कमलनाथ का बड़ा फैसलाः तमिलनाडू फार्मूले पर प्रदेश में 20% कम होंगे जमीन के दाम

कमलनाथ का बड़ा फैसलाः तमिलनाडू फार्मूले पर प्रदेश में 20% कम होंगे जमीन के दाम

KRISHNAKANT SHUKLA | Publish: Jun, 20 2019 08:52:39 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

रियल एस्टेट सेक्टर में आएगा बूम - तमिलनाडू फार्मूले पर प्रदेश में जमीनों के दाम 20 फीसदी सस्ते होंगे

भोपाल. कमलनाथ सरकार ने बुधवार को कैबिनेट बैठक में बड़ा फैसला लेते हुए तमिलनाडू फार्मूले पर प्रदेश में जमीनों के दाम 20 फीसदी कम कर दिए। हालांकि स्टाम्प ड्यूटी शुल्क 2.2 फीसदी बढ़ा दी। सरकार ने यह कदम मंदे पड़े रियल एस्टेट सेक्टर को बूम देने के लिए उठाया है। अब इस साल जिला मूल्यांकन समितियों के प्रस्ताव पर जमीनों के दाम नहीं बढ़ेंगे।

सीएम कमलनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट में रियल एस्टेट के नए नियमों को मंजूरी दी गई। जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा, वित्तमंत्री तरुण भनोट और वाणिज्यकर मंत्री ब्रजेन्द्र सिंह राठौड़ ने बताया कि कलेक्टर गाइडलाइन में मौजूदा दर से 20 फीसदी की कमी की गई है, लेकिन रजिस्ट्री की दर में गांव-शहर दोनों स्तरों पर बढ़ोतरी की है। अभी ग्रामीण क्षेत्र में 7.3 फीसदी रजिस्ट्री दर है, जो अब 9.5 फीसदी कर दी है। वहीं शहरों में दर 10.3त्न से बढ़ाकर 12.5 फीसदी कर दी गई है।

गाइड लाइन से ज्यादा रजिस्ट्री पर एक्स्ट्रा चार्ज

प्रदेश में अब यदि कोई निर्धारित कलेक्टर गाइडलाइन से ज्यादा की दर पर रजिस्ट्री कराता है तो उसे उस अतिरिक्त मूल्य पर गांवों में 2.1 और शहरों में 5.1 फीसदी स्टाम्प ड्यूटी लगेगी। मसलन यदि किसी ने एक मकान 50 लाख का लिया है, जबकि उसकी कलेक्टर गाइडलाइन 40 लाख तक ही है तो संबंधित को 10 लाख के अतिरिक्त मूल्य पर गांव में 2.1 और शहर में 5.1 फीसदी स्टाम्प ड्यूटी अलग से लगेगी।

बेटी-पत्नी को फायदा

बेटी व पत्नी को संपत्ति में सह-स्वामी बनाने पर राहत मिलेगी। मात्र 1100 रुपए की स्टाम्प ड्यूटी में पत्नी-बेटी को संपत्ति में सह स्वामी बनाया जा सकेगा।

आम आदमी पर 3 बड़े असर

  1. कलेक्टर गाइड लाइन 20 फीसदी कटने से प्रॉपर्टी के दाम कम होंगे, खरीदी बढ़ेगी
  2. पत्नी और बेटी को संपत्ति में स्वामी बनाने पर कुल 1100 खर्च आने से महिलाओं को फायदा मिलेगा।
  3. प्लॉट पर यदि मकान बना है या बनना है तो सिर्फ प्लॉट की रजिस्ट्री नहीं की जा सकेगी, इससे ग्राहक पर स्टाम्प ड्यूटी का भार बढ़ेगा।

ये भी महत्वपूर्ण बदलाव

पारिवारिक विभाजन में स्टाम्प शुल्क 2.5 प्रतिशत से घटाकर 0.5 प्रतिशत कर दिया गया है।
परिवार में चल संपत्ति पर स्टाम्प शुल्क 2.5 फीसदी से घटाकर एक फीसदी कर दिया गया है। 

प्लॉट पर मकान तो सिर्फ प्लॉट की रजिस्ट्री नहीं होगी

प्रदेश में अभी कॉलोनाइजर या व्यक्ति प्लॉट की रजिस्ट्री कराता था और बाद में उस पर मकान बनाने का अलग से अनुबंध करके मकान बनाता था। इससे सरकार को केवल प्लॉट की रजिस्ट्री पर स्टाम्प शुल्क मिलता था। अब नए नियमों के अनुसार, प्लॉट पर मकान के साथ रजिस्ट्री हो पाएगी। इसमें प्लॉट और मकान दोनों के लिए स्टाम्प और पंजीयन शुल्क लगेगा।

आयकर का पेंच ऐसा, मिलेगी राहत

अभी तक आयकर विभाग 20 प्रतिशत टैक्स संपत्ति बेचने वाले पर और 30 प्रतिशत टैक्स संपत्ति खरीदने वाले पर लगाता था। इसमें अब कलेक्टर गाइडलाइन के घटने के कारण कम रेट पर रजिस्ट्री होगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned