तूफान में उखड़े बिजली खंभे

ग्रामीण क्षेत्र में लडख़ड़ाई बिजली आपूर्ति, दुरुस्त करने में जुटे कार्मिक

बीकानेर. जिलावृत्त के कई गंावों में बुधवार रात आए तेज तूफान और बारिश के कारण बिजली आपूर्ति व्यवस्था पूरी तरह से लडख़ड़ा गई है। कई गांवों में गुरुवार शाम तक भी बिजली आपूर्ति सुचारु नहीं हो सकी। हलंाकि विद्युत निगम की टीमें दिनभर लाइनों व फॉल्ट दुरुस्त करने में जुटी थी। लेकिन कोरोना के चलते विद्युत निगम के पास श्रमिकों का टोटा पड़ गया है, वहीं दूसरी ओर गुरुवार को भी कई क्षेत्रों में रूक-रूक कर बारिश हो रही थी, इस कारण खंभों, लाइनों को दुरुस्त करने में मुश्किल का सामना करना पड़ा। बीकानेर जिले की कोलायत तहसील क्षेत्र में सर्वाधिक नुकसान आंका जा रहा है। विद्युत निगम से मिली जानकारी के अनुसार तहसील के विभिन्न गांवों में बुधवार रात को तेज तूफान व बारिश से लगभग ५० से ६० विद्युत पोल टूटकर नीचे गिर गए है। इसके साथ बिजली आपूर्ति की लाइनें व कई स्थानों पर ट्रांसफार्मर भी क्षतिग्रस्त हो गए है। इसके बाद से ही विद्युत तंत्र लडख़ड़ा गया। ख्ंाभों को दुरुस्त करना, या नए खंभे खड़े करने में विद्युत निगम को परेशानी झेलनी पड़ रही है। मौसम की मार के कारण बिजली आपूर्ति सुचारु नहीं हो पा रही है।

कया जा रहा आंकलन
बारिश व तूफान से विद्युत निगम को लाखों का नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है। गुरुवार को विद्युत निगम बीकानेर जिलावृत्त के अधिकारी टूटे खंभे, ट्रांसफार्मर व बिजली लाइनों क्षतिगस्त होने का आंकलन कर रहे थे। साथ ही खेतों, ढाणियां और गांवों में दुरुस्त करने का काम भी जारी था। कोलायत तहसील के गांवों के अलावा अन्य तहसीलों के गांवों में भी तार टूटने, खंभे क्षतिग्रस्त हुए है, लेकिन फिलहाल कहां कितना नुकसान हुआ इसका आंकल नहीं हो सका।

काम चल रहा है
देखिए बारिश-तूफान में कितना नुकसान हुआ है कहा नहीं जा सकता है, लेकिन फिलहाल खंभों, लाइनों को दुरुस्त करने का काम किया जा रहा है। जहां जहां संभव है, बिजली आपूर्ति सुचारु की गई है। श्रमिकों की समस्या आ रही है, इसके बाद भी जो भी संसाधन उपलब्ध है, उनके जरिए विद्युत निगम की टीम मुस्तैदी के साथ कार्य करने में जुटी हुई है। अशोक गोयल, अधीक्षण अभियंता, जिलावृत्त बीकानेर

बारिश और तूफान के शहरी क्षेत्र में विद्युत तंत्र की पोल खोल दी। कई स्थानों पर बिजली तंत्र लडख़ड़ा गया। कई क्षेत्रों में बुधवार रात को घंटों तक बिजली गुल रही। वहीं बारिश के कारण शहरी क्षेत्र में करीब डेढ़ दर्जन बिजली खंभें क्षतिग्रस्त होकर गिर गए। कई स्थानों पर बिजली आपूर्ति की लाइनें टूट गई। जिनको दुरुस्त करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा। गुरुवार को भी बिजली कंपनी की एफआरटी टीमें उपभोक्ताओं की शिकायतों को दुरुस्त करने में जुटी थी। नत्थूसर गेट के बाहर रामदेव पार्क के समीप स्थित गवरा दादी शमसान भूमि परिसर में तेज आंधी व बारिश से कई पेड़ टूट कर बिजली लाइनों पर गिर गए। इस कारण वहां एक बिजली का खंभा भी क्षतिग्रस्त हो गया। स्थानीय निवासियों ने बताया कि इसके चलते आसपास के लोगों को आठ घंटे तक अंधेरे में ही रहना पड़ा। शाम करीब पौने आठ बजे बिजली गुल हुई जो रात करीब दो बजे सुचारु हुई।

Ramesh Bissa Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned