बिल्डर ने 31 लाख लेकर फ्लैट रजिस्ट्री करने का दिया झांसा, बाद में दूसरे को बेचा

आशीष को ऑफर पसंद आया और उन्होंने चौथे माले का फ्लैट क्रमांक 402 को खरीदने इकरारनामा कराया। सांई संगम रियलटर्स के भागीदार प्रकाश चंदन सिंदार, पराग पांडुरंग वैद्य व प्रीति वैद्य से सौदा 28 लाख 78 हजार में तय किया।

By: Karunakant Chaubey

Published: 22 Oct 2020, 05:32 PM IST

बिलासपुर. विद्या नगर निवासी व्यवसायी फ्लैट खरीदी के चलते 31 लाख की ठगी का शिकार हो गया। पीडि़त की शिकायत पर सरकंडा पुलिस ने अपराध दर्ज कर मामले को जांच में लिया है। विद्या नगर निवासी आशीष बनर्जी (64) ने लिंगियाडीह में बन रहे दिव्या मांउट में फ्लैट लेने बुकिंग की थी। एजेंट अंजन देव फ्लैट में सारी सुविधा का झांसा देते हुए कीमत 31 लाख बताई थी।

आशीष को ऑफर पसंद आया और उन्होंने चौथे माले का फ्लैट क्रमांक 402 को खरीदने इकरारनामा कराया। सांई संगम रियलटर्स के भागीदार प्रकाश चंदन सिंदार, पराग पांडुरंग वैद्य व प्रीति वैद्य से सौदा 28 लाख 78 हजार में तय किया। व्यवसायी ने अलग-अलग चेक से बिल्डरों को 6 फरवरी 2016 से 8 मार्च 2018 तक 31 लाख 51 हजार का भुगतान किया गया। पूरी राशि जामा होने की बात कहते हुए जल्द ही व्यवसायी को रजिस्ट्री कराने का झांसा एंजेट देता रहा।

गल्ला व्यापारी खरीदारी करने आया था व्यापार विहार, हो गया 10 लाख की उठाईगिरी का शिकार

रजिस्ट्री न होने पर जब आशीष ने पता किया तो मालूम हुआ की फ्लैट को बिल्डर ने किसी और को बेच दिया है। बिल्डर व बुकिंग एजेंट से बात करने पर दोनों गलती को स्वीकर करते हुए दूसरा फ्लैट देने की बात कही थी लेकिन फ्लैट नहीं दिया। आशीष ने पुलिस को बताया कि दो साल घुमाने के बाद बिल्डर ने फ्लैट देने से इंकार कर दिया। पीडि़त की शिकायत पर सरकंडा पुलिस ने धारा 420 के तहत अपराध दर्ज मामले में जांच कर रही है।

ये भी पढ़ें: 7 वर्षीय बच्ची के साथ पडोसी कर रहा था घिनौनी हरकत, गांव वालों ने दौड़ाया तो भाग निकला आरोपी

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned