ऑटोप्सी-विसरा रिपोर्ट से खुलेगें Sushant Singh Rajput केस के कई बड़े राज, 2 दिन बाद सामने आएगी बड़ी सच्चाई

By: Pratibha Tripathi
| Updated: 25 Aug 2020, 01:43 PM IST
ऑटोप्सी-विसरा रिपोर्ट से खुलेगें Sushant Singh Rajput केस के कई बड़े राज, 2 दिन बाद सामने आएगी बड़ी सच्चाई
Autopsy-viscera report will reveal the secrets of Sushant Singh Rajput case

  • सुशांत (Sushant Singh Rajput) के पीएम रिपोर्ट को लेकर उठे कई तरह के सवाल
  • सुशांत के गले पर लिगेचर मार्क होने का जिक्र है

नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) की मौत के दो महिने बीत जानें के बाद यह केस अब सीबीआई (cbi inquiry) के हाथों आ चुका है। सीबीआई (CBI Probe In Sushant Singh Rajput Case) अब इस मामले में काफी तेजी से काम में जुटी हुई है। और सुशांत से जुड़े लोगों के साथ हर पहलू की गहराई से पड़ताल कर रही है। अभी हाल ही में सीबीआई (CBI Team) की एक टीम सुशांत के घर पहुचीं थीं और पूरे मामले को रिक्रिएट भी किया था इसके बाद AIIMS जाकर सुशांत से जुड़ी हर रिपोर्ट पर बारीकी से जांच की। अब ये बात सामने आई है कि सीबीआई (CBI Team) सुशांत की सभी मेडिकल रिपोर्ट्स दोबारा चेक की जाएंगी।

सुशांत के पूरे शरीर की जांच करने के बाद अब एक्टर की साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी (Psychological Autopsy)) कराई जानी बाकि है। अब ताजा जानकारी के मुताबिक एम्स के डॉक्टर सुशांत की दोबारा पूरी जांच करने के बाद उनकी ऑटोप्सी(Autopsy) व विसरा रिपोर्ट(VISCERA SAMPLE) शुक्रवार को सीबीआई को सौंप देंगे। सुशांत की ऑटोप्सी और विसरा रिपोर्ट्स का अध्ययन करने के लिए चार डॉक्टरों की टीम का गठन किया गया है। ये डॉक्टर बहुत गंभीरता से दोबारा जांच करेंगे।

क्या है साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी की अहमियत?

साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी (Psychological Autopsy) के बारे मे यह जानना जरूरी है कि इस तरह की जांच क्यों की जाती है। इस जांच से पुलिस या सीबीआई ये जानने को कोशिश करती है कि ये मामला सुसाइड का है या नही। यदि है तो उस दौरान मृतक की मानसिक स्थिति क्या थी? इसमें यह भी देखा जाता है कि मौत से पहले मृतक का व्यवहार किस प्रकार का था। वो समान्य था या फिर किसी बात में उलझा हुआ था। सामान्य तौर पर वह दोस्तों से कितना मिलता जुलता था। उसके खाने पीने का समय बदला था या नही।

बीते सोमवार को कूपर हॉस्पिटल में जाकर सीबीआई ने डॉक्टरों से कुछ नई जानकारी पाई है. बता दें कि कूपर हॉस्पिटल को डॉक्टरों ने ही सुशांत की पिछली ऑटोप्सी और बाकी मेडिकल रिपोर्ट्स बनाई गई थीं। बता दें कि सुशांत की साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी यानि ब्रेन का पोस्टमार्टम किए जाने से उनके बारे में कई महत्वपूर्ण पहलू सामने आएंगे जो कि जरूरी हैं।