आखिर क्यों हिंदू परिवार के दिलीप को बनना पड़ा ए आर रहमान, खुद बताई धर्म परिवर्तन की वजह

By: Vivhav Shukla
| Published: 06 Jan 2020, 08:29 AM IST
आखिर क्यों हिंदू परिवार के दिलीप को बनना पड़ा ए आर रहमान, खुद बताई धर्म परिवर्तन की वजह

हिंदू से मुसलमान बने ए. आर रहमान, इसके पीछे है दिलचस्प कहानी

नई दिल्ली। Happy Birthday A R Rahman: ए.आर. रहमान जितने छोटे दिखते हैं, उनका कद और मौजूदगी उतनी ही बड़ी है। रहमान कैमरे से शरमाते हैं लेकिन अपने स्टुडियो में वे पूरी रवानगी में रहते हैं।दुनिया भर में अपनी गायकी और संगीत का लोहा मनवा चुके इस संगीतकार का आज जन्मदिन है। ए. आर. रहमान (A R Rahman) आज अपना 53वां जन्मदिन मना रहे हैं। ए. आर रहमान की जिंदगी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। उनके नसीब में जितनी बड़ी कामयाबी आई, उतना ही बड़ा और कठिन संघर्ष भी आया है। आज इस महान संगीतकार के जन्मदिन के अवसर पर हम आपको उनसे जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से बताने वाले हैं।

कुशल पंजाबी की मौत पर आया दीपिका पादुकोण का बयान, कहा- बच सकती थी जान

अपने खूबसूरत गानों से करोड़ों दिलों पर राज करने वाले दिग्गज संगीतकार ए आर रहमान का जन्म 6 जनवरी, 1967 में दक्षिण भारत में मद्रास के एक हिन्दू परिवार में हुआ था।पिता ने इनका नाम दिलीप कुमार (Dilip Kumar) रखा था।लेकिन सालों बाद दिलीप का नाम बदल कर रहमान रख दिया।दिलीप से रहमान बनने के भी एक कहानी है। एक इंटरव्यू में रहमान ने बताया था कि उन्हें अपना नाम पसंद नहीं था। उनको लगता था कि वह उनके इमेज़ से मेल नहीं खाता है। लेकिन उन्होंने अपनी मन से अपना नाम नहीं बदला था।

जानिए A R Rahman ने आॅस्कर अवॉर्ड में जाने से पहले क्यों छोड़ दिया था खाना-पीना

रहमान ने इंटरव्यू में बताया था कि एक ज्योतिषी ने उनका नाम रहमान रखा था। रहमान के मुताबिक उनकी मां को ज्योतिष में बहुत भरोसा था। उपनी बेटी की कुड़ली दिखवाने के लिए वे एक ज्योतिषी के पास गई थी। लेकिन ज्योतिषी ने बहन को किनारे बिठा दिलीप के बारे में बात करने लगे। ज्योतिषी ने कहा कि दिलीप का नाम बदल कर 'अब्दुल रहमान' या 'अब्दुल रहीम' नाम रख दें। जिसके बाद मां ने अपने दीलिप को रहमान बना दिया। हालांकि उस वक्त तक रहमान हिंदू ही थे।

2 साल की बच्ची ने मां संग गाया कबीर सिंह का गाना, आवाज सुनकर दीवाने हो जाएंगे

साल 1986 में पिता के मृत्यु के बाद रहनाम अपने दोस्त के साथ एक कादारी साहेब के संपर्क में आए थे। वो उस कादरी से इतना प्रभावित हो गए की उन्होंने धर्म बदलने का फैसला कर लिया। 23 साल की उम्र में रहनाम ने अपने पूरे परिवार के साथ धर्म परिवर्तन कर लिया।