scriptbikaner news 10101 | अपंग और बीमार श्वानों का सहारा आरती और प्रीतू का दुलार | Patrika News

अपंग और बीमार श्वानों का सहारा आरती और प्रीतू का दुलार

- सड़कों पर मिलने वाले घायल, बीमार और नेत्रहीन कुत्तों की करते हैं देखभाल

 

बीकानेर

Published: April 17, 2022 10:43:01 am

-दिनेश कुमार स्वामी

बीकानेर. तीन साल की भूरी और चिंकी के पिछले पैर नहीं हैं। तीन माह की पारूल को कुछ भी नहीं दिखता। ढाई माह के हैप्पी को पैरालिसिस है। यह इंसान के बच्चे नहीं, स्ट्रीट डॉग (सड़क पर रहने वाले श्वान) हैं। ऐसे दर्जनों बीमार, घायल कुत्तों का सहारा बना है आरती, प्रीतू और महेन्द्र जैसे युवाओं का बेजुबानों के प्रति प्यार और दुलार। जो सड़कों पर रहने वाले घायल और बीमार श्वानों को अपने बेजुबान वेलफेयर सेंटर में लाते हैं। उनका उपचार करते हैं और ठीक होने तक अपने पास रखते हैं।
अपंग और बीमार श्वानों का सहारा आरती और प्रीतू का दुलार
अपंग और बीमार श्वानों का सहारा आरती और प्रीतू का दुलार
बीकानेर के वेटरनरी चिकित्सालय में चल रहे इस अस्थाई सेंटर को देखकर हर किसी का मन पसीज जाता है। यहां करीब 30 ऐसे छोटे-बड़े श्वान हैं, जिनको खाने, नहलाने से लेकर दवा देने तक का काम युवक-युवतियां कर रहे हैं। मुक्ताप्रसाद बाइपास निवासी आरती को देखते ही स्ट्रीट डॉग्स उन्हें घेर लेते हैं। अब तो बीकानेर के कई गली मोहल्लों में सड़क पर घूमते श्वान उन्हें पहचानते हैं। वे दर्जनों श्वानों को उपचार और देखभाल कर ठीक करने के बाद वापस जहां से लाए थे, उसी मोहल्ले में छोड़ आते हैं।
यूं की शुरुआत

आरती कहती हैं कि तीन साल पहले तक वह बेसहारा कुत्तों को रोजाना सुबह-शाम खाना खिलाने जाती थीं। इस दौरान देखा कि कई बीमार और घायल कुत्तों को खाने से ज्यादा उपचार व देखभाल की जरूरत है। बस एक ठिकाना तलाशा और सड़कों पर बीमार, घायल पड़े कुत्तों को लाकर पशु चिकित्सक की निगरानी में उपचार करवाना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे लोग मदद को आगे आते गए। उनके काम से पुरानी गिन्नाणी निवासी प्रीतू और महेन्द्र सांखला भी जुड़ गए। प्रीतू एक निजी स्कूल में नौकरी करती है। सुबह-शाम और छुट्टी के दिन जितना समय मिलता है, इन बेसहारा कुत्तों की देखभाल करती है। आरती पहले जयपुर में प्राइवेट नौकरी करती थी। श्वानों के प्रेम में ऐसी रमी कि जॉब भी छोड़ दिया। वे बताती हैं कि इस काम में परिवार और रिश्तेदार भी बड़ा सहयोग करते हैं।
जनसहयोग की दरकार

आरती के अनुसार बेजुबान वेलफेयर के नाम से स्ट्रीट डॉग केयर सेंटर बनाने के लिए नाल के पास जमीन ली है। इस पर भवन निर्माण के लिए जन सहयोग जुटा रहे हैं। यह शुरू हो जाएगा, तो शहर में एक भी श्वान उपचार के अभाव में तड़प-तड़प कर दम नहीं तोड़ेगा।
घायल, अंधे और अपंगता के शिकारसड़क पर कुत्ते किसी वाहन आदि की चपेट में आकर घायल हो जाते हैं। किसी के पैर टूट जाते हैं, तो किसी का जबड़ा। कुछ कुत्ते पैरालिसिस का शिकार होने से चल-फिर नहीं सकते हैं। कुछ की आंखों की रोशनी चली जाती है। अभी आरती और प्रीतू के केयर सेंटर में कई पैर कटे श्वान, अंधता और पैरालिसिस के शिकार डॉग हैं।
नामाकरण और भोजन

आरती और प्रीतू बताती है कि स्ट्रीट डॉग का कोई नाम नहीं होता। ऐसे में जब भी किसी बीमार या घायल डॉग को लाती हैं, तो सबसे पहले उसका नाम रखते हैं। अभी तीन महीने की पारूल, चार महीने का जॉनी, तीन महीने का हैप्पी, घूमरिया, चिंकी, रामलहरी आदि नाम के श्वान उनके पास हैं। इनके भोजन पर करीब बीस-पच्चीस हजार रुपए का मासिक खर्च आता है। रोजाना करीब दस किलो दूध मंगवाते हैं। जो छोटे श्वानों को दलिया में डालकर खिलाते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?West Bengal : मुकुल का इस्तीफा- ममता का निर्देश या सीबीआइ का डर?Karnataka Text Book Row : स्कूली पाठ्य पुस्तकों में होंगे आठ बदलावराष्ट्रपति उम्मीदवार Draupadi Murmu पर अभद्र टिप्पणी करने पर डायरेक्टर राम गोपाल वर्मा पर लखनऊ में केस दर्ज, पुलिस ने शुरू की जांचPM Modi in Germany for G7 Summit LIVE Updates: 'गरीब देश पर्यावरण को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं, ये गलत धारणा है' : G-7 शिखर सम्मेलन में बोले पीएम मोदीयूक्रेन में भीड़भाड़ वाले शॉपिंग सेंटर पर रूस ने दागी मिसाइल, 2 की मौत, 20 घायलMaharashtra News: सांगली में परिवार के 9 सदस्यों की मौत आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या थी, पुलिस ने किया चौका देने वाला खुलासाकेन्द्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की Yogi से मुलाक़ात, राष्ट्रपति चुनाव और प्रदेश अध्यक्ष की तैयारी में जुटी भाजपा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.