खतरनाक।

 

पढ़ें ये खास खबर- तेज़ी से फैल रहा है जानलेवा स्क्रब टाइफस, ऐसे पहचाने लक्षण और करें उपचार

 

क्या है ई-सिगरेट

ई-सिगरेट एक तरह का यंत्र होता है, जो एक सामान्य सिगरेट जैसा ही दिखाई पड़ता है। इसमें एक बैट्री और एक कारट्रिज होती है। कारट्रिज में निकोटीन युक्त तरल पदार्थ होता है, जो बैट्री की सहायता से गर्म होकर निकोटिन युक्त भाप देता है। इसे सिगरेट के धुंए की तरह लोग पीते हैं। ये एक बैटरी चालित उपकरण है, जो निकोटीन या गैर-निकोटीन के वाष्पीकृत होने वाले घोल की सांस के साथ सेवन की जाने वाली खुराक प्रदान करता है। ये सिगरेट, सिगार या पाइप जैसे धुम्रपान वाले तंबाकू उत्पादों का एक विकल्प है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned