भाजपा के दिग्गज नेता ने कहा दिग्विजय सिंह के सामने शिवराज कमजोर प्रत्याशी

भाजपा नेता ने भाजपा अध्यक्ष शाह को लिखी चिट्ठी, मोदी को लेकर कही ये खास बात...

भोपाल। लोकसभा चुनावों से ठीक पहले मध्यप्रदेश में भाजपा ओर कांग्रेस के बीच तगड़े मुकाबले की संभावना बन गई है। सबसे खास बात ये है कि ये सीट भाजपा का किला कहलाती है, जहां करीब 3 दशकों से भाजपा का कब्जा बरकरार है।

लेकिन इस बार इस भोपाल सीट पर कांग्रेस द्वारा अपने दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को उतार दिए जाने से समीकरण बदलते हुए दिख रहे हैं। ऐसे में भाजपा को अब ये सीट अपने हाथ से निकलने का डर बना हुआ है।

भले ही भाजपा इस सीट यानि भोपाल से अपने किसी मजबूत नेता को उतारने की सोच रही है, लेकिन भाजपा के अंदर भी कई नेताओं को ये सीट अपने हाथ से फिसलती हुई लग रही है। जिसके चलते नेताओं में यहां को लेकर असंतोष बना हुआ है।

2019  <a href=Lok Sabha election" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/03/27/lok_sabha_2019_1_4347176-m.jpg">

इन्हीं सब चिंताओं के चलते भाजपा के एक नेता ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को चिट्ठी लिखकर सुझाया है कि भोपाल से दिग्विजय के खिलाफ शिवराज के स्थान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मैदान में उतारना चाहिए।

ऐसे समझें पूरा मामला...
दरअसल भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के पूर्व प्रभारी इंद्रेश गजभिए ने शिवराज सिंह चौहान को दिग्विजय सिंह के सामने कमजोर प्रत्याशी बताया है।

गजभिए ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को चिट्ठी लिखकर सुझाया है कि भोपाल से दिग्विजय के खिलाफ शिवराज के स्थान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मैदान में उतारना चाहिए। गजभिए शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त अनुसूचित जाति वित्त विकास निगम के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

PM Modi

गजभिए ने गुरुवार को मीडिया से कहा कि दिग्विजय बहुत मजबूत उम्मीदवार है। अब भाजपा के लिए यहां की राह आसान नहीं होगी। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के लिए शिवराज जिम्मेदार हैं और उनकी लोकप्रियता में गिरावट आई है। शिवराज पर भ्रष्टाचार के आरोप भी हैं, इसलिए वे दिग्विजय से आसानी से हार जाएंगे।

खुद के लिए भी मांगा टिकट...
गजभिए ने खुद के लिए बालाघाट या शाजापुर में से किसी एक स्थान पर टिकट देने की मांग की है। गजभिए ने कहा कि उन्होंने भाजपा में दलित उत्थान के लिए काम किया है और वे अंबेडकरवादी हैं, इसलिए उनका टिकट पर हक है।

इधर, प्रवक्ताओं को बयान देने के गुर सिखा रही भाजपा
वहीं दूसरी ओर भाजपा एयर स्ट्राइक और एंटी सैटेलाइट मिसाइल जैसे जटिल विषयों पर जवाब देने के लिए अपनी मीडिया टीम को तैयार कर रही है। सभी लोकसभा सीटों पर उस क्षेत्र में मीडिया के लिए काम करने वाले पदाधिकारियों को बताया जा रहा है कि एयर स्ट्राइक, एंटी सैटेलाइट मिसाइल और मोदी सरकार की उपलब्धियों को जनता के बीच कैसे ले जाएं।

भाजपा संगठन को फीडबैक मिला था कि जिलों में तैनात प्रवक्ता और मीडिया से जुड़ी टीम कई मोर्चां पर कमजोर साबित हो रही है। एयर स्ट्राइक को लेकर मीडिया में सही तरीके से जवाब नहीं दिया जा सका। इसके बाद संगठन के निर्देश पर हर लोकसभा में क्लास लगाई जा रही है। ये वर्कशॉप 21 संसदीय क्षेत्रों में हो चुकी है।

यहां दिग्विजय बोले: राहुल से कहा था मेरा क्षेत्र तो राजगढ़...
वहीं दूसरी ओर दिग्विजय सिंह ने भोपाल से उम्मीदवारी के लिए कांग्रेस का आभार माना, लेकिन यहां से चुनाव लडऩे का कारण भी स्पष्ट कर दिया। कांग्रेस कार्यालय में मीडिया से चर्चा में दिग्विजय कहा कि मैंने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से कहा था कि मेरा क्षेत्र राजगढ़ है, लेकिन कमलनाथ चाहते हैं कि मैं कठिन सीट से चुनाव लड़ूं।

दिग्विजय मुश्किल सीट पर फंसाने के सवाल पर हंसे और कहा कि यही मेरा जवाब है। दिग्विजय ने कहा कि उनके दिमाग में भोपाल के विकास का पूरा खाका तैयार है। वे विजन डॉक्यूमेंट तैयार कर रहे हैं।

इसे 15 दिन में जनता के सामने रखेंगे। दिग्विजय ने कहा कि पोलिंग बूथ से चुनाव लड़ेंगे और सामने उमा भारती हों या शिवराज सिंह चौहान जीतकर दिखाएंगे। मुझे बंटाढार कहा जाता है। शिवराज सार्वजनिक मंच पर मेरे साथ उनके 15 साल बनाम मेरे 10 साल पर बहस कर लें, लेकिन वे डरते हैं और भागते हैं।

BJP bjp leader
Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned