हेल्थकेयर की एक दिवसीय कार्यशाला

he‘मरीजों से होनी चाहिए खुली बातचीत, मारपीट से हल नहीं होती हैं समस्याएं’

By: jitendra yadav

Published: 11 Mar 2019, 07:43 AM IST

भोपाल. हेल्थकेयर को व्यावसायिक प्रभावों से मुक्त रखा जाना बेहत जरूरी है। इस क्षेत्र में भ्रष्टाचार जड़े फैल रहा है। एेसे में इस सेवा का पूरा लाभ आम आदमी को नहीं मिल रहा। यह बात सर गंगाराम अस्पताल नई दिल्ली के चिकित्सक डॉ. समिरन नंदी ने कही। वे रविवार को द अलायंस ऑफ द डॉक्टर्स फॉर एथिकलीे हेल्थकेयर की एक दिवसीय कार्यशाला में बोल रहे थे।

उन्होंने बताया कि अस्पताल के व्यवसायीकरण को रोकने के साथ चिकित्सा शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग को इससे बचाकर ही इसमें सुधार लाया जा सकता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता एम्स भोपाल की पैथोलॉजी विभाग की एचओडी डॉ. नीलकमल कपूर ने की। उन्होंने कहा कि सिस्टम मे कमी तो है लेकिन डॉक्टरों को चाहिए कि वे भी हेल्थकेयर के मौजूदा संकट को खत्म करने में अपनी भागीदारी निभाए।

कार्यक्रम में मप्र जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.़ सचेत सक्सेना ने बताया कि मेडिकल कॉलेजों से सबंद्ध अस्पतालों में खासी कमियां है। कहीं दवाए नहीं है तो कही उपकरण, इलाज के दौरान मरीजों को दिक्कत होती है। नाराज मरीज जूडा के साथ विवाद करता है।

स्वास्थ्य शिविर में 80 मरीजों की जांच
भोपाल . दवा बैंक संस्था और भोपाल उत्सव मेला समिति की ओर से रविवार को नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। इसमें विशेषज्ञों द्वारा शिविर में आने वाले लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया और जरुरी परामर्श दिया। शिविर में 80 मरीजों की जांच की गई। भोपाल उत्सव मेला समिति के इस अभियान में सहयोग करने का विचार किया जिसमें गरीब लोगों की निशुल्क जांच एवं दवा वितरित की जा सके। इस संदर्भ में महामंत्री संतोष अग्रवाल ने कैंप का निरीक्षण किया और मरीज और डॉक्टरों से चर्चा की। शिविर में कौशल अग्रवाल, मनोज पांडे, सौरभ जैन, संजय सक्सेना सहित कई नागरिक उपस्थित थे।

jitendra yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned