जब मंदिर से 100 रुपए चुराने पर अनुपम खेर को पड़ गई थी मार, जाने पूरा किस्सा

By: Shalu Saini
| Published: 26 Aug 2021, 10:05 AM IST
जब मंदिर से 100 रुपए चुराने पर अनुपम खेर को पड़ गई थी मार, जाने पूरा किस्सा

अनुपम खेर बॉलीवुड का जाना माना नाम है, इन्होंने अपनी एक्टिंग के दम पर अपनी एक अलग ही पहचान बनाई है। वहीं इस मुकाम को हासिल करने के लिए अनुपम ने काफी संघर्ष किया है। इतना ही नहीं अनुपम खेर ने अपने एक्टिंग के सपने को साकार करने के लिए मंदिर से 100 रुपए तक चुराए है।

बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर ऑलराउंडर एक्टर्स में शुमार हैं, जिन्होंने हर जॉनर की फिल्मों में काम किया है। चाहे वह कॉमेडी हो या विलेन का किरदार, हर किसी के दार में अनुपम खेर ने अपनी एक्टिंग से जान फूकने का काम किया है, यही कारण है जो उन्हें ऑलराउंडर एक्टर कहा जाता है। अनुपम खेर ने अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया है, यही कारण है कि उनका फैम भी किसी आम लीड एक्टर जितना ही है। गौरतलब है कि सिर्फ 28 साल की उम्र में अनुपम खेर ने अपने करियर की शुरुआत की थी। वही साल 1984 में सारांश फिल्म में उन्होंने एक 60 साल के रिटायर वृद्धि की भूमिका निभाई थी और अपनी अदाकारी से लोगों को चौंका दिया था।

फिल्मों में एक्टिंग करने से पहले अनुपम के थिएटर शो में एक्टिंग किया करते थे। उन्होंने काफी लंबे समय तक स्टेज शो किए थे। आज जो मुकाम हासिल अनुपम खेर ने किया है उसे पाना इतना आसान नहीं था। उनके लिए एक्टिंग की दुनिया में कदम रखना काफी संघर्षों से भरा रहा है। इतना ही नहीं उन्हें इसके लिए चोरी तक करनी पड़ी है। हम आपको अनुपम खेर की ज़िंदगी के एक ऐसे ही किस्से से रूबरू कराने जा रहे हैं जब अनुपम खेर ने चोरी की थी और उसके लिए उन्हें पिटाई भी पड़ी थी। यह कॉलेज के दिनों की बात है जब अनुपम खेर के ऊपर एक्टर बनने का भूत सवार था। अपने कॉलेज के टाइम पर ही उन्होंने एक एड देखा था जिसमें एक्टिंग का कोर्स ₹100 में कराया जा रहा थी और उन दिनों ₹100 छोटी-मोटी रकम नहीं हुआ करती थी। वही अनुपम खेर के घर की आर्थिक स्थिति भी कोई खास नहीं थी, जिसके कारण वह घर वालों से इसके लिए पैसे नहीं मांग सकते थे।

लेकिन अनुपम खेर को तो एक्टिंग का कोर्स करना ही था और इसमें अपना हाथ आजमाना चाहते थे। वही जब घर के मंदिर में उन्होंने 100 रुपए रखे हुए देखे तो उन्होंने उसे उठा लिया। हालांकि चोरी करते हुए उन्हें अच्छा नहीं लग रहा था पर खुद को समझाते हुए उन्होंने कहा कि भगवान कृष्ण भी तो माखन चुराते थे, वैसे ही एक्टिंग के लिए उन्होंने पैसे चुराए है। पैसे लेने के बाद अनुपम खेर घर से पिकनिक पर जा रहे हैं ऐसा कह कर चंडीगढ़ इंटरव्यू देने चले गए। वहीं इसी बीच अनुपम के घर में भूचाल मच गया था, घर के मंदिर में रखे ₹108 में से ₹100 गायब थे, इसके बाद घर में पुलिस बुलाई गई थी। वही जब चंडीगढ़ से अनुपम वापस घर लौटे तो उनसे सख्त लहजे में पूछताछ की गई थी। वही अनुपम का हाव भाव देखकर उनके पिता सब समझ चुके थे। इसके बाद अगले दिन उन्हें गाल पर जोरदार तमाचा लगा दिया गया था। यह तमाचा अनुपम की मां ने रोते हुए उन्हें मारा था।

वही अनुपम ने अपनी मां को सिलेक्शन वाला लेटर दिखाया यह भी बताया कि पढ़ाई के दौरान उन्हें हर महीने ₹200 स्टाइपेंड भी मिलेगा। वही अनुपम ने अपने पिता से कहा कि अब परेशान होने की जरूरत नहीं है मंदिर के ₹100 अब उनका बेटा लौटा देगा।बता दें कि अनुपम खेर की पहली फिल्म सारांश महेश भट्ट की देन थी, जिसके बाद उन्होंने 500 से ज्यादा फिल्मों में काम किया है। अनुपम खेर की अदाकारी ने उन्हें ना सिर्फ फिल्म फेयर अवार्ड से नवाजा है बल्कि वह राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित है। करमा, राम लखन, दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे, हम आपके हैं कौन, कुछ कुछ होता है जैसी कई सुपरहिट फिल्मों का अनुपम खेर हिस्सा रह चुके है।