सुशांत के दोस्त Amit Sadh ने की आत्महत्या की कोशिश, चौथी बार एक्टर की यूं बची जान

By: Shweta Dhobhal
| Published: 21 Nov 2020, 03:17 PM IST
सुशांत के दोस्त Amit Sadh ने की आत्महत्या की कोशिश, चौथी बार एक्टर की यूं बची जान
Actor Amit Sadh Tried To Commit Suicide Four Times

  • एक्टर अमित साध ( Amit Sadh ) ने की सुसाइड की कोशिश
  • छोटी सी ही उम्र में हो गए थे डिप्रेशन के शिकार
  • सुशांत सिंह राजपूत ( Sushant Singh Rajput ) की फिल्म 'काई पो चे' ( Kai Po Che ) में आए थे नज़र

नई दिल्ली। दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ( Sushant Singh Rajput ) के निधन के बाद से इंडस्ट्री में कई गंभीर मुद्दों ने जन्म ले लिया है। जिसमें से एक है मेंटल हेल्थ ( Mental Health ) का मुद्दा। जिस पर काफी लंबे से वाद-विवाद चलता आ रहा है। जिसमें यह बात सामने आई कि मानसिक तौर पर ठीक ना होने पर कई सेलेब्स खुदखुशी को कर बैठे हैं। ऐसे में सोशल मीडिया पर कई सेलेब्स खुलकर डिप्रेशन को लेकर बात कर रहे हैं। साथ ही अपने पर्सनल एक्सपीरियंस को भी शेयर कर रहे हैं। इस बीच अभिनेता अमित साध ( Amit Sadh ) ने भी अपनी जिंदगी का एक ऐसा किस्सा शेयर किया है। जिसमें उन्होंने अपनी जिंदगी से जुड़े कई बड़े खुलासे किए है।

यह भी पढ़ें- 45 साल की हुई एक्ट्रेस Sushmita Sen, 1 नहीं 10 आदमियों के साथ रह चुकी हैं रिलेशनशिप में

 

Amit Sadh

सुशांत के साथ फिल्म 'कई पो चे' ( Kai Po Che ) में काम करने वाले अमित साध बताते हैं कि उनकी लाइफ में एक दौर ऐसा आया था। जब वह पूरी तरह से डिप्रेशन में चल गए थे। वह अपनी जिंदगी से इतना तंग आ गए थे कि उन्होंने एक बार नहीं बल्कि चार पर आत्महत्या करने की कोशिश की। हैरानी की बात यह है कि उस दौरान उनकी उम्र महज 16 से 18 साल ही थी। अभिनेता आगे बताते हैं कि जब उन्होंने चौथी बार सुसाइड करने की कोशिश की तो उन्होंने फैसला लिया कि वह अपनी जिंदगी की मायूसी का सामना करके उससे फाइट करेंगे।

यह भी पढ़ें- कोरोनावायरस की चपेट में आए Salman Khan के दो स्टाफ मेंबर और ड्राइवर, खुद हुए आइसोलेट

 

 

Amit Sadh

उन्होंने अपनी लाइफ में 'नेवर गिव अप' ( Never Give Up ) का मंत्र अपनी जिदंगी पर लागू किया और डिप्रेशन से लड़ना शुरू कर दिया। समय के साथ वह अपनी लाइफ में आगे बढ़ गए। जिसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। अमित ने यह भी बताया कि 'अपनी परेशानियों और डर से लड़ने के लिए एक सकारात्मक सोच को इक्कट्ठा करने के लिए उन्हें करीबन 20 साल लग गए, लेकिन आज उनके पास उनकी जिंदगी को देखने का अलग नजरिया है। वह अब हर चीज़ को पॉजिटिव ढंग से ही देखते हैं।'